Sandeep Raaz Anand

Kushinagar

Joined September 2018

Student of Hindi Sahitya
University of Allahabad
Blog:-sandeepraazart.wordpress.com
Prayagraj (Allahabad) (Uttarpradesh)

Copy link to share

तेरा चेहरा

हर रंग में उभर आता है तेरा चेहरा आसमान में बादलों के बीच उपवन के फूलों के बीच दूर तक लहलहाते खेतो के बीच रिमझिम बरस रहे ब... Read more

दुनिया मतलबी है........

चढ़ना जो चाहोगे ऊंचे शिखर को यह दुनिया पीछे से कदम खींच देगी चढ़ भी गए अगर, गिरते संभलते यह दुनिया वही से नीचे फेंक देगी दोबार... Read more

माँ के बिना जिंदगी

जिंदगी ताश के पत्तों सी बिखर गई होती अगर मेरे जिंदगी में माँ नहीं होती कहने को ये सारा जहाँ अपना हैं पर कुछ नहीं है जब माँ नहीं ह... Read more

छुपवली उ काहे

छुपवली उ काहे बतावली काहे ना जे रहल मोहब्बत जतावली काहे ना अँखिया से अँखिया मिलावत त रहली इशारा में हमके बोलावत त रहली पर उनकर इ... Read more

प्यार मोहब्बत इश्क की बाते

सपने क्या है मेरे कैसे मैं खुलेआम कह दूं दिल में मेरे भी है कोई कैसे उसका नाम कह दूं। बिन्दी रोली चुड़ी कँगन हमको भी अच्छे लगते है ... Read more

पापा की परी

वरदान होती हैं बेटियां क्या नहीं होती हैं बेटियां गुलशन की कली घर की सहन चाँद आसमाँ की सब कुछ होती हैं बेटियां पापा की परी म... Read more

स्त्री...ज़रूरी है।

स्त्री............. ना जिन्दगी में है ना अलमारी में ना मोबाइल में स्त्री बहुत दूर है मुझसे........... कोसो दूर.… पर वो खालीप... Read more

फिर वही तन्हाई

फिर वही दौर फिर वही बातें फिर वही तन्हाई फिर वही रातें ठोकर पाँव को मिलते तो शायद चले भी आते, जख्म दिल के हैं कि एक पग चलने... Read more

मैं लिखूंगा...

मैं लिखूंगा तेरी सांसो में समा जाने के लिए मैं लिखूंगा तेरे दिल में उतर जाने के लिए तेरे इन कजरारे नैनों में काजल की तरह ... Read more