Sachchidanand Prajapati

Allahabad

Joined November 2018

मेरे लिखने का अंदाज़ ही मेरी परिभाषा है I

Copy link to share

क्यूँ है मन मेरा उदास ?

भीतर एक प्रश्न खड़ा है प्रश्न मेरा बहुत है खास समझ न आये करूँ मै क्या क्यूँ है मन मेरा उदास ठहरी सी है वायु ये जैसे थका-थका स... Read more

किससे कहूँ ?

किससे कहूँ ? स्पंदित ह्रदय से निकली इस पीड़ित चेतना को भावनाओं के कंदराओं में बैठी तीव्र वेदना को किससे कहूँ ? आधुनिक समाज के तथा... Read more

ये प्रेम ही तो है...

तुम्हारे ये श्रृंगार का आधार और इन भावनाओ का उदगार उमड़ता एक अलग संसार जो ले रहा विशाल आकार ये प्रेम ही तो है जो देता एक नया उ... Read more

मानव बनना भूल रहे

हर ओर हाहाकार मचा है प्राणिमात्र है निशाने पर मानवता शर्मशार खड़ी है आज बीच चौराहे पर पाश्चात्य देशों के प्रतिस्पर्धा में संस्कृ... Read more