रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

मोहनिया,कैमूर

Joined January 2017

जीवन वृत्त-

रमेश कुमार सिंह “रुद्र” 
✏पिता- श्री ज्ञानी सिंह, माता – श्रीमती सुघरा देवी।
    पत्नि- पूनम देवी, पुत्र-पलक एवं इशान
✏जन्मतिथि- फरवरी 1985
✏मुख्य पेशा – माध्यमिक शिक्षक ( हाईस्कूल बिहार सरकार वर्तमान में कार्यरत उच्च माध्यमिक विद्यालय रामगढ चेनारी रोहतास-821104 )
✏शिक्षा- एम. ए. अर्थशास्त्र एवं हिन्दी, बी. एड.
✏ साहित्य सेवा- साहित्य लेखन के लिए प्रेरित करना।
     सह सम्पादक “साहित्य धरोहर” अवध मगध साहित्य मंच (हिन्दी)
     प्रदेश प्रभारी(बिहार) – साहित्य सरोज पत्रिका एवं विभिन्न पत्रिकाओं, साहित्यक संस्थाओं में सदस्यता प्राप्त।
प्रधानमंत्री – बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन इकाई रोहतास सासाराम
✏समाज सेवा – अध्यक्ष, शिक्षक न्याय मोर्चा संघ इकाई प्रखंड चेनारी जिला रोहतास सासाराम
✏राज्य- बिहार
✏पता  -ग्राम-कान्हपुर, पोस्ट- कर्मनाशा, थाना -दुर्गावती, जनपद-कैमूर पिन कोड-821105
✏मोबाइल – 9572289410 /9955999098/9473000080
✏ मेल आई- rameshpunam76@gmail.com
                  – rameshpoonam95@gmail.com
✏लेखन मुख्य विधा- छन्दमुक्त एवं छन्दमय काव्य,नई कविता, हाइकु, गद्य लेखन।
✏प्रकाशित रचनाएँ- देशभर के विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में एवं  साझा संग्रहों में रचनाएँ प्रकाशित।
✏साहित्य में पहला कदम- वैसे 2002 से ही, पूर्णरूप से दिसम्बर 2014 से।

✏ प्राप्त सम्मान विवरण -:
भारत के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से  70 सम्मान प्राप्त/चयनित।

Copy link to share

माँ

माँ माँ की सेवा करना ही सबसे बड़ा पुण्य का काम है इन्हीं के आचल तले ही अब शीतलता का छांव है माँ के पास जो सुख भोगे कहीं नही... Read more

मनहरण घनाक्षरी

शब्द और भाव लिए,साहित्य सुगंध लिए सृष्टि का सृजन कर,सपने सजायेंगे। ख्वाबों का उड़ान भर,कल्पना सृजित कर साहित्य समन्दर में,लहरें जग... Read more

बेटी

बेटी नहीं तो कल नहीं है। बेटी है तो सुफल यहीं है। बेटी है तो संसार है सुंदर। बेटी है तो अरमान है सुंदर। अन्तरज्योति है सपनों की।... Read more

"बेटी"

बेटी नहीं तो कल नहीं है। बेटी है तो सुफल यहीं है। बेटी है तो संसार है सुंदर। बेटी है तो अरमान है सुंदर। अन्तरज्योति है सपनों की।... Read more

कश्मीर हमारा है

सदियों से लहू बहायें हैं बगिया को खूब सजाये हैं फैला है आतंक तो क्या सबको मार भगायें हैं॥ कश्मीर हमारा था पहले भी हमारा आज ... Read more