डॉ. बीना राघव

गुरुग्राम

Joined November 2018

नाम – डॉ. बीना राघव ‘वीणा’
सम्प्रति – साहित्यकार एवं शिक्षाविद्
संपादन कार्य  – भाषाभारती पत्रिका , नई दिल्ली, सिनर्जी, शब्दगाथा(समीक्षा पुस्तक) आदि।
प्रकाशन – विभिन्न हिंदी पाठ्य पुस्तकें, शोध ग्रंथ – हरियाणवी एवं राजस्थानी लोक साहित्य, काव्य के सप्तरंग(काव्यसंग्रह प्रकाशाधीन) , सात साझा काव्य संकलन, अनुवाद – भारतीय कला का इतिहास एवं सौन्दर्य (अंग्रेजी से ), हिंदी प्रतिलिपि पर कहानी लेखन। नुक्कड़ नाटक, एकांकी, कविता आदि लिखने में ख़ास रुचि। भाषा भारती, नवपल्लव, शब्द सुमन, साहित्य कलश, सिनर्जी, जगमगदीप ज्योति, मधु संबोध आदि पत्रिकाओं में प्रकाशित लेख, कहानियाँ, कविताएँ आदि
सम्मान : आदर्श राष्ट्रभाषा शिक्षक पुरस्कार, राष्ट्रीय भाषा- भूषण पुरस्कार, हिंदुस्तानी भाषा अकादमी द्वारा समीक्षक और शब्द साधना काव्य प्रतिभा सम्मान, हिंदी की गूँज संस्था द्वारा 2018 का हिंदी साहित्यकार पुरस्कार व सम्मान, शब्द सुमन साहित्यिक संस्था द्वारा हिंदी गौरव पुरस्कार आदि।

दूरभाष – 9810723610

ई- मेल – rbeena2012@gmail.com

Copy link to share

मुक्तक

मनदीप दुआओं का सपनों की मुंडेर पर जला है संसार ने तो गहरे से कदम -कदम मन को छला है हार मानी है कहाँ तम से फिर जिद्दी उजालों ने ... Read more

हम बच्चे हिंदुस्तान के

बच्चों को समर्पित एक रचना- हम बच्चे हिंदुस्तान के नन्हे दूत भगवान के। रल-मिल सारे रहते हैं खुशियों के सपने पलते हैं विजय पत... Read more

विषधर

विषधर बरखा रानी ने धरा पर अपना साम्राज्य फैलाया तो बिल में जल भर जाने से सर्प और सर्पिणी निष्कासित हो गए। वे रेंगते-रेंगते एक घर ... Read more

कल्याण

कल्याण "बाबूजी, हमारे जीवन में तो शिवरात्रि आती ही नहीं, मात्र अँधेरी रात है जिसका स्याह अँधेरा दिन के उजाले को भी निगल लेता है।"- ... Read more

दोहे मोहे

दोहे मोहे नमो नम: वागेश्वरी, करो जगत कल्याण। आन विराजिए रसना, सृजना का वरदान।। रिद्धि सिद्धि बुद्धि वर दो, गणपति शुभ किरपाल। ... Read more

बाल मजदूरीः बालशोषण

बाल मज़दूरी : बाल शोषण हे विधाता! कैसा है ये विधान तुम तो हो करुणानिधान कैसे हैं ये बच्चे गरीब जिन्हें होता नहीं बचपन भी नसीब... Read more

कुंदन मात बना दिया

🌻माँ🌻 कुंदन मात बना दिया, देकर अपना प्यार। हृदय कमल खिलता रहा, तेरे नीर दुलार।।१।। शब्दों में ना लिख सकूँ, माँ तेरे उपकार। क... Read more