Sahib Khan

Joined December 2016

Copy link to share

हर ज़ख्म सिला लूंगा

Sahib Khan गीत Nov 27, 2017
हर ज़ख्म सिला लूंगा, हर गम को मिटा दूंगा, तुम मुझको भुला देना, मैं तुमको भुला दूंगा, बेदर्द महोब्ब्त के, लाख फसाने है, कुछ तु... Read more

ग़ज़ल

बस एक काम मेरे यार कर, तू मुझे दिल से दिलदार कर, ज़िन्दगी देखी है ? ज़िन्दगी ? हमने देखी है ख़ुद को मार कर, गोया दिल, दिल है, मगर, ... Read more

सबब-ए-जिंदगी

मेरी तन्हाइयो का सबब बन रही है जिंदगी, कुछ ख़बर नहीं क्या बन रही है जिंदगी, बदहाली है न मायूसी है कोई, फिर भी बोझ सी बन रही है जिं... Read more

तुम

तेरा हिजाब मेरा कफ़न न हो जाये, इस तरह प्यार दफ़न न हो जाये, तू रूठा न कर जालिम इस कदर, मेरा दिल उजड़ा चमन न हो जाये, तेरी आँखे दरि... Read more

तेरी तस्वीर

यूँ ही बेख़याली में कलम उठाई थी , होश आया तो तेरी तस्वीर बन गई , तुझसे पहले कुछ नहीं था मैं , तुम मिले तो तकदीर बन गई , दिल में स... Read more

जबसे मुझे तुमसे प्यार हो गया

जबसे मुझे तुमसे प्यार हो गया, रह-ए-दुनिया पे चलना दुस्वार हो गया, यूँ तो बहुत से है काम मगर, इश्क़ करना मेरा कारोबार हो गया, बहुत... Read more

नए साल में

जां मेरी ले आना नए साल में, फिर छोड़ न जाना नए साल में, अरे यार ! भूल गया , माफ़ करदे, देखना यही बहाना नए साल में, छोर देना अब बहा... Read more

ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे,

ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे, तू उसके खयालो को रवाना कर दे, गर बुलाना हो निगाहों से इशारा कर दे, दिल में सुलगते शोलो को अंगारा कर ... Read more

चले आओ

फिर फहफिल सजाए चले आओ, किसी से दिल लगाये चले आओ, नफरतो में डूबा है जमाना, हम मोहब्बत फैलाये चले आओ, तुम अदा से नज़रें झुकना, हम ... Read more

तेरी अदाओ के आसमान पर,

तेरी अदाओ के आसमान पर, मेरी ग़ज़लो का एक मुकाम है, तेरी अदा है फूलों जैसी , मेरी ग़ज़ल भी छलकता जाम है, यु तो हूँ मैं शायर हसीनो का,... Read more

तुम गर साथ होती............

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
वो तन्हाई के लम्हे, वो बेखुदी की राते, यु न गुजरती, तुम गर साथ होती.......... हम तुमको बहो में रखते, तुम्हारे प्यार को’ आँ... Read more

कितनी नादां है वो जो मुझे भुलाना चाहती है,

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
कितनी नादां है वो जो मुझे भुलाना चाहती है, कहती है......... मैं खुश हूँ ! इसलिए भुलाना चाहती है, कितनी नादां है वो जो मुझे भुलाना... Read more

मैंने तुझे भुला दिया...........

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
मैंने तुझे भुला दिया............... आँखों ने तेरी तस्वीर न भुलाई, तुझेसे मिलाकर लगी शमशीर न भुलाई, मगर मैंने तुझे भुला दिया..... Read more

-: आपका इंतज़ार है हमको :-

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
आपका इंतज़ार है हमको, आपसे प्यार है हमको, आप आयेंगे किसी रोज़ भी, इतना एतबार है हमको, आपका इंतज़ार है हमको, तुमने कैसे मोड़ पर ... Read more

-: मेरे महबूब तुम सदा मुस्कुराना :-

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
मेरे महबूब मुझे न भुलाना, ख़ुशी हो या गम सदा मुस्कुराना, उस परिंदे के हाथो भेजेंगे ख़त, जिसे भूल गया हो जमाना, मेरे महबूब तुम सद... Read more

राहे उल्फत के इंतजार कोई करता है,

राहे उल्फत के इंतजार कोई करता है, ज़रा सुनो ! तुम्हे प्यार कोई करता है, तुमसे पहले खवाब न था कोई, अब हर शब तुम्हारा दीदार कोई करता... Read more

तुम्हारी याद सारी रात तडपाएगी,

तुम्हारी याद सारी रात तडपाएगी, लगता है सारी रात नींद नहीं आएगी, तुम ही बताओ क्या करे हम, ये जुदाई हमे पागल कर जाएगी, तुम्हारे सा... Read more

-: राज़-ए-मुश्कान :-

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
तुम्हारी नजरो की कसम, तुमपे फ़िदा हूँ मैं, लाख करू कोशिश विसाल की, मगर तुमसे जुदा हूँ मैं, तुम्हारी जुल्फों की कसम... Read more

-: तलाश :-

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
बड़ी शिद्दत से लिख रहा हूँ, तेरे इन ख्यालो को, शायद कोई जवाब मिल जाए, मेरे इन सवालों को, दुनिया में निकल पड़ा ढूंढने, ... Read more

“ बयान-ए-नज़र “

ऊपर वाले का जरा नाम ले, दिल अपना भी जरा थाम ले, देखे नहीं जाते अश्क तेरे, अपने इन अश्को को थाम ले, तेरे अश्क मुझे देखकर... Read more

यही तो इश्क़ का दस्तूर है,

Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
मैं जनता हूँ तू मुझसे दूर है, यही तो इश्क़ का दस्तूर है, लैला मजनू के पास होती, हीर रांझे की ना आस होती, गर रकीब ना होते इश्क़... Read more

प्यार में भीगे दिन, मैं कभी ना भुलाऊँगा,

प्यार में भीगे दिन, मैं कभी ना भुलाऊँगा, तू भूल जा बेशक, मैं कभी ना भुलाऊँगा, याद रहेंगी ये बाते, प्यार की बरसाते, छोड़ना इन सोगा... Read more

‘’ आवाज़-ए-दिल ’’

दिल मेरा न तोड़ो ज़माने की बात मानकर, हमसे महोब्बत करो दिल की बात मानकर, एक रोज़ आओ भी हमसे मिलने, इस बन्दे की खुदा से मुलाकात जानकर... Read more

मैं लिखता हूँ तुम्हारी खातिर,

मैं लिखता हूँ तुम्हारी खातिर, तुम जान हो मेरी, मैं शायर हूँ तो क्या, तुम पहचान हो मेरी, सहर तुम्हारी याद से होती है, तुम ही शाम... Read more

" काश कोई होती "

दिल कभी कभी यू सोचता है, काश कोई होती.................. जिसकी गली से हम जाते, वो छज्जे से देखती, हमे मुश्कूराते, काश कोई होत... Read more

हाय!! ये पायल की झंकार.........

हाय!! ये पायल की झंकार............ तेरी पायल की छम-छम, मेरे ख्वाब जगाए, मैं ऊठ्ठू तो दिल चाहे फिर नींद मुझे आ जाए, मैं कैसे समझाऊ... Read more

तेरी हर अदा पर,

तेरी हर अदा पर, सौ बार जिया, मरा हूँ मैं, तुझे क्या कहूँ कैसे, अब तक जिंदा खड़ा हूँ मैं, कहता है दिल मेरा, धड़कने कब कि थम चुकी, ... Read more

"ऐ ज़िंदगी मैं तुझसे बड़ा नाराज़ हूँ"

तूने मेरे दामन को दर्द से भर दिया, अश्कों से आँखों को भर दिया, जिन गमो से निकलता है दर्द, मैं उन गमो की आवाज़ हूँ, ऐ ज़िंदगी म... Read more

"इश्क़ परवाने का"

एक रोज़ शमा पूछबैठी परवाने से, क्या तुम्हें डर नहीं लगता जल जाने से, परवाना सोचकर बोला, क्यू पूछा तुमने ये सवाल इस दीवाने से, शम... Read more

"दिलनशी तुम ना होते"

चाँद ना यू शरमाता, गुलो पे भवरा ना यू मंडराता, अगर दिल नशी तुम ना होते, आशिक़ कोई ना बन पता, शायर कोई ना कहलाता, गम कोई ना ... Read more

“तेरे शहर में“

तेरी याद फिर खींच लाई, मुझे तेरे शहर में कैसे जिए तेरे बिना, हम तेरे शहर में, हर शै मिलते ही तेरा पता पूछती है, कहां है मंजिल ... Read more

कहाँ से शुरू करू , कहाँ करू तमाम,

कहां से शुरू करूं,कहां करूं तमाम,कहानी उसकी, दिल के जख्मों को जवां रखती है,जालिम जवानी उसकी, मेरे लबों पे नाम उसी का रहता है, आंख... Read more

रुस्वाई हो जिसमे

रुसवाई हो जिसमें, क्यों वो बात करें, वशल ही ना हो मुकद्दर में, तो क्यों मुलाकात करें, फूरकत में जीए, फूरकत में मरेंगे, क्य... Read more

एक ख्वाहिश है

एक ख्वाहिश है,,,,,,,,,,,, दिल से दिल लगाने की, आंखों से दिल में उतर जाने की, एक ख्वाहिश है,,,,,,,,,,,, सांसो से सांस मिलाने क... Read more

चाहत

तुझे देख कर जीना भी क्या जीना, मैं तेरी सांसो में खो जाना चाहता हूं...... तेरी अदाओं को देख कर तो सब जीते हैं, मैं तेरी कोई नई... Read more

दास्ताँ-ए-हिन्दुस्तान

कैसे कहें हम, दास्तान-ए-हिंदुस्तान, किसी का मर गया ज़मीर, किसी ने लूट लिया जान, कैसे कहें हम, दास्तान-ए-हिंदुस्तान, सियासत... Read more

ऐसा भी कहाँ, के दिल तोड़ के रो लेता

ऐसा भी कहां, के दिल तोड़ के रो लेता, जरा मुस्कुराता, और रो लेता, कोई बात रखता, दिलासा देता, दिल को, दिल, हाल ए दिल कहता, रो लेता,... Read more

मुक़द्दर

तुम अगर यु ही साथ रहोगी, खुदा कसम हम ही मुकद्दर बनाने लगेंगे, तुमको भूलने में जमाने लगेंगे, फिर भी हम तुमको याद आने लगेंगे, ... Read more

दिल और तुम

तू थमा देती जो आँचल सनम, अश्क मेरे फिर यहाँ निकलते नहीं, जां निकलती मेरी तेरे दमन में, टूटे दिल के टुकड़े फिर मिलते नहीं मेरे अल्... Read more

ठण्ड बहुत है

जिंदगी की रफ़्तार धीमी हो गई, की ठण्ड बहुत है, आज बाहों में छुप जाओ, की ठण्ड बहुत है, साँसों को साँसों में खो जाने दो, की ... Read more