Shyam Hardaha

Nagpur (Maharashtra)

Joined September 2019

नागपुर(महाराष्ट्र)
( कला, विधि एवं पत्रकारिता में स्नातक)
मैं मूलत: पाठक हूं. मुझे भिन्न-भिन्न विचारों-भावों के प्रवाह में बहना और डूबना-उतराना अच्छा लगता है. बहुत अधिक मनो-भावनात्मक दबाव के बीच कभी-कभी लिख भी लेता हूं. प्रगतिशील विचारधारा के कवि-लेखकों में मुंशी प्रेमचंद, राहुल सांकृत्यायन, नागार्जुन, धूमिल, केदारनाथ अग्रवाल, गजानन माधव मुक्तिबोध,शमशेर बहादुर सिंह, राही मासूम रजा, फणीश्वरनाथ ‘रेणु’, कृष्णा सोबती, राजेंद्र यादव, अमृता प्रीतम, मन्नू भंडारी, रामविलास शर्मा आदि प्रगतिशील रचनाकारों ने मुझे गहरे तक प्रभावित किया है. महीने में कम से कम एक स्तरीय पुस्तक पढ़ने के प्रति मैं दृढ़ संकल्पित हूं.
(अब तक विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन)
shyamhardah@gmail.com

Copy link to share

‘गिद्ध और छोटी बच्ची’

किसी ने मुङो वाट्सएप्प पर एक पोस्ट फॉरवर्ड की है जिसका शीर्षक है ‘प्रवासी मजदूर और राजनीति.’ उन्होंने आगे लिखा कि मित्रों, एक तस्वीर... Read more

‘जमाती दोषी, प्रवासी श्रमिक परेशान!!’’

आपको याद होगा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जमातियों पर कोरोना फैलाने का आरोप लगाया था. अब जब प्रवासी मजदूरों पर ... Read more

भक्तों की तथाकथा (भाग-3)

आपको याद होगा कि वर्ष 2017 में तुअर दाल के दाम आसमान पर चढ़ गए थे. 60 रुपए की तुअर दाल 200 को पार कर गई थी. त्राहि-त्राहि मची हुई थी.... Read more

अंधभक्तों की तथाकथा (भाग-2)

8 नवंबर को 2016 को मिस्टर बाहुबली ने नोटबंदी की. करीब 50 दिन लोगों ने बैंकों की लाइन में लगकर बिताए. सैकड़ों लोग लाइन में लगकर मर गए.... Read more

अंधभक्तों की तथाकथा भाग-1

बात 2014 की है. मौसम की गर्मी के साथ ही लोकसभा चुनाव की सरगर्मी अपने चरम पर थी. वक्त शाम का था. बड़ी संख्या में लोग शहर के एक वाचाल च... Read more

खलनायक कौन : गोदी मीडिया, विपक्ष या तबलीगी?

बुधवार और गुरुवार दो दिन घर पर ही था. गुरुवार वैसे भी मेरा वीकली अवकाश का दिन था. इन दोनों दिनों मैंने न तो कोई किताब पढ़ी, न ही ट्यू... Read more

मुस्लिमों को ‘कोरोना का पर्याय’बताना गलत

लोकतंत्र के चार अहम स्तंभ होते हैं-विधायिका, कार्यपालिका, न्यायपालिका और मीडिया. लेकिन कुछ समय से देखा जा रहा है कि केवल कार्यपालिका... Read more

बुद्धिजीवियों में भी पोगापंथ की बीमारी

देश को खतरा धार्मिक पोंगापंथियों से सबसे ज्यादा है जो स्वयं तो मानसिक रूप से बीमार हैं ही. साथ ही देश को भी ‘स्वस्थ नहीं रहने देंगे... Read more

कुप्रबंधन का कोरोना

मिस्टर परफेक्ट अर्थात हमारे प्रथमसेवक शनिवार 21 मार्च की रात्रि 8 बजे टीवी पर अवतरित हुए. पहले उन्होंने चिंतातुर शब्दों में कोरोना ... Read more

कोरोना : देवालय नहीं कर सकता रक्षा!!

आप इन दिनों अखबारों और टीवी चैनलों में पढ़-सुन रहे होंगे कि कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए तमाम मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा आदि बंद क... Read more

सीएए-एनसीआर-एनपीआर : देशहित नहीं, केवल राजनीतिक हित

किसी भी देश और समाज में तीन तरह का वर्ग रहता है- एक वह जिसे देश में कुछ भी हो, उसे फर्क नहीं पड़ता है. वह ‘मस्त रहो मस्ती में, आग लगे... Read more

सूर्यग्रहण : पढ़े-लिखे लोग भी दिशाहीन

आज 26 दिसंबर, गुरुवार को इस साल का आखिरी सूर्यग्रहण था. हालांकि यह पूर्ण सूर्यग्रहण नहीं था. यह ग्रहण भारत में सुबह 8 बजे ग्रहण लगा ... Read more

प्लीज! मोदी जी, झूठ बोलना बंद कीजिए ना!! संदर्भ : भारतीय नागरिकता संशोधन कानून

आप और आपके भ्रातासम अमित शाह जी इस कानून को लेकर देश में ऐसा भ्रम फैलाने में जुटे हैं कि जैसे इस कानून को लाकर आपने देश के लिए कोई म... Read more

हां, हम भी किसी के भक्त हैं ........पर अंधभक्त नहीं

‘मैं मूरख, खल कामी, कृपा करो भर्ता’ भगवान जगदीशजी की आरती की यह पंक्तियां आप सबने सुनी होंगी. देखिए यहां एक अंधभक्त किस तरह अपने आप... Read more

दोगली सोच

जब वे कथित ‘जातिवाद’ से हो रहे थे लाभान्वित या होते रहे तो ‘जातिवाद’ सही है कहते रहे- यह तो हमारी परंपरा है शास्त्रोक्त है, ... Read more

मरखंडे

बात है 35 साल पहले की. ‘कोसी’ और ‘लाली’ हमारे घर थीं इन नामों की गाएं. बचपन में जिनका खूब दूध पिया ऊर्जा पाकर उछला-कूदा. ‘को... Read more

जवाब दें भागवत

फिर हुआ नागपुर के पास कुही तहसील के मांगली गांव में वाहशियाना व्यवहार दरिंदों ने लूटा-पीटा और एक आदिवासी नाबालिग बाला से किय... Read more

बस में सवार...

हर रोज आफिस आते-जाते मैं बस में सवार ‘मन’ विचार तरंगों पर सवार खिड़की की कांच में सर टिकाए अपने आप में खोकर कविता तलाशने बुनने... Read more

गुनगुनी धूप में

दोपहर में भोजन उदरस्थ कर जम जाता था कुर्सी पर थपाक; रिमोट लेकर टीवी को नचाने कुछ सार्थक तलाशने यह मेरा नित्यक्रम था. कि एक द... Read more

जनतंत्र को ग्रहण

‘जनतंत्र/संविधान अगर सूर्य हैं तो उसकी रश्मियां हैं- स्वतंत्रता-समता-बंधुता-न्याय. फिर भी देश में चहुंओर फैला है तम अनाचार, भ्... Read more

आदमी

साधन-संपन्न शक्ति-सामर्थ्य रखते हुए भी हंस चाल छोड़ व बगुला भगत बन रहा है आदमी ‘सत्य’ की चाह रखते हुए भी ‘असत्य’ से घबराकर... Read more

घरेलू हिंसा

मैं बस से उतर कर जा रहा था घर कि राह में मिली श्रीमतीजी उदास-गमगीन चेहरा लिए मलीन जा रही थी एसटी बूथ फोन करने इंदोरा चौक मेर... Read more

भागवत को जवाब

दिल्ली बलात्कार कांड की आड़ पर संघ प्रमुख भागवत ने बघारा अपना संस्कृति-ज्ञान ‘इंडिया बनाम भारत’ अर्थात ‘भारतीय बनाम पाश्चात्य’... Read more

मानवता के रक्षक

सड़क किनारे एक तिमंजिला निमार्णाधीन मकान- उसी से सटकर सड़क की ओर बांस-चटाई से बनी छोटी सी झोपड़ी. इसी में रह रहा है तीन सदस्य... Read more

किताबें

होती हैं निर्जीव किंतु अपने अंदर अनगिन जीवन स्पंदित करती हैं किताबें. ताउम्र जो ज्ञान न हो पाए उसे घंटों में दे जाती हैं ... Read more

वे दो लड़कियां

चिड़ियों-सी फुदकती, चहकती स्कूटी पर सवार जींस पहनकर जा रही थीं दो लड़कियां. देख मेरा मन प्रमुदित हुआ; एक वह जमाना था- जब ल... Read more

यह भी भ्रष्टाचार

देवालय पहुंचकर ड्यौढ़ी पर झुककर घंटा बजाकर नैवेद्य चढ़ाकर अपने आप में सिमटकर आंखें बंद कर मुंह से बुदबुदा कर मंदिर में विराजी ... Read more

सामंती व्यवहार

नहीं रहे राजे-महाराजे न बचे अब कोई सामंत लेकिन जन-गण-मन में छोड़ गए वे सामंती प्रपंच हर कोई है इसका शिकारी और शिकार अर्थात सबक... Read more

बदलाव का वाहक होता है यौवन

विषय का विस्तार करें, इसके पहले हिंदी साहित्य के दो लब्धप्रतिष्ठित साहित्यकार-कवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की लिखित चंद पंक्तियां आपके स... Read more

बचपन को भी कराएं साहित्य से रूबरू

महादेवी वर्मा ने कहीं लिखा है, ‘‘अतीत चाहे कितना भी दु:खद या सुखद क्यों न रहा हो, उसकी स्मृतियां हमेशा मधुर लगती हैं.’’ फिर अगर ये ... Read more

कहीं व्यर्थ की तो नहीं है यह कड़वी दवा?

(यह लेख मैंने नोटबंदी की घोषणा के तीसरे दिन 10/11/2016 को ही लिखा था, जब सारे लोग, तमाम अखबारों के विद्वान स्तंभकार और संपादकीय लेखक... Read more

क्या कहें उन्हें?

क्या कहें उन्हें जो जर्जर-संस्कृति के बोझ तले दबे हैं गर कोई उठाना चाहता है उन्हें इस बोझ के तले से उन्हें ये बंधु अपना दुश्मन... Read more

यही है विकास का गुजरात मॉडल!!!

आपको कभी इन बातों पर आश्चर्य नहीं होता कि किसी वक्त हमारे देशवासियों को ‘काला कुली’ कहकर बुलाने वालों को विगत कुछ दशकों से हमारे देश... Read more

ज्ञान युग में भी ज्ञानियों की ओछी सोच

हमारी कथित ‘महान’ भारतीय संस्कृति में लड़कियों की ऑनर किलिंग कोई नई बात नहीं है. ऑनर किलिंग का मतलब होता है-सम्मान के लिए हत्या. हर ... Read more

मोदी और संत कबीर!!

संतो देखत जग बौराना। सांच कहीं तो मारन धावै, झूठे जग पतियाना।। नेमी देखा धरमी देखा, प्रात करै असनाना। आतम मारि पखानहि पूजै, उनमें... Read more

डोंडियाखेड़ा

(आपको याद होगा कि अक्टूबर 2013 में शोभन सरकार नामक एक साधु को सपना आया कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के डौड़ियाखेड़ा गांव स्थित राजा ... Read more

एकांगी आधुनिकता

जब मैं पहनता हूं कोई जींस/टीशर्ट तो सभी कहते/पूछते हैं अरे भाई वाह!! मस्त लग रही है, कहां से खरीदी है/सिलाई है? लेकिन जब मैं... Read more

फिल्म ‘काला’ की समीक्षा

यूं तो उस दिन फिल्म देखने का मूड बिल्कुल भी नहीं था. वैसे भी बचपन से मन:पटल में ही अंकित कर दी दी गई फिल्मों के प्रति नकारात्मकता के... Read more

‘मेरी आत्मकथा-किशोर साहू’ हिंदी सिनेमा के शुरुआती दौर की झांकी

पहली बार इस फिल्मी सितारे के नाम से मेरा परिचय 2011 में लोकमत समाचार, नागपुर के कार्यालय में संपादन कार्य के दौरान हुआ. सहकर्मियों क... Read more

आरक्षण : सच जानना जरूरी

हमारे देश में दलित, आदिवासियों एवं अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों को नौकरी व स्थानीय स्वराज संस्थाओं में उन्हें समुचित प्रतिनिधित्व देने क... Read more

अप्रैल फूल

अपने बचपन से रू-ब-रू कराने के पहले मैं यहां सबसे पहले मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की युवा कवयित्री रेखा कापसे की पंक्तियां उद्धृत करना... Read more

सुपर-30 : शिक्षा का क्रांतिघोष

बेशक मैं कहूंगा मुझे क्या, हम सभी भाइयों को घर से पर्याप्त समय, संसाधन और संरक्षण मिला. पिताजी जिन्हें मैं पापाजी कहता हूं, शिक्षक थ... Read more

ट्रिपल तलाक कानून : सिर्फ घड़ियाली आंसू

आखिर आज ट्रिपल तलाक विरोधी विधेयक विपक्ष के तमाम विरोध के बावजूद राज्यसभा से भी पास हो गया और अब यह कानून का रूप ले लेगा. इस पर जिस ... Read more

सच बोल...ये काला कौआ काट खाएगा

कोई व्यक्ति देश के प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए इस कदर कैसे झूठ बोल सकता है, क्या पद की गरिमा का उसे जरा-सा भी खयाल नहीं है. आपको भी ... Read more

धर्म, अंधश्रद्धा : आप और हम... (पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे की पुस्तक ‘एक शून्य मैं’ से)

*पुरुषोत्तम लक्षमण देशपांडे (जन्म-8 नवंबर1919, मृत्यु 12 जून 2000) लोकप्रिय मराठी लेखक, नाटककार, हास्यकार, अभिनेता, कथाकार व पटकथाका... Read more

फिर भी मोदी-मोदी!!

*19 मई 2019 को लोकसभा चुनाव खत्म हुआ और तमाम टीवी चैनलों के एक्सिट पोल में बस मोदी सरकार के फिर एक बार बहुमत में आने की संभावना जताई... Read more

तीन बार गले मिले मोदी-नेतन्याहू!

भारतीय मीडिया सचमुच गोदी मीडिया बन चुका है. ठेठ शब्दों में कहें तो वह सत्ता का भाट-चारण बन चुका है. दिन-प्रतिदिन अपनी विश्वसनीयता ख... Read more

गोपालन हवे, गोपूजन नव्हे (अर्थात गौपालन करें, गौपूजन नहीं)

इन दिनों देश में क्षद्म राष्ट्रवाद का बुखार चरम है. लोग अपनी राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रवाद का परिचय तरह-तरह से दे रहे हैं. उनमें से एक ... Read more

हिंदू-मुसलिम बहस के पीछे का सच

पिछले वर्ष घटित ये दो घटनाएं शायद आपको याद होंगी जब देश की राजधानी में 3 मई 2018 को तुगलक काल के एक मकबरे को कुछ लोगों ने रंग-पोत क... Read more

धर्मनिरपेक्षता : राष्ट्रीय एकता के लिए जरूरी

हम भारत के लोग, भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्वसंपन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों... Read more