संक्षेप परिचय
*अभिव्यक्ति भावों की” कविता संग्रह का प्रकाशन सन 2011
*’रानी अवंती बाई की वीरगाथा’ की आडियो का विभिन्न मंचो में प्रयोग।
*’शौचालय बनवा लो’ गीत की ऑडियो रिकार्डिंग बेहद चर्चित।
*अनेको रचनाएं देश की नामचीन पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित।
*छंद विधान के कवि के रूप में देश के विभिन्न अखिल भारतीय मंचो पर स्थान।
*संपर्क नम्बर-8989800500, 7000432167

Copy link to share

सरल के दोहे

*चिंता छोड़ो अरु करो, अपने सारे काम।* *अगर काम को चाहते, देना तुम अंजाम।।* *सबको अब मैदान में, करना है प्रस्थान।* *अपनी गर इस दे... Read more

मेरे भी हाथों में ए. के.

मेरे भी हाथों में ए. के. असली गद्दारों को जानो, और कड़ा बर्ताव करो। निर्दोषों की रक्षा भी हो, जनगण से समभाव रखो।। *बारूदों के ... Read more

*अंसारी विवाद*

*अंसारी विवाद* सोच समझकर बोलो चच्चा, नाम बड़ा है अंसारी। थोक के व्यापारी चिल्लर के, मत बन जाना पंसारी। जिस धरती पर पले बढ़े हो,... Read more

किसने गोली बारी की

 किसने गोली बारी की महाकाल की धरती पर ही, किसने गोली बारी की। शिवभक्तों को मार गिराकर, भारत से गद्दारी की।। पकड़ टेटुवा फोड़ो स... Read more

किसने गोली बारी की

 किसने गोली बारी की महाकाल की धरती पर ही, किसने गोली बारी की। शिवभक्तों को मार गिराकर, भारत से गद्दारी की।। पकड़ टेटुवा फोड़ो स... Read more

*हिन्दू हिंदुस्तान के*

*हिन्दू हिंदुस्तान के* डरने मरने का भय छोड़ो, जीओ सीना तान के। हम है कट्टर जिनको कहते, हिन्दू हिंदुस्तान के।। छप्पन इंची दुनिय... Read more

*"पीओ नहीं शराब*

*"पीओ नहीं शराब* *छोड़ो पीना तानो सीना, जग में बनो नवाब।* *पीओ नहीं जनाब, खराबी देती सदा शराब ।।* पीकरके बेहोश रहो तो, जग बोले... Read more

*लेना नहीं दहेज*

*लेना नहीं दहेज* दहेज कोढ़ है इस दुनिया में, कर लेना परहेज। लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।। ना लूंगा ना लेने दूंगा, कस... Read more

** *गुरु की महिमा***

** *गुरु की महिमा*** *करो गुरु का मान गुरु ने ज्ञान दिया।* *बना दिया विद्वान गुरु ने ज्ञान दिया।* दिखलाया लाकर बाहर गुमनामी स... Read more

*सरस्वती वंदना* 2

*सरस्वती वंदना* रहे आवाज में जादू, गले में जान दे दो माँ। मधुर धुन गुनगुनाने को, मधुर सी तान दे दो माँ।। हे वीणा वादनी माता, ... Read more

अभिनन्दन कैसे लिखे

अभिनन्दन कैसे लिखे लिख डालो आभार पत्र भी, इसमें भी क्या मुश्किल है? मेरे पीछे काम हजारों, दुनियाभर की किलकिल है।। नम्र निवेदन... Read more

होली के छंद

*होली के छंद* 1 मस्ती का त्यौहार आया, प्रेम की बहार लाया, देखो दिलवालों की है, गली गली टोली रे।। हरा पीला लाल लाल, हाथों म... Read more

सरल की घनाक्षरियाँ

घनाक्षरी 1 बैठाता गोटी पे गोटी, चाहिये तुझे तो रोटी कामी क्रोधी लालची को, चेतना धिक्कारती।। गरीबों को हीरा मोती, आशाएं नही... Read more

हास्य मनहरण*

*हास्य मनहरण* *1. वादे की मनहरण* सही तो हमेशा भाई , बिल्कुल रहेगा सही, सही काम में न कोई, बाधा होना चाहिये।। मुझे जो पसन्द... Read more

*बिदाई के दोहे*

*बिदाई के दोहे* करुण रुदन चलता रहा, मुख से कहे न बोल। अंतर्मन करता रहा, अनबोले अनमोल।। कौन कहाँ किसने यहाँ, लाया है दस्तूर। ... Read more

अपने बाप का क्या जाता है?

अपने बाप का क्या जाता है? जब तू बोलता है तक आती है बहारें, डोलती है दुनियां ढहती है दीवारें। तेरे बोलने की छटा ही कुछ ऐसी है, ... Read more

इंसां हुआ शैतान है

मौत का लेकर खड़े सामान है। आजकल इंसां हुआ शैतान है।। क्यों लड़ाते धर्म के ही नाम पर, बाइबिल, गीता वही कुरआन है।। स्वार्थ से दु... Read more

विवश किसान

चिता जला डाला मिट्टी में मिला दिया अरमान को। मरने पर विवश कर डाला है क्यों आज किसान को।। कर्जा पर कर्जा पर कर्जा, बोल नहीं मुँह ... Read more

धरा सुंदर बना डालो

*धरा सुंदर बना डालो* बचा करके वनों को तुम, घना करके दिखा डालो। लगाकर पेड़ धरती पर, धरा सुंदर बना डालो।। ये सूरज चाँद ये तारे, ... Read more

हमें "स्कूल जाना है

*स्कूल चले हम* *पढ़ेगा जो बढ़ेगा वो*, सभी को ही बताना है। हमें "स्कूल जाना है, *हमें "स्कूल जाना है* ।। हमारे हाथ में अपनी, रखी... Read more

बिदाई गीत

*लगन गीत* 1 शादी सीधी सादी करना। खर्चीली शादी से डरना।। सामूहिक शादी में जाओ। बिन पैसे की रश्म निभाओ।। अक्सर देखा सीखी करत... Read more

नेता पैदा करने की मशीन

*नेता पैदा करने की मशीन* नेता पैदा करने की मशीन पैदा करना है तो वक्ता पैदा करने की मशीन पैदा करना पड़ेगा। क्योंकि वक्ता ही नेता बन... Read more

नर्मदा जी पर मनहरण

1 देवियों का रूप माना जाता मेरे देश में तो नदियों को सभी यहां मैया जी पुकारते। विरह विवाह प्रतिशोध की भी गाथाएं हैं नदी नर्मदा... Read more

हमें "स्कूल जाना है

*"स्कूल चले हम"* *पढ़ेगा जो बढ़ेगा वो*, सभी को ही बताना है। हमें "स्कूल जाना है, *हमें "स्कूल जाना है* ।। हमारे हाथ में अपनी, र... Read more

होली के छंद

*होली के छंद* 1 मस्ती का त्यौहार आया, प्रेम की बहार लाया, देखो दिलवालों की है, गली गली टोली रे।। हरा पीला लाल लाल, हाथों म... Read more

अनुशासन

अनुशासन के साथ में जीवन जीना बहुत जरूरी है . तिनका तिनका मिल घर बनता होती आशा पूरी है . चलते जाना कदम पड़ेंगे राह बनेगी अपने आ... Read more

प्यारा हिन्दुस्तान है

आओ प्यारे मिलकर गावो, प्यारा हिन्दुस्तान है। जिसकी माटी के कण कण से, निकले गंध महान है।। हीरा मोती सोना चांदी, भरे अकूत भण्डार ह... Read more

बापूजी का आह्वान

धरती करूणा की प्यासी,बापूजी फिर से आना। आकर के इस धरती का, सारा ताप मिटाना। है दीन दशा दुखियों की, हीन हवा हो गयी है। है भूख... Read more

कितना बदल गया गुरुज्ञान -

एक पैरोडी देख यहाँ स्कूलों की हालत क्या हो गई भगवान कितना बदल गया गुरुज्ञान ज्ञानी विज्ञानी शिक्षक को सीखा रहे विज्ञान क... Read more

पर्यावरणीय गीत

पर्यावरणीय गीत- 1 कली कली हर पौध से निकले गली गली हरियाली हो।। नई उमंगें नई तरंगे हर मन में खुशहाली हो।। हवा बसन्ती पावन खुशब... Read more

सकारात्मक सोच

सकारात्मक सोच होना चाहिये। पाजिटिव एप्रोच होना चाहिये।। एक जगह ही हो वजह पर, सतत रोज होना चाहिये।। चाह बनाले नई राह बना ... Read more

जनप्रतिनिधि की स्तुति

जनप्रतिनिधि की स्तुति प्रभु वर दे ही देना, मान वाला पान मिले मानदान वाली पानदान मुझे दीजिये।। अमर हमेशा रहे नाम दुनिया में मे... Read more

फ्रेंड की मनहरण

बोला डाकटर डांटकर के मरीज से कि, चेस्ट पेन में तो बेड रेस्ट होना चाहिये।। लाइक का लाइफ में बाइक की राइड में डाइट की बाइट में ट... Read more

खड़े रह गए

गीतिका बहर- 212 212 212 212 हम खड़े थे खड़े के खड़े रह गए। क्यों अड़े थे अड़े के अड़े रहे गये? राज जो भी कहो राज तो राज था जो ... Read more

आतंकवाद पर दोहे

आतंकी को मारकर, देना उन्हें जलाय। तब ही मरने से डरे, सबसे सही उपाय।1। सत्य सत्य पहचानना, आतंकी की जात। कोई इनकी जात नहि, नहि को... Read more

बारिश के पर्यावरणीय दोहे

बरसो बरखा झूम के, अगन जलन कर दूर। हरीभरी धरती करो, फसल करो भरपूर।1। घुमड़ घुमड़ कर कह रही, बादल की बौछार। आने को तैयार है, सावन क... Read more

बोझ गधा ही ढोता क्यों है?

शेर नहीं मुँह धोता क्यों है? बोझ गधा ही ढोता क्यों है? मानव मानव का दुश्मन बन बीज जहर के बोता क्यों है? मनमानी मन की रोको तो... Read more

विद्यासागर जी पर मनहरण छंद

1 विद्यासागर मनहरण वर्तमान वर्धमान, विद्यासागर को जान, रखे आज विद्यमान, धीर महावीर का।। बने सुधी साधो सम, व्रत नित्यप्रति क... Read more

खलनायक नम्बर वन

नेता के अच्छे से चमचे, बस्ती के वो बाप है। पाप कर रहे उनकी शै पर, कैसे होगा जाप है।। ताप बढ़ा है बड़ा भयंकर, नापों अपने आप है। सच्च... Read more

और बताओ बोले क्या?

भाषणबाजी हो आतिशबाजी, नहीं कोई अंतर है। हो सके तो याद ये रखना, यही जीत का मन्तर है।। कथनी करनी का अंतर, जीवन में रंग लाएगा। सच्चा... Read more

सुन्दर जेल तिहाड़ी है

सत्य सत्य को नहीं जानता, असत्य जुबाँ की बोली है। झूठों की जयजयकार हो रही, झूठों की रंगोली है।। सच्चाई की बात करे वो मुश्किल में पड़... Read more

सीमा के चौकस प्रहरी

सीमा के चौकस प्रहरी को, करना शतशत सभी नमन। जिनके कारण हम करते है, विघ्न मुक्त होकर विचरण।। पहने वर्दी खाकी वाली, वतन मेरा भगवान ... Read more

सरल सी बात

*क्या हो रहा है- भाई भाई के बीच सम्बन्ध विच्छेद हो गया है। सीधी सच्ची बात पर भी मतभेद हो गया है।। बात मत करो आयने की, मायने की,... Read more

शिक्षक की अभिलाषा

कलम स्लेट हाथों में लेकर लिखना रोज सिखाऊंगा। झूम झूम कर घूम घूम कर सबको पाठ पढ़ाऊँगा ।। जीवन सारा करूं समर्पित बच्चों को सिखलाने... Read more

अभिनन्दन गीत- स्वागत गीत

अभिनन्दन है, अभिनन्दन, अभिनन्दन है, अभिनन्दन। पावन इस बेला पर करते, हम सब जन मिलकर वंदन।। अहोभाग्य अपना है ये कि, आप हमारे बीच प... Read more

संकल्पों की मनहरण

काले काले गोरे गोरे, गोरे गोरे काले लोग। गोरे गोरे दिखे काम, करे काले पीले है।। संकल्पों मे स्वारथ की, राजनीति वो तो करे, होते ... Read more

आपकी ही मनहरण

आप की ही जय होगी, आप की विजय होगी, आप ही का देश है ये, हम तो गुलाम है।। आप जो कहोगे वही , होगा यहां पर सही, आप ही के हाथ में तो... Read more

समाचार की मनहरण (व्यंग रचना)

चित्र का चरित्र आज, लगता विचित्र आज दर्द में भी मित्र आज, जोर की खबर है। चाहे मरे कोई जिए, जीना चैनल के लिए भेद करनी में किये, ... Read more

गोवर्धन वंदना (व्यंग रचना)

दुष्टों की ही जय आज दुष्टों की विजय आज दुष्ट पापियों से देश आजाद कराइये।। संकटो का काल अब जनता बेहाल सब गिरधारी गोवर्धन आइय... Read more

एडमिन की विवशता पर जलहरण

बोलते हमेशा यही लिखते नहीं हो सही चले जाओ और कहीं ग्रुप मेरा छोड़कर।। आपद ने आज घेरा सर न खपाओ मेरा अपना हटाओ डेरा सारे नाते... Read more