Ballia
Joined November 2018
1 Post · 65 View
मंजिल की तलब नही मुझे, अपनी धुन का राही हूँ। अश्रु की स्याही,दर्द की गवाही,कलम… Read more

Posts (1)

All कविता (1)
Sort by: Date Views