Santosh Shrivastava

भोपाल , मध्य प्रदेश

Joined November 2018

लेखन एक साधना है विगत 40 वर्ष से बाल्यावस्था से होते हुए आज लेखन चरम पर है । यूनियन बैंक मे कार्यरत के दौरान बैंक के मैगज़ीन, भारतीय रिजर्व बैक के अलावा अन्य बैंक पत्र पत्रिकाओं के अलावा राष्ट्रीय स्तर की मैगजीन में सतत लेखन , काम्पटिशन में अनेक पुरस्कार प्राप्त । कवि गोष्ठी, सेमिनार, परिचर्चा में सहभागिता एवं मंच संचालन। आकाशवाणी से कहानी , कविता पाठन प्रसारण, नाटक स्थानीय एवं हवामहल से प्रसारित। अनेक राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त ।

Copy link to share

मोबाइल तू है सब का साथी

है चमत्कार मोबाइल फोन बैठे रहो कौसो दूर बात होती चंद क्षणों में आधुनिक हो गया है आज मोबाइल बन गया है स्मार्ट... Read more

झूठ न बोले दर्पण

दिनांक 24/6/19 दर्पण विधा - हाइकु हर तरफ परेशान इन्सान देखें दर्पण सुखी मानव आस है बरसात कहे दर्पण न बोले झूठ देख... Read more

जीवन में तपिश

दिनांक 24/6/19 विधा - हाइकु हर तरफ परेशान इन्सान घोर तपिश तपिश अंत बरसे बरसात सुखी जीवन नाराज सूर्य बरसती है आग ... Read more

देश में बढती बेरोजगारी

बेरोजगारी दूर करना के उपाय : - 1 नौकरी पर निर्भरता कम करे 2 कोई काम छोटा नही होता छोटे व्यवसाय से काम शुरु आत करें 3 तक... Read more

समझदार रीना

मयंक की शादी हो गयी थी वह रीना के साथ पुणे आ गया था । दोनों विप्रो कम्पनी में इंजीनियर है । सब ठीक चल रहा था इसी बीच मयंक की माँ रम... Read more

जरूरत है न्याय की

दिनांक 22 / 6 / 19 न्याय उलझा है गवाह और सबूत में अस्मिता लूट रही खुले बाजार में शैतान घुम रहे समाज में बच्चियाँ भयभीत ... Read more

अम्मा जी का आशीर्वाद

कड़ाके की ठंड थी , सब गरम कपड़ो में अपने को ढके थे । अचानक अम्मा जी को निमोनिया हो गया था , और उन्हें अस्पताल में भरती कर दिया ... Read more

महत्व योग का

दिनांक 21/6/19 योग के रंग में रंगी है दुनियाँ हर तरफ हैं योग की खुशियाँ मन शरीर रहे स्वस्थ अब योग है साथी सब का अब ... Read more

बेटी का दर्द

संगीता दो दिन से परेशान और तनाव में है । दो महीने पहले तो उसकी शादी हुई थी और आज वह मायके आयी है । मान्या ने जो भी बताया उससे सं... Read more

चाह छांह की

दिनांक 19/6/19 छांह गुजर रहे है उम्र के उस पड़ाव से जहाँ न धूप है न छांह अलसाई सी है जिन्दगी तलाश है एक ठोर की काटते ... Read more

चाह किनारे की

दिनांक 19/6/19 चलता चल राह ताल तलैया पास किनारा दूर किनारा भटकती है नैया हिम्मत साथी उड़ता पंछी ढूंढता है मुकाम मि... Read more

खेल हार जीत का

दिनांक 18/6/18 छंदमुक्त कविता जिन्दगी है मैदान इन्सान खिलाड़ी खेल खिलाती है किस्मत कभी हार तो कभी गले लगते है... Read more

तलाश जिन्दगी में

दिनांक 17/6/19 छंदमुक्त तलाश है जिन्दगी का नाम गुजर जाती है जिन्दगी ढूंढते मुकाम मन भरता नहीं कभी दौलत, शौहरत... Read more

नीयत साफ

दिनांक 17/6/19 नीयत पिरामिड वर्ण 1 है सही नीयत देता मौला भर झौलियां फकीर दे दुआ मोहब्बत का जश्न 2 क्यूं होती ... Read more

पिता का साया हरदम

दिनांक 16/6/19 देती है माँ संस्कार पिता बनता है संबल माँ सिखाती दुनियांदारी पिता घुमाता दुनियाँ सारी माँ आँचल में है सुख ... Read more

आग और भट्ठी

दिनांक 15/6/19 हाइकु 1 भट्ठी सी धरा इन्सान परेशान हो बरसात 2 गुस्से की भट्ठी जलता है इन्सान बढा ब्लड प्रेशर ... Read more

वृद्धजन - एक मिसाल

"तोरा मन दर्पण कहलाए ,," की स्वर लहरियां ढोलक की थाप के साथ कानों में अमृत घोल रही थी । मैं सुबह घुमने निकला था । घर से दस मकान... Read more

जिन्दगी एक धोखा

दिनांक 14/6/19 पिरामिड वर्ण 1 है झोंका तूफान परेशान होता इन्सान नैया कैसे पार हिम्मत रखो बढों 2 दे झोंका जि... Read more

पाओ सम्मान

दिनांक 14/6/19 विधा - पिरामिड वर्ण 1 है शाख लटकी भरे फल सीख जीवन नम्र बनों झुको पाओ मान सम्मान 2 ओ डाली सुगन्ध... Read more

भारत के वीर सपूत

दिनांक 13/6/19 न तपती रेत की न अपने तन की चिन्ता चिन्ता है तो बस अपने देश की कैसी भी सरहद बर्फ की आग की हर जगह बेखौफ़ है ... Read more

रोजगार चाहिए , नौजवानों को

दिनांक 13/6/19 विधा छंदमुक्त कविता भटकता नौजवान शहर शहर गली गली उम्मीदों के महल न ठौर न ठिकाना लुहावने मज़मून न सांस लेने... Read more

पतंगा हारा जीवन

दिनांक 13/6/19 उड़ा पतंगा है प्यार में पागल मिसाल बना आग से लड़ा जूनून प्यार जीत मरा पतंगा जब पतंगा कूदा लपटों पर... Read more

न रचो कोई चक्रव्यूह साधो

दिनांक 12/6/19 चक्रव्यूह इन्सान रचता रहता है चक्रव्यूह हमेशा अपनों फंसाने के लिए नहीं छोड़ता कोई कसर मारने के लिए कृष्ण... Read more

मितव्ययिता

दिनांक 12/6/19 विधा तांका 1 जीवन चले अविरल सतत जरूरतें है रोटी घर कपड़ा खर्च हो नियंत्रित 2 जीवन गाड़ी जलती है पै... Read more

अपना घर (पिरामिड वर्ण)

दिनांक 11/6/19 1 है घर सहारा परिवार हो छत और साथ खाऐ खाना जीवन खुशहाल 2 लें घर अपना हो सपना सब का पूरा आशीर्वाद म... Read more

लाचार व्यवस्था

दिनांक 10/6/19 विधा छंदमुक्त कविता दुर्योधन के चुंगल में फंसी द्रोपदी देखे आस पांडव बैठे सिर झुकाए कृष्ण ने किया उपाय ... Read more

सब की प्यारी कोयल हमारी

दिनांक 10/6/19 रूप रंग पर जाओ मत मधुर वाणी है सब से मुख्य कोयल की बोली से मन हो उठे मयूर कोयल के सब दीवाने होती जब की... Read more

मेरा मकान , मेरा प्यार

" अब मैं क्या करूँगा , कैसे समय गुजारूँगा ? आफिस में तो काम करते चार लोगों से बात करते समय का पता ही नही चलता ।" रामलाल जी आज अ... Read more

बेबफाईया

बेबफाईया कुदरत से गर्मी और सूखा तड़पता इन्सान प्यासे कंठ Read more

नीम है लाभकारी

विधा - हाइकु कड़वा नीम लाभकारी हमेशा लगाओ वृक्ष उपयोगी है नीम पत्ती औ छाल स्वस्थ हमेशा छाया शीतल आशीर्वाद बुजुर्ग ... Read more

दरकिनार बरसात की

दिनांक 8/6/19 सूखी धरती दरकते खेत प्यासे पंछी दरकिनार है बरसात आदमी हैवान शौषण पानी का सुबकते नदी नाले फैलते शहर प... Read more

जीवन में निडरता , बने तोहफा

दिनांक 6/6/19 लेना जोखिम जिन्दगी में तो बनों निडर हरदम लडता है सिपाही सीमा पर निडरता के साथ पाता है अवार्ड शान के साथ... Read more

सहारा कुदरत का (पर्यावरण दिवस पर विशेष)

दिनांक 5/6/19 कविता लेखन कुदरत कुदरत के भी अपने ऊसूल है दोस्तों तुम उसे जीने दोगे तब वह तुम्हें मरने नही देगा ... Read more

पर्यावरण से छेड़छाड़

कुदरत के भी अपने ऊसूल है दोस्तों तुम उसे जीने दोगे तब वह तुम्हें मरने नही देगा Read more

पर्दा और इज्जत

दिनांक 5/6/19 बहुत इज्जत छुपा कर रखता है पर्दा चौखट की लाज रखता है पर्दा भोपाल का पर्दा और जर्दा रखता है खास अप... Read more

शुद्ध पर्यावरण

दिनांक 5/6/19 विधा हाइकु 1 दे तरू छाया मीठे फल औषधि जीवन खुश 2 गीत चौपाल होली ईद दीवाली वृक्ष आसरा 3 पेड़ ... Read more

याद आती है गाँव का बचपन

दिनांक 4/6/19 बचपन के वो दिन याद आते है अमराई की छाँह , पगडंडी पर दौड़ छूटा जब गाँव दूर हुए चौपाल होली की थाप ईद ... Read more

दीवाना हूँ यारों उसका

दिनांक 4/6/19 दीवाना तो यूँ ही बदनाम है दोस्त कहो उनसे वह इतराये नहीँ अपनी अदाओ पर इतना हर कोई दीवाना होता है ... Read more

भेड़िये

मम्मी भेड़ियों के चार पैर नुकीले नाखून होते है ना। तीनसाल की अनन्या ने मासूमियत से पूछा संगीता ने कहा : "बेटा वह तो जंगल में रहत... Read more

प्रार्थना ईश की ( पिरामिड वर्ण )

दिनांक 3/6/19 1 है माता भक्त की प्रार्थनाएँ हो स्वीकार आशीर्वाद मिले हर पल सदैव 2 जो करे प्रार्थना ईश्वर क... Read more

दुआ दे मेरे मौला

दिनांक 3/6/19 दुआ में है बहुत ताकत दोस्त जहाँ काम आती नहीं दवा दुआ असर दिखा जाती है मत लो बददुआ गरीब की दुआ कब... Read more

चिंता दूर हुई

घर में खुशी का माहौल था , सतीश की बैंक में नौकरी लग गयी थी लेकिन नियुक्ति उसे नागपुर में मिली थी । रमा देवी यह सोच कर परेशान थी कि... Read more

संकटों से जूझो

दिनांक 1/6/19 धैर्य धरो संकट में नैया पार हो जाए नाम जपो ईश का जीवन सफल हो जाए जीवन नैया लेती हिचकोले फंसी ... Read more

जीवन में संस्कारों का महत्व

आलेख - संस्कार चरणस्पर्श - आशीष पाने के साथ साथ वैज्ञानिक तौर से भी लाभकारी भारतीय संस्कृति में चरणस्पर्श का विशेष महत्... Read more

सूना सूना लगता है

दिनांक 31/5/19 (छंदमुक्त कविता) सूना सूना आँगना सूने सूने वृक्ष पंछी सब हैं घोसले सूरज का है तेज बाग बगीचे घर सब सूना ... Read more

कहानी रिश्तों की

दिनांक 31/5/19 प्रारम्भ है तो अंत है जन्म है तो मृत्यु है एक है रिश्ता दोनों के बीच इन्सानियत मोहब्बत का अगर निभा सको तो ... Read more

आग और रिश्ते

दिनांक 30/5/19 मूर्ख इन्सान मत खेल आग से भस्म अस्तित्व नारी ज्वाला रखो मान उसका सुखी समाज थपेडे आग जलता है इन्सान ... Read more

धोखा एक सबक

धोखा तो यूँ ही बदनाम है दोस्तों वरना सीखो सबक धोखों से Read more

न दे मौला बंटवारा

दिनांक 29/5/19 जो झेलता है दर्द बँटवारे का हो जाता है दिल उसका तार तार आजादी के बाद बंटवारे का दर्द सहा है भारती... Read more

जीवन का ध्येय

दिनांक 29/5/19 पिरामिड वर्ण प्रतियोगिता 1 ले हर मानव ये संकल्प शुद्ध रखेंगे जल जमी वायु स्वच्छ सारी दुनियाँ 2 है ... Read more