Hii..my name is “ritu raj”…i am student of science..& interested in reading nobels,writting articles & poems..
” कविताऍ लिखना सिर्फ मेरी रुचि नहीं
..मेरी रुह को सुकुन देने का जरिया भी है
इसलिए वही लिखती हूँ जो महसूस करती हूँ ।”
दुनियाँ की भीड़ में अपनी एक छोटी-सी पहचान बनाने की कोशिश में…?

Copy link to share

नज़र किसकी लगी

ये नज़र किसकी लगी कि सारे नज़ारे बदल गए… हवा ने रुख जो बदला सारे सितारे बदल गए… के कल तक था हमारा आशियाँ दरगाह जिनका… वो आज ... Read more

माँ..मैं तेरी आत्मजा

माँ..मेरी आवाज तो सुनो क्षण भर रुको..तुमसे दो बाते तो कर लूँ इकबार तो सुन लो माँ "मै हूँ तुम्हारी आत्मजा" माँ दिल में तो दर्द... Read more