नाम- सागर यादव ‘जख्मी’
जन्म- 15 अगस्त
जन्म स्थान- नरायनपुर
पिता का नाम-राम आसरे
माता का नाम – ब्रह्मदेवी
कार्यक्षेत्र- अध्यापन
माँ सरस्वती इंग्लिश एकाडमी ,सरौली,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश.
प्रकाशन -अमर उजाला ,दैनिक जागरण ,रचनाकार,हिन्दी साहित्य ,स्वर्गविभा,प्रकृतिमेल ,पब्लिक इमोशन बिजनौर ,साहित्यपीडिया और देश -विदेश की बहुत सी पत्र -पत्रिकाओँ मेँ रचनाएँ प्रकाशित.
स्थायी पता- नरायनपुर,नेवादा मुखलिसपुर ,बदलापुर ,जौनपुर उत्तर प्रदेश ,भारत .
पिन -222125
ईमेल-sagar9565@gmail.com
मो.9519473238,8528829538

Copy link to share

मै अपने पिता का सहारा बनूँगा

न चंदा बनूँगा न तारा बनूँगा मै अपने पिता का सहारा बनूँगा बड़े ही जतन से हमेँ जिसने पाला हमारे लिए अपना खूँ बेच डाला उन्हेँ जो... Read more

हो गया कोई मेरा दीवाना मियाँ

क्या सुनाएँ सफर का फसाना मियाँ हो गया कोई मेरा दीवाना मियाँ झूठ के पाँव को पूजता है सदा सत्य का शत्रु है ये जमाना मियाँ प्या... Read more

अपना हाले दिल सुनाने के लिए

अपना हाले दिल सुनाने के लिए गीत लिखता हूँ जमाने के लिए फिर किसी ने जिस्म का सौदा किया कर्ज़ बनिया का चुकाने के लिए एक माँ ने ... Read more

अब हसीनोँ की गली मेँ आना-जाना छोड़ दो

प्यार के सौदागरोँ से दिल लगाना छोड़ दो अब हसीनोँ की गली मेँ आना-जाना छोड़ दो आज पहली बार मुझसे चाँदनी ने ये कहा मेरे चंदा पर ग़ज़ल,... Read more

जाड़े के मौसम मेँ अक्सर हैँ मचलती लड़कियाँ

आपके दिल मेँ हमेँ अपना ठिकाना चाहिए एक बेघर पंछी को अब आशियाना चाहिए जाड़े के मौसम मेँ अक्सर हैँ मचलती लड़कियाँ बस इसी मौसम मेँ इ... Read more

फौजी मुझे बना दे मम्मी

एक बंदूक मँगा दे मम्मी फौजी मुझे बना दे मम्मी सरहद पर लड़ने जाऊँगा दुश्मन को मार भगाऊँगा गर्मी,जाड़ा या वर्षा हो सीना ताने खड़... Read more

जिसको पूजता संसार है

जिसको पूजता संसार है बेशक दया का भण्डार है आज फिर आपसे मिलने को मेरा ये दिल बेकरार है रस्सी से बाँध दीजे उसे जो इस देश का ग... Read more

जब योगी गाय चरायेँगे

बेशक अच्छे दिन आएँगे जब योगी गाय चराएँगे ये पंक्षी जो चुप बैठे हैँ बादल से मिलने जाएँगे पापा जब माँ को डाटेँगे हम चीखेँगे च... Read more

कभी भला तो कभी बुरा लगता है

कभी भला तो कभी बुरा लगता है वो सारी दुनिया से जुदा लगता है मुद्दत हुई उसका फोन आया न कोई खत आया मेरा महबूब मुझसे खफा लगता है Read more

टूटकर बिखरने का हौसला नहीँ है

मुझे आपसे कोई गिला नहीँ है मेरी किस्मत मेँ ही वफा नहीँ है टूटने को तो मै सौ बार टूटा हूँ टूटकर बिखरने का हौसला नहीँ है Read more

पागल

रात -दिन मेरे जीने की दुआ करती है वो लड़की अपना फर्ज अदा करती है आपसे ये किसने कहा कि मै शायर हूँ मेरी माँ तो मुझे पागल कहा करती है Read more

हमारे गंदे कर्मोँ की समीक्षा अब नहीँ होती

हमारे गंदे कर्मोँ की समीक्षा अब नहीँ होती कि पहले की तरह मेरी परीक्षा अब नहीँ होती तुम्हारे जिस्म की खुशबू हमेँ मदहोश करती है ... Read more

न शरमाएँगे दुनिया से

न शरमाएँगे दुनिया से सुबह को शाम कह देँगे जो नफरत के पुजारी हैँ वो दिन को रात कह देँगे किसी की लाश पर तुम फूल भी रखना तो चुपके... Read more

वफा का नाम सुनकर भी हमारा खून जलता है

कभी पंजाब जलता है कभी रंगून जलता है सियासी आग मेँ देखो ये देह्रादून जलता है मेरे दर से चले जाओ मुहब्बत बाँटने वालोँ वफा का... Read more

मुस्कुराने वालोँ से सब प्यार करते हैँ

जले दिल को जलाने की तमन्ना हम नहीँ रखते किसी को आजमाने की तमन्ना हम नहीँ रखते सुना है मुस्कुराने वालोँ से सब प्यार करते हैँ ... Read more

मुस्कुराने वालोँ से सब प्यार करते हैँ

जले दिल को जलाने की तमन्ना हम नहीँ रखते किसी को आजमाने की तमन्ना हम नहीँ रखते सुना है मुस्कुराने वालोँ से सब प्यार करते हैँ ... Read more

पढ़ा जो खत 'सुनैना' का

जिसे अपना समझता हूँ वही दुश्मन हमारा है तेरी दुनिया का मेरे रब बड़ा दिलकश नजारा है पढ़ा जो खत 'सुनैना' का रुआँसा हो गया मै भी ... Read more

मेरी इतनी सी ख्वाहिश है

किसी का घर बसा देना किसी घर को जला देना हमेँ आता नहीँ यारोँ मुहब्बत मेँ दगा देना मेरा दिल तोड़ने वाले मेरी इतनी सी ख्वाहिश है ... Read more

खाली हाँथ आया था

खाली हाँथ आया था खाली चला गया गुलशन से मायूस होकर माली चला गया कदमोँ मेँ जिसके डाल दी सारे जहाँ की नेमतेँ वही आज मुझको देकर... Read more

मुझे तुमसे मुहब्बत है

मेरे घर के रस्ते से जब कभी भी आप जाते हैँ मेरे घर के सोए भाग्य सच मेँ जाग जाते हैँ मुझे तुमसे मुहब्बत है तुम्हेँ मुझसे मुहब्बत... Read more

इतिहास

हाँथ की लकीरोँ पे इतना न इतरा 'सागर' इतिहास तो उन्होँने भी लिखा है जिनके हाँथ नहीँ थे Read more

जिसकी बीवी बेवफा हो जाए

खुदा आदमी से खफा हो जाए मै नहीँ चाहता आदमी खुदा हो जाए उस बंदे पे क्या गुजरेगी 'सागर' जिसकी बीवी बेवफा हो जाए Read more

क्या सच बोलना भी जुर्म है इस जमाने मेँ ?

शामो सहर रहता था वीराने मेँ बस यही खासियत थी उस दीवाने मेँ मै सच बोलता हूँ तो लोग मुझसे रूठ जाते हैँ क्या सच बोलना भी जुर्म... Read more

शायद कभी हम जलाने के काम आए

गीत, गजल, कविता सुनाने के काम आए जब तक रहे 'काका' हँसाने के काम आए लकड़ी समझकर हमको रख दो चूल्हे के पास शायदी कभी हम जलाने क... Read more

गजल कहो

नजरोँ से नजर मिलाकर गजल कहो सारे शिकवे गिले भुलाकर गजल कहो चेहरे पे हो मायूसी तो अच्छा नहीँ लगता मेरी बात मानो मुस्कुराकर ग... Read more

भारत देश महान है

भारत देश महान है भाई भारत देश महान है यहाँ के नेता चारा चरते आए दिन घोटाला करते गूँगी -बहरी जनता खातिर ये गिरधर गोपा... Read more

मुमकिन नहीँ है अब हम तुमको भूल जाएँ

मुमकिन नहीँ है अब हम तुमको भूल जाएँ आँखोँ मेँ बस गई है साथी तुम्हारी सूरत मुझको रुला रही है तेरे साथ की जरूरत आओ ए... Read more

मुजरिम

सोचा था शराफत से जियूँगा मगर इंसानियत ने मुझे मुजरिम बना दिया Read more

मुजरिम

सोचा था शराफत से जियूँगा मगर इंसानियत ने मुझे मुजरिम बना दिया Read more

बेटियाँ

माता-पिता के अधरोँ की मुस्कान बेटियाँ होती हैँ एक मुकम्मल संसार बेटियाँ हिन्दू के लिए गीता ईसाई के लिए बाईबिल मुस्लिम के लि... Read more

धूप मेँ भी चाँद का दीदार होना चाहिए

धूप मेँ भी चाँद का दीदार होना चाहिए आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए माँ- बहन , भाई को माना प्यार है तुमसे बहुत हाँ मगर कुछ मेरा ... Read more

किसी दिल को मिले जब गम तो कोई बात होती है

किसी दिल को मिले जब गम तो कोई बात होती है किसी गम से मिले जब हम तो कोई बात होती है बिछड़ कर तुमसे मै एक पल भी 'सागर' जी नहीँ सक... Read more

मै शायर हूँ मेरे प्रेमी हजारो हैँ

चमकते चाँद को बीमार मत समझो सँपोलोँ को किसी का यार मत समझो मै शायर हूँ मेरे प्रेमी हजारोँ हैँ मुझे तुम एक गले का हार मत समझो Read more

कमाओ ढेर सारा धन मगर इतनी खबर रखना

किसी के इश्क मेँ तुम जिंदगी अपनी कभी बर्बाद मत करना कि अपने स्वर्ग से घर को कभी वीरान मत करना कमाओ ढेर सारा धन मगर इतनी खबर रखना ... Read more

जिस भाई के खातिर मैने अपनी किडनी बेची थी

गली सब देख डाली पर शहर पूरा नहीँ देखा मुहब्बत के मुसाफिर ने कभी सहरा नहीँ देखा कि जिस भाई के खातिर मैने अपनी किडनी बेची थी ... Read more

मेरी माँ की महिमा

मिली जो भी खबर मुझको तुम्हेँ बतला रहा हूँ मै यकीँ मानो उसी विधवा से मिलकर आ रहा हूँ मै न देवोँ की कृपा मुझ पर न तेरा ही सहारा ... Read more

हकीकत मानने से मै भला इनकार क्योँ करता ?

हकीकत मानने से मै भला इनकार क्योँ करता तुम्हारे प्यार के खातिर किसी से प्यार क्योँ करता निवाला मुँह का देकर जिसने मेरी परवरिश ... Read more

वो लड़की याद आती है

सफर करते हुए नभ की,ये धरती याद आती है लुटेरोँ को अभी भी मेरी बस्ती याद आती है हमेँ मालूम है 'सागर' इसी को प्यार कहते हैँ मै... Read more

हंगामा

कोई जब जिस्म का सौदा लगाते हैँ तो हंगामा हया सब छोड़ के पैसा कमाते हैँ तो हंगामा वफा की राह पे हमको कोई चलने नहीँ देता कलम क... Read more

मेरी गजलेँ मेरे मुक्तक उसी माँ को समर्पित हैँ

मेरे कदमोँ की आहट को सदा पहचान जाती है वो गहरी नीँद मेँ होती भी है तो जाग जाती है मेरी गजलेँ मेरे मुक्तक उसी माँ को समर्पित ह... Read more

तू मुझे चूम ले

प्रेम के गीत पर आ जरा झूम लेँ अपने लब के लिए एक हँसी ढूढ़ लेँ चाँदनी रात है राह सुनसान है तू मुझे चूम ले हम तुम्हेँ चूम ले Read more

अब भाभी अलग चूल्हा जलाती है

न बच्चे शोर करते हैँ न मम्मी मुस्कुराती है मै जब वर्दी मेँ होता हूँ तो दादी सिर झुकाती है यही घर था जहाँ हरपल खुशी के फूल खिलत... Read more

किसी मजनूँ को जब लैला से थोड़ा प्यार होता है

कभी मंगल कभी शुक्कर कभी इतवार होता है कलेँडर के सभी पृष्ठोँ पे कोई वार होता है पिता -माता , बहन- भाई सभी को भूल जाता है किस... Read more

तू मेरी हो नहीँ सकती

किसी के खून से मै हाथ अपने धो नहीँ सकता मै अपनी राह मेँ काँटे कभी भी बो नहीँ सकता तू मुझसे प्यार करती है मगर सच बात तो ये है ... Read more

मुहब्बत मेँ मजे कम

कोई मजबूर कहता है कोई जाहिल समझता है मगर वो अपने भाई को सदा लक्ष्मण समझता है मुहब्बत मेँ मजे कम और खतरे ढेर सारे हैँ इसे बस... Read more

हृदय की पीर

कहीँ पे राँझा बिकता है कहीँ पे हीर बिकती है कि पैसे के लिए नारी की अक्सर चीर बिकती है ये कुदरत का करिश्मा है या वेश्या की अदाकारी ... Read more