Ramkumar Ramarya

Joined February 2017

साहित्य मृगतृष्णा बन कर मन को दौड़ा रहा है। कई शेरों ने झपट्ट मारे, घायल किया, मरणासन्न हुआ, पर चौकड़ी नहीं छोड़ी।

अतः प्रस्तुत हूँ!

?☺?

Copy link to share

अदब

किसी' इस्कूल की बेजान सी' मजलिस जैसे!! अदब है शहरे ख़मोशां की परस्तिश जैसे!! तमाम चेहरों से मुस्कान ऐसे ग़ायब है, पढ़ा रहा हो छड़ीद... Read more

गौरैया : नवगीत

नवगीत * जब उठ जाये दाना पानी! उस मुंडेर पर बैठे रहना, प्रिय गौरैया! है नादानी!! * जाने किसके मन में क्या है? जग की बातें स... Read more