Sadanand Kumar

Samastipur Bihar

Joined April 2017

मै Sadanand Kumar , Samastipur Bihar से
रूचिवश, संग्रहणीय साहित्य का दास हूँ
यदि हल्का लगूं तो अनुज समझ कर क्षमा करे

Copy link to share

हर बार पूछती हो " कैसे हो "

बम्बई 13 मई 1983 " स्वरा " पिछले मंगल को चिट्ठी मिली थी तुम्हारी पर जवाब अब दे रहा हूं लिहाजा मेरा जवाबी खत़ भी तुम्हे देर से... Read more

मां,, मन तुम्हारा बड़ा ही होगा

मेरे जन्म से पहले भी मां मन तुम्हारा बड़ा ही होगा ,, चेतना अपनी मुझमे भरकर जीवन जब तुम रचती होगी ,, नाम मां तुम्हारा तब पड़ा ही... Read more

तुम राधा नही होती,, तो प्रेम पूजा नही जाता

ठहर कर देखा है ऋतुओ को की अब सहा ,, नही जाता ,, तुम्हारे बिन भी बसंत है,, बहारे है,, ये मुझसे कहा ,, नही जाता ,, मर्यादाओ... Read more

तिरंगा मेरा अभिराम रहे

कुर्बान सदा तिरंगे पर मै भी ,, कौंध शौर्य सपूतो से ,, तिरंगा मेरा अभिराम रहे ,, डग डग पर सिंह हम स्थापित ,, गौरवगाथा अविराम रह... Read more

जगत रचयिता पूछ रहा है ,, बोलो युवा कौन हो तुम

जगत रचयिता पूछ रहा है बोलो युवा कौन हो तुम ,,,, शांत जल की नीरवता हो या अपार ऊर्जा का कोलाहल हो तुम ,,,, सिद्ध पुराने समी... Read more

वर्ण व्यंजन मे तुमको लिखना ,, क्या कोई बेईमानी होगी

वर्ण व्यंजन मे तुमको लिखना ~~~~ क्या कोई बेईमानी होगी ~~~~ मेरा तुमको अपना कहना ~~~~ हमनफ्ज ,,,, ये मेरी नाफरमानी होगी ~~~~ ... Read more

जूते भी सिलता है बचपन

ठण्डी पटकन पर ठहरा बचपन शहर चौराहे बैठा बचपन पूछे ,, जूते चमका दू क्या भईया ? क्या जूते भी सिलता है बचपन ? तनिक रूक कर ... Read more

कब तक देखे भारत , शहीदो के क्षत विक्षत शव

कब तक देखे भारत शहीदो के क्षत विक्षत शव गीदड़ हृदयी पीश्शू पाकिस्तान क्या भूल गया है करगिल का वो विजय दिवस शत्रु रक्त से अ... Read more

कहिए, कितने सुखी है आप

सम्मुख करू प्रस्तुत, एक प्रश्न मै आज किस माथे है मानव का ताज बीए एमए सुनार भी नाली छाने बाकि क्या रहा कोई काज बेरोजगारी म... Read more

भऊजी का मयका पाकिस्तान ?

पहली बार भईया,, ससूराली टूर हो आए किस्सा खोल हम को बतलाए सून कर तो जल गई हमरी जान भऊजी का मयका पाकिस्तान ,,,,,,,,,,,,,,,, !!!! ... Read more

याद हो तुम्हे, पूछा था तूमने

जमाने बाद तुम्हारे एक प्रशन का उत्तर दे रहा हूँ अब याद हो तुम्हे पूछा था तुमने ,, चंचल आँखो से भी क्यो कर इतने मौन हो तुम ? ... Read more