अहम् ब्रह्मास्मि

Copy link to share

शायद मैं ना जागूँ एक दिन

शायद मैं ना जागूँ एक दिन..... ----------------------------------------------------------- शायद मैं ना जागूं एक दिन, साँसें जब ये ... Read more

काफिला आई जेहन में...

Arun Kumar गीत Jun 27, 2016
काफिला आया जेहन में............ ≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈ वाकयातों का नया एक काफिला आया जेहन में । बाहयातों की कई चेहरे ... Read more

अब कैसे दिन आएंगे???

? अब कैसे दिन आएंगे 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 एक महानुभाव ने आकर के पूछा ये आँख मिलकर के । अच्छे दिन तो हुए पुराने अब कैसे दिन ... Read more

जीत तय हुआ

जीत तय हुआ ..... ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ प्रातः विहग चहक सुन सुन कर जग जीवन संगीत मय हुआ । सामष्टिक नूतनता लेकर नव जीवन का गीत... Read more

ऐ सामरिक कब आएगा

ऐ सामरिक कब आएगा............ _________________________________ किस सृजन में है लगा ऐ सामरिक कब आएगा । सज्जनें हैं व्यग्र जग म... Read more

धरा स्वर्ग सम बन जायेंगे

Arun Kumar गीत Jun 27, 2016
? धरा स्वर्ग सम बन जाएंगे 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 धरा स्वर्ग सम बन जाएगा जिस दिन सब सुशिक्षित होंगे । प्रेम न्याय ही धर्म बनेगा ज... Read more

बुद्धों की इस देवधरा पर...

बुद्धों की इस देवधरा पर........ __________________________________ कोई भी त्यौहार देश में तबतक रास ना आएगा । बुद्धों की इस देवध... Read more

नव विहान

नव विहान 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 नव विहान नव ऊर्जा लेकर, जगत पटल रोशन करता है । व्यग्र-तृप्त, हर्षित-विशाद पर मानस नित दोलन करता... Read more

अद्भुत संगम

अद्भुत संगम 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 है दुखों का अगम पयोधि हृदय गर्त अश्कों से भरा है । किस दुविधा में फँसा अकिंचन दुनिया ये कितन... Read more

चल पड़ा है सामरिक

चल पड़ा है सामारिक.....???????? ------------------------------------------- चल पड़ा परचम लिए मैं, हर गली और गाँव को । है जहाँ सम्प... Read more

अब न्याय के शरण में.....

Arun Kumar गीत Jun 27, 2016
? अब न्याय की शरण में................... 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 अब न्याय की शरण में आकर ही सब मिलेगा । अन्याय इस जगत से निश्... Read more

मेरे सपनो के भारत में...

??मेरे सपनो का भारत?? –-–-–-–-–-–-–-–-–-–-–-–-–-–-–-–- मेरे सपनो के भारत में , भारत ये विश्वगुरु होगा । सभी अधूरे स्वप्न धरा का,... Read more

मैं अभियंता...

? मैं अभियंता 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 मैं अभियंता मातृभूमि को तन मन अर्पित करता हूँ । भाव भरा अनुभूति और ये जीवन अर्पित करता ह... Read more

कुछ तो कर गुजरने का.....

Arun Kumar गीत Jun 27, 2016
? कुछ तो कर गुजरने का 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 कुछ तो कर गुजरने का हवा पैगाम लाया है । सच की हर हया की अम्न का तहजीब लाया है ।... Read more

सत्य की सरिता

Arun Kumar गीत Jun 27, 2016
? सत्य की सरिता 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 चल चलें उस ओर कि सतन्याय सबको मिल सके । सत्य की सरिता में जन अधिकार सबको मिल सके ।। ... Read more

मैं चलता रहा हूँ.....

Arun Kumar गीत Jun 27, 2016
? मैं चलता रहा हूँ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 मैं चलता रहा हूँ मैं चलता रहूँगा सत न्याय को धर्म कहता रहूँगा । अमन हो ना जबतक तड़पता... Read more

शादी का व्यापार

शादी का व्यपार ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ शादी की व्यापार आज कल चरमोत्कर्ष पे काबिज है । चलता फिरता है दूकान यह कहीं भी आज मुनासिब... Read more

जाग्रति

? जागृति ×××××××××××××××××××××××××××× डर दफ़न कर दे कहीं पर ख़ौफ़ को कर दे विदा । अब नहीं रहना तुझे भी जिंदगी से गुमसुदा ।। ... Read more