Shyamkumar Hardaha

Nagpur (Maharashtra)

Joined September 2019

( कला, विधि एवं पत्रकारिता में स्नातक)
मैं मूलत: पाठक हूं. मुझे भिन्न-भिन्न विचारों-भावों के प्रवाह में बहना और डूबना-उतराना अच्छा लगता है.
(अब तक विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन)
shyamhardah@gmail.com

Copy link to share

बचपन को भी कराएं साहित्य से रूबरू

महादेवी वर्मा ने कहीं लिखा है, ‘‘अतीत चाहे कितना भी दु:खद या सुखद क्यों न रहा हो, उसकी स्मृतियां हमेशा मधुर लगती हैं.’’ फिर अगर ये ... Read more

कहीं व्यर्थ की तो नहीं है यह कड़वी दवा?

(यह लेख मैंने नोटबंदी की घोषणा के तीसरे दिन 10/11/2016 को ही लिखा था, जब सारे लोग, तमाम अखबारों के विद्वान स्तंभकार और संपादकीय लेखक... Read more

क्या कहें उन्हें?

क्या कहें उन्हें जो जर्जर-संस्कृति के बोझ तले दबे हैं गर कोई उठाना चाहता है उन्हें इस बोझ के तले से उन्हें ये बंधु अपना दुश्मन... Read more

यही है विकास का गुजरात मॉडल!!!

आपको कभी इन बातों पर आश्चर्य नहीं होता कि किसी वक्त हमारे देशवासियों को ‘काला कुली’ कहकर बुलाने वालों को विगत कुछ दशकों से हमारे देश... Read more

ज्ञान युग में भी ज्ञानियों की ओछी सोच

हमारी कथित ‘महान’ भारतीय संस्कृति में लड़कियों की ऑनर किलिंग कोई नई बात नहीं है. ऑनर किलिंग का मतलब होता है-सम्मान के लिए हत्या. हर ... Read more

मोदी और संत कबीर!!

संतो देखत जग बौराना। सांच कहीं तो मारन धावै, झूठे जग पतियाना।। नेमी देखा धरमी देखा, प्रात करै असनाना। आतम मारि पखानहि पूजै, उनमें... Read more

डोंडियाखेड़ा

(आपको याद होगा कि अक्टूबर 2013 में शोभन सरकार नामक एक साधु को सपना आया कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के डौड़ियाखेड़ा गांव स्थित राजा ... Read more

एकांगी आधुनिकता

जब मैं पहनता हूं कोई जींस/टीशर्ट तो सभी कहते/पूछते हैं अरे भाई वाह!! मस्त लग रही है, कहां से खरीदी है/सिलाई है? लेकिन जब मैं... Read more

फिल्म ‘काला’ की समीक्षा

यूं तो उस दिन फिल्म देखने का मूड बिल्कुल भी नहीं था. वैसे भी बचपन से मन:पटल में ही अंकित कर दी दी गई फिल्मों के प्रति नकारात्मकता के... Read more

‘मेरी आत्मकथा-किशोर साहू’ हिंदी सिनेमा के शुरुआती दौर की झांकी

पहली बार इस फिल्मी सितारे के नाम से मेरा परिचय 2011 में लोकमत समाचार, नागपुर के कार्यालय में संपादन कार्य के दौरान हुआ. सहकर्मियों क... Read more

आरक्षण : सच जानना जरूरी

हमारे देश में दलित, आदिवासियों एवं अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों को नौकरी व स्थानीय स्वराज संस्थाओं में उन्हें समुचित प्रतिनिधित्व देने क... Read more

अप्रैल फूल

अपने बचपन से रू-ब-रू कराने के पहले मैं यहां सबसे पहले मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की युवा कवयित्री रेखा कापसे की पंक्तियां उद्धृत करना... Read more

सुपर-30 : शिक्षा का क्रांतिघोष

बेशक मैं कहूंगा मुझे क्या, हम सभी भाइयों को घर से पर्याप्त समय, संसाधन और संरक्षण मिला. पिताजी जिन्हें मैं पापाजी कहता हूं, शिक्षक थ... Read more

ट्रिपल तलाक कानून : सिर्फ घड़ियाली आंसू

आखिर आज ट्रिपल तलाक विरोधी विधेयक विपक्ष के तमाम विरोध के बावजूद राज्यसभा से भी पास हो गया और अब यह कानून का रूप ले लेगा. इस पर जिस ... Read more

सच बोल...ये काला कौआ काट खाएगा

कोई व्यक्ति देश के प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए इस कदर कैसे झूठ बोल सकता है, क्या पद की गरिमा का उसे जरा-सा भी खयाल नहीं है. आपको भी ... Read more

धर्म, अंधश्रद्धा : आप और हम... (पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे की पुस्तक ‘एक शून्य मैं’ से)

*पुरुषोत्तम लक्षमण देशपांडे (जन्म-8 नवंबर1919, मृत्यु 12 जून 2000) लोकप्रिय मराठी लेखक, नाटककार, हास्यकार, अभिनेता, कथाकार व पटकथाका... Read more

फिर भी मोदी-मोदी!!

*19 मई 2019 को लोकसभा चुनाव खत्म हुआ और तमाम टीवी चैनलों के एक्सिट पोल में बस मोदी सरकार के फिर एक बार बहुमत में आने की संभावना जताई... Read more

तीन बार गले मिले मोदी-नेतन्याहू!

भारतीय मीडिया सचमुच गोदी मीडिया बन चुका है. ठेठ शब्दों में कहें तो वह सत्ता का भाट-चारण बन चुका है. दिन-प्रतिदिन अपनी विश्वसनीयता ख... Read more

गोपालन हवे, गोपूजन नव्हे (अर्थात गौपालन करें, गौपूजन नहीं)

इन दिनों देश में क्षद्म राष्ट्रवाद का बुखार चरम है. लोग अपनी राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रवाद का परिचय तरह-तरह से दे रहे हैं. उनमें से एक ... Read more

हिंदू-मुसलिम बहस के पीछे का सच

पिछले वर्ष घटित ये दो घटनाएं शायद आपको याद होंगी जब देश की राजधानी में 3 मई 2018 को तुगलक काल के एक मकबरे को कुछ लोगों ने रंग-पोत क... Read more

धर्मनिरपेक्षता : राष्ट्रीय एकता के लिए जरूरी

हम भारत के लोग, भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्वसंपन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों... Read more

बुलेट ट्रेन का सच बनाम मोदी का झूठ

खास तौर पर इन दो-तीन वर्षों में जाना कि दुनिया में भक्तिभी कैसी कुत्ती चीज होती है. यह भी जाना कि किस कदर भक्ति में डूबे लोगों को अ... Read more

मुसलमान : चार बीवियां-चालीस बच्चे!!! कितना सच-कितना झूठ?

आपको यह याद होगा कि जब देश की 2011 की जनगणना की रिपोर्ट जारी हुई थी तो मीडिया ने (जिसका एक बड़ा वर्ग आजकल पूरी तरह दक्षिणपंथी ताकतों ... Read more

ये राष्ट्रवाद-राष्ट्रवाद क्या है?

हमारे देशवासियों का ‘राष्ट्रवाद’ विशेष तौर पर भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच के दौरान देखने को मिलता है. अगर हम मैच हार जाते हैं तो हमार... Read more

इनकी भी सुनें

खिलते गुलाब की खिलखिलाहट उनकी मनमोहनी मुस्कुराहट उनकी पंखुुड़ियों की नरमाहट और खुशबू- कितनी संवेदी और आनंददायक है सहेजो- ... Read more

इसे क्या कहें

फेसबुक इंटरनेट आईपैड मोबाइल विचार-भाव संप्रेषण के यंत्र नित-नए-नूतन हैं पर इसे क्या कहें लोगों के विचार वही जड़ मंथर दक... Read more

स्त्री का घोषणा पत्र-2

स्त्री अब अपने अस्तित्व की खुलकर कर दे घोषणा- नहीं करेगी अब पुरुष की गुलामी नहीं बनेगी अब उसकी प्रतिच्छाया वह कर दे उद्... Read more

स्त्री का घोषणा पत्र-1

पहले- मैं चारदीवारी में कैद थी पर अब- धरती के किसी भी हिस्से पर खड़े-खड़े, दूर-दूर तक दिक् और काल तक मैं देख सकती हूं-सुन सकती... Read more