Sangeeta Sharma kundra

Chandigarh

Joined October 2018

Poet
Sangeetasharmakundra.blogspot.com.

My Book “Zindgi” on poems is published which is sponsored by Chandigarh Sahitya Acadmy and is available on amazon and flipkart.
Awarded by “Yuva Sahityakaar Samman 2019 “at Bihar Hindi Sahitya Sammelan Shatabdi Samaroh at Patna by Central Law Minister Mr. Shiv Shankr Prasad.

Copy link to share

981 चाहा है तुझे

वो तअस्सुर( प्रभाव) है तेरी आँखों में। कि ,खिंचता ही चला जाता हूँ। तू ही कायनात, तू ही जान ए हयात। बिन तेरे, मिटता ही ... Read more

1252 प्यार ही जीवन है, जीवन है प्यार(Pyaar hee jeevan hai, jeevan hai pyaar) Love is life, life is love

प्यार ही जीवन है, जीवन है प्यार, इच्छा.. खुद से प्यार ,ज्ञान...सच्च से प्यार। प्यार पाने के तरीके हों चाहे अलग, पर प्यार कितना... Read more

1195 चाहत

तेरी छोटी सी ये शरारत , तब्दील हुई, बन गई चाहत। दिल हो गया तेरा दीवाना, देख तेरे बदन की नजाकत। ख्याल आते ही तेरा... Read more

1171 जय जय जय जय हिंदुस्तान

कर ले तू कुछ अच्छे काम , छोड़कर आलस और आराम। छोड़ कर होना नाकाम , आज तू मन में ले ठान । नहीं होना है बदनाम। छू लेना है आसमान । ... Read more

784 नये साल के नये पल

मुड़ के देखा तो समय का पंछी उड़ गया था। कैसे बीता वह समा ,जो कल तक तो नया था।।g आने वाले दिनों की, सोचें थी, मन में तब कितनी। ... Read more

708 तेरे बग़ैर जीना सीख लिया था

तेरे बग़ैर जीना सीख लिया था। खुशी को करीब लाना सीख लिया था। जो तुम ना आते सामने मेरे यूं, हमने भी हंस हंस के जीना सीख लिया था। त... Read more

1110 स्त्री पुरुष

स्त्री पुरुष के संगम से, बनता यह संसार। जब तक तार जुड़े नहीं, बाजे नहीं सितार। पावन रूप यह हो जाता, जब मन में होता प्यार। प्... Read more

1111 इंतजार है तेरा

सुहानी शाम में इंतजार है तेरा। तुझे मिलने को सनम दिल बेकरार है मेरा। ख्वाब तेरे सज रहे हैं इन आँखों में। तुझे सामने पाने को दिल ब... Read more

1108 अपना पैमाना खुद बन

तू निम्न है या उत्तम यह कोई और तय नहीं करेगा। तुझे अपना पैमाना खुद ही बनना होगा। कोई और , जिसमें तेरे जैसी गुणवत्ता नहीं, कैसे ना... Read more

1102 तेरी आदत हो गयी है मुझे

तेरी आदत से मजबूर मैं। हो नहीं सकता तुझसे दूर मैं।। साँस बिन तेरे लेना है मुश्किल। बिन तेरे कहाँ धड़कता है ये दिल।। तू ही मेरा स... Read more

1100 वक्त के फैसले

SQ1100 वक्त के फैसले (Wakt Ke Feisle) जो हम चाहे़ं वही हो ,ऐसा हर बार नहीं होता। वक्त भी कुछ फैसले लेता है जिंदगी के। बहुत सोचते ... Read more

1072 इश्क का जिक्र

इश्क का जिक्र नहीं होता । इसकी तो खुशबू फैलती है । खुशबू जब फैलती है तो , जिक्र नहीं सिर्फ एहसास होता है। इश्क के एहसास में ... Read more

1069 दिन रात

दिन बीतें, जानूँ न कैसे। रात भी बीत जाए है वैसे।। दिन रात ही, यह धरती घूमे। और दिन-रात बनाए ऐसे।। इस दिन रात के खेल में। दुनिया... Read more

467 शुभ मंगल सावधान( पर्यावरण) दीवाली स्पैशल

दिवाली के शुभ मंगल दीप जलाओ। पर सावधान।। दिवाली है खुशियां मनाओ। पर सावधान।। शुभ मंगल दिवाली को रहने दो मंगल। पटाखों की आग, शोर... Read more

1073 चंडीगढ़ की सुखना

लहरें सुखना की देखो, कैसे यह चमकती है। सूरज की किरणें पड़ती है तब, हीरे सी यह दमकती है। इस पर चलती रंगबिरंगी नावें, अल... Read more

1070 रहते हो दिल के पास

दूर हो तुम, फिर भी दूर नहीं। रहते हो सदा दिल के पास कहीं। जब चाहूँ मैं तुमसे बातें होती हैं। होता दूरी का एहसास नहीं। आँख बंद ... Read more

1059 कुम्हार की पुकार

दिये माटी के बनाए हैं मैंने। कर लेना अपने घर में तुम उजाला। जो ले जाओगे मेरे पास से तुम, मेरे भी घर में हो जाएगा उजाला। बड़ी ... Read more

1053 झूमती हवा

हो जाता है मन बावरा। पी को ,इस बात का, ऐ हवा , तू दे पता। झूमती है जब हवा। धड़कता है दिल मेरा। कैसे संभालू धड़कन को, तू ये ज... Read more

1046 ना जल सखी री

क्यों जलती हो सखी तुम। मेरे पी के प्यार से। तुम्हारे दिन भी आ जाएंगे। बीत जाएंगे दिन इंतजार के। समां मेरा बीत रहा है, आज प्या... Read more

1035 अनकहा प्यार

1035 अनकहा प्यार (Ankaha Pyaar) मैंने छुपाना चाहा हर बार। फिर भी छुपा ना पाया मैं प्यार। रोका मैंने अपना इज़हार। करता रहा तेरा ... Read more

1049 छटपटाती जिंदगी

छट पटा रही है जिंदगी ऐसे। जैसे टूटे हुए दांतों में जीभ । ज़रा भी मर्जी से हिलने नहीं देते। हिल जाए तो देते हैं तकलीफ। जरा सा ... Read more

1047 इन कलियों को खिलने देना (बेटी दिवस)

बेटी..... तेरे पैदा होने की खुशी, आज तक में मना रहा हूँ। शुक्रगुजार हूँ तेरा, मैं दिल के टुकड़े, तेरे होने से जिंदगी का जश्... Read more

1014 श्याम की बँसी, राधा की पायल

श्याम की बँसी, राधा की पायल, से जब, जग गुँजायमान होता है। राग सजता है, धुन बजती है, धरती पर स्वर्ग सा गुमान होता है। नाचने लगत... Read more

1001 वह रात

वह रात में नहीं भूल पाया। जब मैं तुमसे मिलकर आया। सोचा था तू है अपनी, पर तूने समझा मुझे पराया। वह रात जब मैंने सब कुछ कहा। अ... Read more

998 ऐ मेरे दोस्त

तुमने मेरी दोस्ती को ना पहचाना। जरा सी बात का बना दिया अफ़साना। जरा अगर तू, सोच कर देखता। न यूँ समझता तू मुझको बेगाना। ज़रा द... Read more

989 जा लौट जा

क्या मिलेगा तुझे यूँ, दूर से मुझको देखकर। तड़प तेरी बढ़ती रहेगी, इस तरह दिल फेंक कर। वह दिन अब बीत गए, जब हुए थे एक हम। बिख... Read more

986 कर हिम्मत

क्यों डुबो रखा है खुद को ,नशे के जाल में। कर हिम्मत और खुद को इस भँवर से निकाल ले। जिंदगी हो जाएगी खत्म यूँ ही बेहोशी में, कर ह... Read more

964 रहगुज़र

तेरी रहगुज़र से न जाने, गुज़र गए कब। विरानगी का ना आया,ख्याल ,गुजरे जब। तेरी रहगुज़र से.........। ख्यालों में मेरे, तू आई ,ना ग... Read more

980 खुद में ही खुशी ढूँढ कर मैं जीता रहा

जमाने की खुशियाँ, मिली जो ना मुझको। खुद में ही खुशी को ढूँढ कर मैं जीता रहा।। बेगाना समझ कर, तड़पाया तूने मुझको। इसी गम को दूर... Read more

966 ज़िदगी का सफर

भरोसा नहीं है पल भर का भी इस डगर में। कब लग जाए पूर्ण विराम इस सफर में। कभी फूलों भरी, कभी कांटों भरी है राहें। कहना है मुश्किल, ... Read more

965 ऐतबार

ऐतबार की बात ना पूछ, हमें उनके हर लफ्ज़ पे ऐतबार है। वो करें ना करें हमसे, मान लेंगे हम, जो कहें हमसे प्यार है। रहगुजर है जो... Read more

960 खारों की बस्ती

खामोशी है हर तरफ, गुल गुलशन मुरझा गए। खारों ( कांटों )ने बस्ती सजाई है। चाँद ने भी खो दी चाँदनी। गुल तिश्रन्गी में मर्ग (खत... Read more

955 तेरा इंतजार

बैठा हूं तेरी याद में दिलबर, कैसे मिटाऊँ तनहाइयाँ। जो तू आ जाए मेरी जिंदगी में, बज उठे शहनाइयाँ। याद तेरी में काटना ... Read more

मेरे सनम

मेरे सनम तुझे मेरी कसम। मुझे तेरी कसम। साथ मेरे तू , रहना सदा। मैं सदा ही, रहूंगा तेरा। हर जन्म हर जन्म हर ... Read more

951 उलझे शब्द

कभी-कभी शब्दों में यूँ उलझ जाता हूँ। कि शब्द कहाँ से कहाँ जा पड़ते हैं। कुछ समझ ही नहीं पाता हूँ। कभी-कभी शब्द यूँ भाग... Read more

952 सुना हाल ए दिल

सुना हाल ए दिल तू अपना, मेरा भी हाल सुन। ना बैठ तू यूँ चुपचाप ,ना रहे यूँ गुमसुम। कोई तस्वीर बना ऐसी, जो दिल में उतर जाए। छेड़ ... Read more

947 बचपन के वो दिन

बचपन के वो दिन। गए हमसे जो छिन। कितने प्यारे थे वो दिन। बचपन .........दिन। दौड़ लगाते बागों में, करते फूलों से प्यार। जिन प... Read more

945 तेरे लफ्ज़ तेरी बातें

तेरे लफ्ज़ों ने दर्द दिया मुझको, तेरी बातों ने गम। फिर उन्हीं बातों, उन्हीं लफ्ज़ों ने लगाया मरहम। क्यों ऐसा होता है, ए मेरे सनम... Read more

943 अपने बेगाने

सोचा था जो अपने हैं, हरदम साथ निभाएंगे। क्या मालूम था हमें, वो यूं बेगाने बन जाएंगे। क्या है पैमाना अपने बेगाने का। क्या पैम... Read more

942 जुदाई

ऐसी तन्हाई है छाई। की दिल की धड़कन, भी देती है सुनाई। याद जब तेरी आई। टिक गई निगाह कहीं, और आँख भर आई। जब से हुई जुदाई। ... Read more

904 बारिशों का मौसम

यह बारिशों का मौसम है , पानी से हलचल हर ओर है । धरती महकी माटी की खुशबू से , खिला इसका कणकण हर ओर से। कभी आँधियां आती हैं जोर... Read more

903 मज़दूर की आवाज

मेहनत से मैं घबराता नहीं। मेहनत से कभी दूर जाता नहीं। बस जो हक है मेरा, मैं उसे कभी पाता नहीं। जरा गौर करो अपने आसपास, उपयोग... Read more

900 आजा सब छोड़ कर

बसा ली उन्होंने नई दुनिया, हमें छोड़ कर। क्या मिला उन्हें ,इस तरह दिल मेरा तोड़ कर। उनके लिए पास आ गए थे हम सब कुछ छोड़ कर। एक... Read more

897 आँसू

आँखों के सागर में समेटे रखता हूँ आँसुओं को। डरता हृँ, कहीं बह न जाएं, किसी के सामने। दर्द सारा सँभाल रखा है सीने में अपने, डरता ह... Read more

894 जिंदगी की ट्रैफिक लाइट

जिंदगी है ट्रैफिक लाइट जैसी। जिंदगी की ट्रैफिक लाइट। लाल बत्ती रहती है जब, जीवन ठहर सा जाता है। कुछ होनी ,अनहोनी का, डर जैस... Read more

869 जब करो तो सोचो नहीं

काम कोई भी मुश्किल नहीं। बस ,जब करो तो सोचो नहीं। कुछ दिमाग के हैं काम। तो कुछ हैं, बाहुबल के। बस ,जब करो तो सोचो नहीं। सोच त... Read more

868 बता मेरा कसूर क्या था

बदल गई नजर जो तेरी, बता मेरा कसूर क्या था। इश्क मुझे हुआ, ना तूझे हुआ, बता मेरा कसूर क्या था। आंखे तेरी है मय से भरी, नजर जो... Read more

866 अरदास करां

गुरु वाणी दा पाठ करां। तेरे आगे अरदास करां। कन्ना विच जेहडे़ शब्द पैण। उन्हानू आत्मसात करां। गुरु वाणी दा पाठ करां। तेरे आ... Read more

867 बुझ तो सबको जाना है

दीया हो या सूरज। बुझ तो सबको जाना है। दिये को तो फिर भी मैं जला रखूं कल तक। सूरज को तो आज की आज ही, बुझ जाना है। कोई कितना भ... Read more

865 देश के वीर

देश के वीरों ने दे कर जान। मां भारत की रखी शान। दि धी आजादी की जंग को चिंगारी। भारत माँ सदा तुम्हारी रहेगी आभारी। तुम थे देश... Read more