Copy link to share

हमारी बेटी

हमारे मन को समझती है हमारी बेटी | कभी भी जिद नहीं करती है हमारी बेटी || मैं जब भी देखता सफ्कत भरी निगाहों से | मेरे गुनाहों को... Read more