3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है “साझा नभ का कोना” तथा “साझा संग्रह – शत हाइकुकार – साल शताब्दी” तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है “कलरव” | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

Copy link to share

प्रेम - आस्था और ऑनर किलिंग

मैं लगभग पिछले १५ दिनों से इस विषय पर लिखने की रूपरेखा बना रहा था | इस बीच सोशल मीडिया पर एक घटना वायरल हो गयी, इस घटना से इस विषय प... Read more

उम्मीदों के मोजे

उम्मीदों के मोजे **************** कड़कड़ाती निष्ठुर ठण्डी के बीच चलो शहर का एक चक्कर लगा आयें कुछ मासूमों ने टांगे हैं उम्मीद... Read more

सेवा

लघुकथा - "सेवा" *************** "माँ , जल्दी से पानी ले आओ, और फिर मस्त सी चाय पिला दो।" मोहन ने घर में घुसते हुए माँ को आवाज ल... Read more

याद शहर

' याद शहर ********* एक रोज मै याद शहर में यूँ ही उदास बैठा था। सड़क पर कोहरे की चादर फ... Read more

क्रिकेट मैच ( जिन्दगी और मै )

क्रिकेट मैच (जिन्दगी और मै) ___________________________ जिन्दगी से क्रिकेट मैच में  मेरी नाबाद पारी जारी है  चतुर कप्तान ... Read more

“जीता हूँ मैं”

हर रोज़ बिखरता हूँ टुकड़ों में फिर भी हर टुकड़े में जीता हूँ नशा है ज़िन्दगी के ज़ाम में फिर भी हर रोज़ ज़ाम पीता हूँ हर बात बेबाकी... Read more

प्रेम में पीएचडी

एक छोटी सी लम्बी कहानी " प्रेम में पीएचडी " वर्ष २००७ की जुलाई माह का प्रथम दिन था और सोहित पहली बार अपने गाँव के स्कूल से बाहर प... Read more

मेरे जज्बात

मेरे जज्बात ********* जब भी देखता हूँ मैं तुझे मेरा दिल भर आता है कितनी खुशमिजाज है तू कितनी खूबसूरत है तू कितनी दिलकश है तेरी... Read more

जीने की वजह

मुट्ठी भर लम्हातों का सिलसिला है ज़िन्दगी कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं, कुछ नहीं है हमारा जिसको अपना कह सकें, बस ... Read more

वो हराभरा पेड़

कल तक यहाँ एक हरा भरा पेड़ हुआ करता था जिसकी छाँव में गाँव के बच्चे खेला करते थे युवाओं की नयी योजनाये बनती थी बुजुर्गों की चौपा... Read more

सच्चा हमसफ़र

"सच्चा हमसफ़र" एक रोज़ मैं तन्हा ही चला जा रहा था, अपने ही ख्यालों में खोया हुआ, जागी हुई थी आंखे फिर भी सोया हुआ, कुछ अनसुलझे ... Read more

चारदीवारी

"चारदीवारी" “ तुम लोग रोज रोज इतनी देर तक कहाँ गायब रहते हो शाम के गए रात ९ बजे घर में घुस रहे हो ? घर की याद नहीं आती तुम लोगों ... Read more

साथ चलें जिन्दगी

आओ हम तुम साथ चलें ज़िन्दगी, कुछ मैं तुमसे कदम मिलाऊँ , कुछ तुम मेरा साथ निभाओ ज़िन्दगी, मैं तुम्हारी तरफ अपने हाथ बढ़ाऊं, कुछ तुम ... Read more

मकानों के जंगल

धराशायी होते जा रहे हैं वृक्ष, उग रहे हैं मकानों के जंगल, उजड़ रहे प्राकृतिक आवास, मानव मानव का कर रहा ह्रास, पशु आ रहे मानव बस... Read more

पिताजी को समर्पित

“पापा को समर्पित” थाम के नन्हे नन्हे हाथों को मेरे चलना मुझे सिखाया बैठा कर अपने मजबूत कन्धों पर ये संसार मुझे दिखाया ... Read more

हाल- ए-दिल

मैं वाक़िफ़ हूँ इस हकीक़त से,तू मेरा हमराह नहीं हो सकता, मैं भी मेरी शरीक-ऐ-हयात से बेवफा नहीं हो सकता, फिर क्यूँ मेरा दिल तेरे लिए त... Read more

एक बात बता जिन्दगी

अच्छा एक बात बता ज़िन्दगी, मेरी उदासी कभी तुझे भी उदास करती है? अगर उदास करती है, तो क्यों मुझे उदासियाँ देती है, मेरा टूटना त... Read more

"माँ "

माँ की ममता, ईश्वर उपहार, है अनमोल। माँ का आँचल, टाल दे हर बला, लाल का स्वर्ग। धरा पर माँ, रूप भगवान का, करूँ अर्चना। ... Read more

इजहार-ए-मुहब्बत

कुछ हर्फ़ रखे हैं मैंने चुन कर लिफ़ाफ़े में जो आते थे जुबां तक और रुक जाते थे कहना चाहता था मैं मेरे लबों में सिमटकर रह गए ह... Read more

" बस यूँ ही" (शायरी)

(१) जुल्फें तेरी बिखरी हैं काली घटाओं सी, देखो कही आज आसमान न बरस पड़े । (२) तेरी शोखी और सादगी का क्या कहना, तेरी हर अदा दिल... Read more

हिंदी

"हिंदी" विश्व में अद्वितीय है हिंदी अभिव्यक्त का सागर है हिंदी सबकुछ परिभाषित है इसमें हर रिश्ते की मिठास है हिंदी मेरे हृद... Read more

खफ़ा हूँ मैं

"खफ़ा हूँ मैं" ************* खफा हूँ मैं, हाँ तुझसे बहुत खफा हूँ मैं, मुझसे क्या नाराज़गी है तेरी, तू बताता क्यों नहीं, मेरे स... Read more

"तू ही बता ज़िन्दगी"

"तू ही बता ज़िन्दगी" तू ही बता ऐ ज़िन्दगी तेरा मैं क्या करूँ, मेरी हंसी तुझे रास नहीं आती, मेरी उदासी मेरी माँ को नहीं भाती, मै... Read more

जिन्दगी के संग सेल्फी

जिन्दगीके संग सेल्फी ********* थोडा सा मुस्कुरा ज़िन्दगी तेरे संग एक सेल्फी लेनी है ग़मों को दरकिनार कर ज़रा जीत का जश्न मना ... Read more

प्राथमिक शिक्षा का अधिकार

प्राथमिक शिक्षा का अधिकार ******************************** भारत सरकार काफी समय से एक मिशन चला रही है जिसका नाम है ‘शिक्षा का ... Read more

निर्भया

सुबह निकली घर से, बहुत खुश थी मैं , कहाँ खबर थी मुझे, जमी थी किसी की गिद्ध दृष्टि, भेद रही थी निगाहें शरीर, मन में वासना लिए, ... Read more

"एहसासों की पोटली"

"एहसासों की पोटली" ************* ************* लटका के कंधों पर उम्मीदों के झोले उनमे भरके कुछ ख्वाब कुछ फरमाइशें कुछ शि... Read more

रिश्तों के बदलते रंग

रिश्तों के बदलते रंग ******************* आज शादी के दो सालों में सूरज और चंदा के बीच एक छोटी सी बात को लेकर जमकर झगड़ा हुआ था । ... Read more

"इन्कलाब लिखता हूँ "

ग़ज़ल लिखने की एक छोटी सी कोशिश "इन्कलाब लिखता हूँ " ग़मज़दा होता हूँ जब कभी अपने जज़्बात लिखता हूँ मैं अन्दर से टूटने लगता... Read more

"मैं प्रेम हूँ"

"मैं प्रेम हूँ" प्रेम से भरा है मेरा हृदय, प्रेम करता हूँ, प्रेम लिखता हूँ, प्रेम ही जीता हूँ, मुझसे नफरत करो, मेरा क्या, म... Read more

पहली राखी तेरे बिन

सबकुछ सूना सूना है तेरे बिन हमारी पहली राखी है तेरे बिन सबकी कलाईयाँ भरी हैं हमारी कलाई उदास हैं सबके लबों पर हँसी है तेर... Read more

वक़्त और मैं

वक़्त और मैं १. अधूरी ख्वाहिशें पूरा करने की बारी है वक़्त से मेरी इतनी सी जंग जारी है २. वक़्त से एक जंग लड़ रहा हू... Read more

जश्ने आजादी

जश्ने आजादी ये कैसा जश्ने आजादी है, एक दिन की देशभक्ति है एक दिन का दिखावा है सन्देशों की तो बाढ है ड्राई डे होने का अफसोस ... Read more

देश का दुर्भाग्य

"देश का दुर्भाग्य " ************ एक समय था जब नेता आज़ादी की लड़ाई लड़ते थे आज़ादी की लड़ाई में बच्चो को भी आगे करते थे खुद ही... Read more

सैनिक की व्यथा

"सैनिक की व्यथा " ************** घिरा हुआ है वतन आज देश में छुपे गद्दारों से दुश्मनों का मुझे डर नहीं ओढ़े बैठे खाल ... Read more

सरहद पार वालों के ख़त का उत्तर

रेडियो मिर्ची की आर जे सायेमा ने अपने पेज पर एक विडियो पोस्ट किया था जिसमे उन्होंने पाकिस्तान से आई कविता का पाठ किया था और उसका जवा... Read more

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ८ (अंतिम भाग)

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ८ गतांक से से ............अंतिम भाग अगले रविवार का सोहित ने बड़ी बेसब्री से इन्तजार किया | सुबह क... Read more

भारतीय सेना के नाम

तुम वहाँ सीमा पर रतजगा करते हो, हम यहाँ चैन से सोते हैं, यहाँ जब तापमान २० डिग्री होता है, हम ठिठुरते हैं घर से बाहर निकलते डरते ... Read more

"आखिर क्यों "

“आखिर क्यों ?” राम अपनी प्रजा का हाल लेने के लिए भेष बदलकर घूम रहे थे | तभी उन्होंने एक धोबी और धोबन को लड़ते हुए सुना | धोबी धोबन क... Read more

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ७

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ७ गतांक से से ............ सोहित और तुलसी की अनकही प्रेम कहानी में लुका छुपी चलती रही, सर्... Read more

"पिता"

सदोका रचनायें "पिता" (१) वट का वृक्ष पिता की छत्रछाया पालनकर्ता नारियल समान नर्म-कठोर ह्रदय (२) स्नेहिल माता हरदिल अ... Read more

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ६

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ६ गतांक से से ............ समय की मंद मुस्कान जल्द ही एक और मनमोहक घटना की गवाह बनने वाली थी | छा... Read more

"यादों के अवशेष"

"यादों के अवशेष" एक अरसे बाद गाँव में यूँ ही निकल पड़ा अकेला टहलता हुआ गाँव की सीमा की ओर सीमा पर जो पुलिया है समेटे हैं हजारो... Read more

इस प्यार को क्या नाम दूं ?

देख के मेरी कनौतियों की सफेदी नजर अंदाज करती है मेरी खुशनुमा सी ज़िन्दगी मेरे साथ साथ चलती है मेरे गालों पर पड़ती झाइयों की वो बड़ी फ... Read more

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ५

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ५ गतांक से से ............ अब सोहित के पास तुलसी का फ़ोन नंबर था, इस बात से सोहित बहुत खुश था | वो... Read more

सन्दीप की त्रिवेणियाँ

सन्दीप की त्रिवेणियाँ ***************** (१) सबका था अनमोल हुआ करता था कभी चन्द सिक्कों में गली नुक्कड़ पर बिकता है ये ... Read more

माँ

"माँ" एहसास मेरा पाकर अपने भीतर ख़ुशी से फूली न समायी वो मेरी माँ है आहट सुनकर मेरे आने की थाम ली उसने सलाई और बुनने लगी न... Read more

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ४

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ४ गतांक से से ............ सोहित के मन में तो तुलसी के प्रति प्रेम पनप चुका था, किन्तु तुल... Read more

गंगा की गुहार

गंगा की गुहार *********** हे भागीरथ, क्यों ले आये मुझे देवलोक से धरा पर कर दिया मैला मेरा स्वच्छ आँचल आज तरसती हूँ बहते न... Read more

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी -भाग 3

अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – ३ कितनी खूबसूरत होती हैं ये इन्तजार की घड़ियाँ ....... हाँ खूबसूरत तो होती हैं लेकिन बेचैन भी करती है... Read more