Copy link to share

बदलता परिवेश

मेरी कलम से....✍ कितना बदल गया ये परिवेश, कितना बदल गया मेरा देश। घर घर में है सन्नाटा और, हर घर में है आज क्लेश।। कितना बद... Read more

साली आधी घरवाली (हास्य/व्यंग)

मेरी कलम से....✍ एक शौहर को जब ये पता चला कि, साली तो होती है आधी घरवाली। तो मन में लड्डू फूटे और, छायी गालों पर लाली।। ... Read more

दबंग आशिक (हास्य रचना)

मेरी कलम से....✍ आशिक भी बड़े गज़ब के होते हैं। तर्क भी बड़े अजब से देते हैं।। कभी तो वो खुद को...., प्यार में पागल बताते ह... Read more

याद आई आज़ादी

मेरी कलम से.....✍ तीन सौ चौंसठ दिन बीत गए, न याद रही कोई आज़ादी। मगर पंद्रह अगस्त आते ही, बरबस याद आई आज़ादी।। चलो भूले बिसरे... Read more

क्यूँ आता है बुढ़ापा

मेरी कलम से.....!! बुढ़ापे का दर्द वही जान सकता है जिसपर बीती हो। इसी को मैंने कलम से पन्नों पर उतारने की एक कोशिश की है। 🙏🙏🙏🙏 न ज... Read more

तस्वीर-ए-दिलबर

इस शहर की रंगीनियों में, खोए हुए दिलबर को ढूंढ़ता हूँ। दिल में तस्वीर लिए दिलबर की, हर किसी से उसका पता पूछता हूँ।। लोग कहते ह... Read more

तुम गुलाब हो

गुलाब की तरह हो तुम, खिलती महकती सी। आज़ाद परिंदे की मानिंद, आसमाँ में उड़ती सी।। वो तुम्हारी मस्त आँखें, वो तुम्हारा अल्हड़पन। ... Read more

वो पहली मुलाकात

उस पहली मुलाकात की यादें, आज भी दिल में समाई हुई हैं। जब तुम पहली बार मुझे मिली थी, फिर वो मोहब्बत की कली खिली थी।। फिर हम चले... Read more

सिलसिला मुलाकातों का

कोई अपना सा लगने लगा, सिलसिला मुलाकातों का चलने लगा। अपने हमख्याल का साथ पाकर गम खुशियों में बदलने लगा।। उनकी मीठी बातों में, ... Read more

उस लाल की कुर्बानी

मेरी कलम से.....✍ (एक छोटी सी श्रद्धांजलि उन माँ भारती के वीरों को, जिन्होंने शहादत देकर तिरंगा झुकने नहीं दिया। आइये नमन करते हैं ... Read more

पंजाबी कविता

मेरी कलम से..... पंजाबी कविता। भाँवे जा इंग्लैंड हीरीये, भाँवे जा कनाडा। छेत्ती मुड़ के आजीं सोह्निये, दिल नी लगणा साड्डा।। ... Read more

क्योंकि...मैं लेखक हूँ।

मेरी कलम से..... मैं लेखक हूँ, कवि हूँ, शायर हूँ। मैं लिखता हूँ अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए, मन में छिपे कुछ मौन शब्दों ... Read more

ज़िन्दगी के रंग

मेरी कलम से..... कभी हम भी हँसा करते थे, कुछ दोस्तों के संग.....! समय बदला मौसम बदले, बदल गए सब रंग.….!! सब कुछ छूटा, ज़िम्... Read more

मोहब्बत बेबस नहीं

मेरी कलम से.... चांदनी का यौवन खिल रहा है, देखो चाँद चकोरी से मिल रहा है। आओ उनके मधुर मिलन के, हम भी गवाह बन जाएं। ये मोहब्ब... Read more

तेरे लिए

(महबूबा के खफा हो जाने पर महबूब क्या कहता है?अर्ज़ किया है।) ___________________________ सीने से लगके सुन लो ज़रा, दिल धड़क रहा है त... Read more

देखो आ गई सर्दी

अपना रंग दिखा कर, गर्मी अब बूढ़ी हो गई। सर्दी ने जवानी की, दहलीज़ पर रखा कदम, और वो नवयौवना हो गई।। अब जायके का दौर, शुरू हो जाए... Read more

सिर्फ चार आना।

*सिर्फ चार आना* बूढ़े पिता ने खांसते हुए कहा, क्या था वो हमारा ज़माना। तीज त्योहार की हर खुशी, मिलती थी सिर्फ चार आना।। एक कमाता ... Read more

एक और दीवाली

*एक और दीवाली* अब एक और दीवाली आ गई, हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी, दीवाली का दिल से स्वागत है। मुझे पता है मुझे दीवाली के स्वागत ... Read more

जीवन की परिभाषा

कवि संजय गुप्ता कभी सजना कभी संवरना, कभी मायूस हो जाना। कभी धूप की तपिश, सुनहरे सपनों की आशा। यही तो है जीवन की परिभाषा।। कभ... Read more

तन्हा सफर ज़िन्दगी

रचनाकार, कवि संजय गुप्ता। मैं चला था अकेला सफर में, पहुँच गया एक अनजान शहर में। कुछ चेहरे नए और अजनबी से, कुछ प्यारे तो कुछ म... Read more

एक प्यारी सी सुबह

मेरी कलम से........ आज तुमसे पहले मैं जाग गया, खिड़की के परदे को हटाया। तो सूरज की सुनहरी किरणों ने, तुम्हारे चेहरे पर चुम्बन क... Read more

काश! मैं परिंदा होता।

मेरी कलम से....... संजय गुप्ता *काश! मैं परिन्दा होता* काश! मैं परिंदा होता, जिसका न कोई जाति मज़हब होता। धर्म के नाम पर न ब... Read more

अरमान पूरे हुए दिल के

मेरी कलम से.......(संजय) " अरमान पूरे हुए दिल के " एक मुद्दत के बाद एक लम्हा मिला, जिसमें ख्वाबों को सजाने का मौका मिला । धड़... Read more

अधूरे ख्वाब

अपनी मायूसी छिपाने के लिये, हंसी चेहरे पर दिखाता रहा । दिल पर चोटें लगी बहुत, मगर जख्मों को छिपाता रहा ।। रोशनी से डर जाता हूं... Read more

जीवन एक संघर्ष

मुश्किलें तो आती है जीवन में, मगर रास्ते भी बन जाते हैं। डटकर सामना करते हैं जो मुश्किलों का, सच्चे योद्धा वही कहलाते हैं।। जी... Read more