उफ़…मीठी_चाय…
कागज की नाव…
अल्फाज मेरे….कलम तेरी…
बस साधारण-सा कलमकार…
#जज़्बाती….

Copy link to share

नव वर्ष मुबारक हो तुम्हें...

तेरी यादों से भरा वो लिफ़ाफा ढूंढ रहा हूं मैं आज, जुदा होकर तुझ से जज़्बाती कहां रहा हूं मैं आज... स्याही से लिखता हूं तुम्हे... Read more

मेरी मां...🤫

...मेरी मां... तुझे रोते बिलखते, तेरी रूह को तड़पते मैंने देखा है... दर्द से जुझके तुझे हंसते हु... Read more

राजनीति की आत्मा थे अटल बिहारी जी

तू क्यूँ हार गया मौत से... अटल था अपनी सोच से... तस्वीर मेरे हिन्द की बदल गया अटल, कहेंगे अब हम अटल बिहारी कौन से...? हो गये ह... Read more

स्वधीनता हमारा पर्व....

हर एक गाँव में, हरेक शहर में जश्न आजादी का उभर रहा है... जनगणमन सर्वत्र एक स्वर में, 72वाँ भारत पर्व मना रहा है... . तस्वीर भा... Read more

...हँसी कहाँ िमलती है...

हाँ, टूटते हुये किनारों से लहरें जहाँ मिलती हैं... उन बिखरते साहिलों पर राहत कहाँ मिलती है... विपरीत वक्त में खुदको बदलना चाहता हू... Read more

मुकाम अधूरा-सा है तुझ बिन...

मुकाम मेरा अधूरा है, तुझ बिन अभी, आ चल मेरे साथ,चाँद के उस पार कहीं... . जरूरी है तेरा साथ,इस जमाने की भीड़ में, मिलोगे तुम मुझे... Read more

...बे-वक्त मचलती लहरें...

मचलती उन लहरों का, गुम था किनारा कहीं... बदलते उन शहरों का, सूना था नजारा कहीं... हाँ बेवक्त उन पहरों का, सबब था मुनासिब कहीं..... Read more

...बेचैन धरा....!!

........................ धरा आँचल गुम हुआ कलुष तह में... बिखरा है तिमिर नभ तल में कहीं... . विहग-वृंद आतुर हुए तरु आँचल को... म... Read more

बेचैन धरा...

तपती धरा की बेचैनी, महसूस करके तो देखो... बिन पानी सूरज की गर्मी, खुद सहकर तो देखो... इतना ही नहीं, धरा की बंजर-सी हालत तो देखो...... Read more

!!....चाँदनी रात....!!

आसमाँ की श्याम वर्ण रूपी चादर में... झिलमिलाते अनगिनत सितारे... जाने किसने टाँक दिये शीतल चादर में... पुष्प हों गुलचाँदनी के सिता... Read more

__जिग़र का टुकड़ा होती है बिटिया___

बिदाई के दिन जिगर का टुकड़ा होती है बिटिया... मगर जन्म होने पर क्यों शोक होती है बिटिया... . निर्मल संस्कारों की छाँव में पलती है... Read more

...तू है जुनून-सा...

इन आँखों को... कैसे बंद करूँ... जब तू है मेरे सामने... . इस दिल में... इक शोर है... जैसे कह रहा हो हर दिन तू हो मेरे सामने..... Read more

....रंगोत्सव मंगलमय हो...।।

______मुक्तक_____ कुछ अनकही बातें कहना है इस रंगोत्सव पर... रूठे हुये यारों को मनाना है इस रंगोत्सव पर... गुजरा कल भूलकर सबको रंग... Read more

___कैसे रंग लूँ चुनरिया सतरंगी___

कैसे चुनरिया अपनी रंग लूँ सतरंगी... बता मेरे सावरिया... कैसे दूर रंगों से रहूँ अंतरंगी... बता मेरे सावरिया... . कैसे जिन्दगानी ... Read more

__यूँ बे-वजह पटरी पर बैठा न होता__

नम होती हैं आँखें... मगर अश्क नहीं झलकता... हजारों होती हैं शिकायतें... मगर अपना कोई नहीं समझता... . _______________ ... Read more

__दूर कहीं....??

दूर कहीं बह जाना चाहता हूँ... तन्हाँ अकेले लहरों में... . दूर कहीं सफर करना चाहता हूँ... ख्वाबों के बने शहरों में... . दूर कही... Read more

?...हूँ तेरे इंतज़ार में__?

कब से तेरी राहों में... खड़ा हूँ बे-सब्र सा... जिन्दगी की राहों में... चलना चाहता हूँ बे-फिक्र सा... हूँ तेरे इंतज़ार में... बस ... Read more

___माँ की बनी रोटी___

मेरी माँ के हाथों की बनी रोटी... होती है गोल मटोल-सी छोटी... कभी वक्त मिले तुमको... दुनियादारी की मोहमाया से... कभी चैन मिले त... Read more

उफ़.... मीठी_चाय...

जज्बाती कलम अपनी कैसे रोक दूँ... उसने जब पूछा तेरा दिल कैसे तोड़ दूँ.... . इजहार-ए-दिल आँखों से कैसे कर दूँ... उसके नाम धड़कनें ... Read more

इश्क़ की किताब...

हर वक्त सोचता हूँ... इश्क की किताब को... कर दूँ आज बंद... हर दफा खामोश हूँ... खामोशी के पन्नों को... कर दूँ आज रंग... हर लम्हा... Read more

हर दिल अजीज नहीं होता यारों....

हर दिल अजीज़ नहीं होता यारों.... हर दिल में दोस्ताना नहीं होता यारों... हरेक दिल इतने करीब नहीं होता यारों... हरेक दिल मोहब्बत ... Read more

नन्हीं कूची से हर लूँ अंधियारा....

..... #नन्हीं_कूची_से_हर_लूँ_अंधियारा....?? गहरे समंदर-सी है हमारी जिन्दगानी... जाने कब तक मिलेगी जीवन को रवानी... बादलों की गह... Read more

???? इक शाम यूँ ही गुजर जाती है.... ????

इक शाम यूँ ही गुजर जाती है.... वतन की पताका फहराते हुये... .???????? देशभक्ति यूँ ही मुकर जाती है... चमन-सी जिन्दगानी सजाते हुये... Read more

जमीं आसमाँ का मिलन....??

वसुंधरा और नीलाम्बर का मिलन... जगत का मनोहारी दृश्य इक... सतरंगी चादर निर्मित करेगा... इंद्रधनुष जितनी खूबसूरत इक... अप्सरा-सी प... Read more

कागज कलम कलमकार....

कागज कलम कलमकार का केवल एक ही कमाल... कुरूप कोमला कविता कर कला-कौशल बने बेमिसाल... . हे कलम मैं सरल कलमकार कामना करूँ यही... काम... Read more

दाना बना...#सजा...

थी इक चंचल पवित्र हृदय-सी सुंदर चिड़िया... उड़ रही थी नभ मंडल में बहुत ही बढ़िया... . इक दफ़ा नजर को भा गयी थी सुंदर चिड़िया... ... Read more

.....वफ़ा का शहर.....

गहरा है समंदर कहीं खो न जायें.... हासिल नहीं किसी की हमें वफायें... . फिर आज बहका हूँ कहीं बह न जायें... है उम्मीद कहीं टकरायेंग... Read more

....नई_राह....

चारों कोणों से युक्त क्षितिज मंडल... है जीवन की परिभाषा... भवबंधन से मुक्त हो भू-मंडल... है जीवन की अभिलाषा... . सार्थकपूर्ण म... Read more