Bhupendra Rawat

उत्तराखंड अल्मोड़ा

Joined January 2017

M.a, B.ed
शौकीन- लिखना, पढ़ना
हर्फ़ों से खेलने की आदत हो गयी है
पन्नो को जज़बातों की स्याही से रँगने की अब बगावत हो गईं है ।

Copy link to share

तुझे पाकर खुद को भूल गया हूँ मैं देख अब तुझ सा हो गया हूँ मैं

तुझे पाकर खुद को भूल गया हूँ मैं देख अब तुझ सा हो गया हूँ मैं कल तक बहता पानी था नदी का तुझमे समाकर समुंद्र हो गया हूँ मैं ... Read more

मशरूफ है वो अब उन्हें मशरूफ रहने दो

मशरूफ है वो अब उन्हें मशरूफ रहने दो चकाचौंध के इस जहाँ में उनको चंद वक़्त रहने दो आएंगे पंछी घर अपने ही सूरज को जरा ढल लेन... Read more

वो अब सताने लगें है सपनो में भी आने लगे है

वो अब सताने लगें है सपनो में भी आने लगे है वादें तो आसमाँ से चाँद तारे तोड़ लाने के थे झूठा अब वो हमें बताने लगे है जब से द... Read more

दर्द था जख्म का पता भी नहीं

दर्द था जख्म का पता भी नहीं अपनों के जख्म का निशाँ ही नहीं करहातेे रहे रात भर दर्द में मरहम किसी ने दिया ही नही हम तो अपनो... Read more

सदा तुम यूं ही मुस्कुराते रहना

सदा तुम यूं ही मुस्कुराते रहना काम है दुनिया का हर पल जलाते रहना आए पल कैसा भी ज़िन्दगी में हर मुश्किल क्षण को हँसी से ठुकराते ... Read more

तेरी यादे मुझे तेरे से रिहा होने नहीं देती

तेरी यादे मुझे तेरे से रिहा होने नहीं देती लिपटी रहती है तू मुझसे दूर होने नहीं देती मेरे दिल के पिंजरे में कैद तेरा अक्स है ... Read more

मिलन तो दो रूह का होता है क्यों लोग जिस्म का खेल समझते है

मिलन तो दो रूह का होता है क्यों लोग जिस्म का खेल समझते है अपनी जिस्म की प्यास बुझाने के लिए क्यों नदी का बहता आब समझते है ... Read more

कितनी अजीब कहानी है प्यार उनका अब मेरे लिए निशानी है

कितनी अजीब कहानी है प्यार उनका अब मेरे लिए निशानी है बिक रही है निशानी सरे बाज़ार में आज कौन यहाँ मीरा जैसी दीवानी है लूट... Read more

अब उस बेवफ़ा से दिल क्या लगाना

अब उस बेवफ़ा से दिल क्या लगाना जो ना हो अपना उसे अपना क्या बताना अब वफाएं तो बीते जमाने की बात है आज अपनों को भी अपना क्या बता... Read more

अब वो पुरानी किताब मांगता है

अब वो पुरानी किताब मांगता है हर बात का वो हिसाब मांगता है दफ़न है किस्से सारे किताब में वो कोरे पन्ने बेहिसाब मांगता है नहीं ... Read more

अब दवाओं में भी वो बात नही

अब दवाओं में भी वो बात नही अब जख़्म का कोई इलाज़ नही खुली किताब थी ज़िन्दगी कल तक बन्द किताब में अब कोई राज़ नहीं बेरंग है ज़िन्... Read more

लब मेरे अब मुस्कुराने लगे है नाम अब तेरा गुनगुनाने लगे है

लब मेरे अब मुस्कुराने लगे है नाम अब तेरा गुनगुनाने लगे है तू ही वज़ह है अब जीने की सपने भी मुझे तेरे आने लगे है रूह में बस... Read more

गम की आंधियो से बाहार निकल आया हूँ

गम की आंधियो से बाहार निकल आया हूँ तभी तो साहिल के थपेड़ों का हो पाया हूँ ज़िन्दगी तलाशता रहा मैं तुझे आज उस तलाश का हीरा बन... Read more

पढ़ते सब शौक से है ग़ालिब को मर कर भी जिंदा दास्तान बन बैठे है

शब्द भी गुलाम बन बैठे है जैसे तेरे मेहमान बन बैठे है दिल में दफ़न कितने अरमान है अब हम शमशान बन बैठे है दुनिया के बाजार... Read more

खामोशी एक ही सवाल पूछती है

खामोशी एक ही सवाल पूछती है तन्हाई में क्यों तन्हा छोडती है बसी है जब ख़्वाबों में मेरे दूर होकर क्यों हाल पूछती है जिंदा ला... Read more

ये अपना ज़माना ना था दर्द उसे दिखाना नहीं था

ये अपना ज़माना ना था दर्द उसे दिखाना नहीं था चल दिए साहिल की मस्ती में उनको साथ निभाना नही था घुट घुट कर जी रहे है उनकी याद... Read more

खुश रहे वो हर पल ज़िन्दगी में

खुश रहे वो हर पल ज़िन्दगी में लब मेरे आज भी उसे दुआ देते है गम हो उसको जिंदगी में कोई भी मोती मेरी आँखों में सजा देते है दर... Read more

नहीं चाहिए वो दिन वो राते जिसमे तेरा एहसास ना हो

नहीं चाहिए वो दिन वो राते जिसमे तेरा एहसास ना हो नहीं चाहिए वो दिन और राते जिसमे तेरी बात ना हो नहीं चाहिए ज़िंदगी ऐसी जिसम... Read more

तुम अब जलाते बहुत हो

तुम अब जलाते बहुत हो पास आकर सताते बहुत हो दिल तो जोड़ा नही तुमने कभी लेकिन दिल तोड़ जाते बहुत हो दिल है नदां मेरा बेचारा इस ... Read more

बस इतना की अब मन नही है

बस इतना की अब मन नही है अब पहले जैसा जीवन नही है बह रही है कश्ती मंज़िल पाने को अब मंज़िल का कोई जिक्र नही है भटक गयी कश्ती अप... Read more

जीने का ना कोई बहाना चाहिए

जीने का ना कोई बहाना चाहिए अब तो यार वही पुराना चाहिए दिल को दिल से लगाना चाहिए इश्क़ में थोड़ा फड़फड़ाना चाहिए यार बना लो कितने... Read more

राह अब आसाँ नही साहिल के थपेड़ों में

मुक्तक........ रतजगा करना अब उनकी आदत में है हमको सताना उनकी फ़ितरत में है लौट चले हम अब अपनी राह को अब उनकी चाह में तड़पना मेरी... Read more

तुमने बुरा कहा भी तो अच्छा लगा मुझे

तुमने बुरा कहा भी तो अच्छा लगा मुझे तुम्हारी याद में तड़पना भी अच्छा लगा मुझे पी लिया ज़हर भी अमृत समझकर तेरे लिए मरना भी अच्छा ल... Read more

कभी चुपके से दर हमारे भी आ जाना

कभी चुपके से दर हमारे भी आ जाना कोई देख ले तो कोई बहाना बना जाना याद आना फुर्सत के लम्हो में हमकों कभी हमें भी यादों में अपनी ब... Read more

दिल से दिल मिल जाए तो

दिल से दिल मिल जाए तो दूरीयाँ अच्छी नही लगती चलती हुई साँसे रुके तो रुकी हुई साँसे अच्छी नही लगती गुज़र जाता सफर तुम्हारे बि... Read more

लबों की हंसी चुराना आसान ना था

लबों की हंसी चुराना आसान ना था उन्हें अपना बनाना आसान ना था सपने तो अपने थे वो भी खरीद लिए उनका सपनो में आ जाना भी आसान ना थ... Read more

किस्से बहुत है हमारे ज़माने में

किस्से बहुत है हमारे ज़माने में उनको याद नही आज के फ़साने में दिल लेकर उड़ गया परिंदा दूर कही हम आज भी कैद है उनके पैमाने में न... Read more

अब कोई ऐसी दवा नही मिलती जीने की कोई वजह नही मिलती

अब कोई ऐसी दवा नही मिलती जीने की कोई वजह नही मिलती चाह तो मंज़िल को पा जाने की है लेकिन अब कोई राह नही मिलती ऊँचे आकाश में उ... Read more

अश्क़ आज आँखों में भर कर आया हूँ

देख आज भी कहाँ तुझे मैं भूल पाया हूँ अश्क़ आज आँखों में भर कर आया हूँ आज भी आरज़ू है तुझे पाने की मैं ज़िन्दगी को पीछे छोड़ आया ह... Read more

उनकी आँखों में एक नशा सा है

उनकी आँखों में एक नशा सा है उनकी ना मेरे लिए सजा है उनको नाज़ाने कैसा शिकवा है साथ उनके जीने में ही तो मजा है ना देखे ह... Read more

ज़िन्दगी में इक़रार होना चाहिए

ज़िन्दगी में इक़रार होना चाहिए किसी ना किसी से प्यार होना चाहिए ज़िन्दगी के सफर में दिलदार होना चाहिए तुमको भी उससे प्यार होना चाह... Read more

चमकता है चाँद अँधेरे में तीरगी ए शब में तारे भी चमकते होंगे

चमकता है चाँद अँधेरे में तीरगी ए शब में तारे भी चमकते होंगे बागबाँ खिलता है जब फूलों का गुलशन भी महकते होंगे दरख़्त की छांव म... Read more

अब दिल लगा कर वो इश्क में सदा के लिए दूर जाना चाहता है

अब दिल लगा कर वो इश्क में सदा के लिए दूर जाना चाहता है समुंद्र में बहती हुई कश्ती का अब वो ठिकाना चाहता है नहीं मिलता वक... Read more

जिंदगी नही मौत गले लगा ली हमने

जिंदगी नही मौत गले लगा ली हमने वो पास आये नही,खुद को सजा दी हमने इंतज़ार करते रहे मरते दम तक उनके इन्तजार में ही जिंदगी बिता दी... Read more

आँखों में थोड़ा इंतज़ार होना चाहिए सन्म से थोड़ा प्यार होना चाहिए

आँखों में थोड़ा इंतज़ार होना चाहिए सन्म से थोड़ा प्यार होना चाहिए बढ़ चले है मंज़िल की और कदम राह में कांटो के लिए तैयार होना चाहिए ... Read more

वो जीने की अब दुहाई दे रहा

वो जीने की अब दुहाई दे रहा अश्क आँखों में उसके दिखाई दे रहा आँखों का छिपा हुआ दर्द अब लबों से सफाई दे रहा राही बहुत है... Read more

अपना ऐसा मिजाज़ रहने दो खुद का खुद में राज रहने दो

म्यान में बंद उनकी तलवार रहने दो पर्दे के पीछे तब्बसुम का वार रहने दो बिन उनके ज़िन्दगी यार रहने दो हाथों में अपने अखबार रहन... Read more

क़िस्मत जिसकी रूठ गयी होगी

क़िस्मत जिसकी रूठ गयी होगी उम्मीद उसकी सारी टूट गयी होगी लेकर चला था सफ़ीना अपना दरिया में लहरों से टकराकर कश्ती डूब गयी होगी ... Read more

ज़िन्दगी में ऐतबार कौन करे

ज़िन्दगी में ऐतबार कौन करे , डूब कर समुंद्र में दरिया पार कौन करे ज़िन्दगी तो एक तमाशा है , बेवफाओं से याँ प्यार कौन करे . छीन... Read more

दर्द है, आँखों से मोती बन निकल ही जायेगा

दर्द है, आँखों से मोती बन निकल ही जायेगा सिरफिरा बन अब तू किधर को जायेगा ना होगा साथी कोई तेरे सफर का अब तू ही बता तन्हा बन कह... Read more

ख़्वाबों में दुनिया अपनी, बनाए बैठे है

ख़्वाबों में दुनिया अपनी, बनाए बैठे है दिल अपना गैरो से लगाए बैठे है क़लम से दोस्ती जब से कर ली है कोरे पन्नो में दर्द सजाए बैठे... Read more

लबों को सिना जरूरी है जाम दर्द का पीना जरूरी है

लबों को सिना जरूरी है जाम दर्द का पीना जरूरी है क्यों इतना मुस्कुरा रहे हो यहाँ दर्द में भी हँसी का लिबाज़ पहनना जरूरी है उनक... Read more

लोग क़रीब बुलाते है क्यों

लोग क़रीब बुलाते है क्यों क़रीब बुलाकर दूर चले जाते है क्यों ख़्वाब दिखा कर झूठे हक़ीक़त में तोड़ जाते है क्यों जब मरहम लगाना नही... Read more

ज़िंदगी भर उनकी निगाहों में रहा जैसे बहती हुई फ़िज़ाओं में रहा

ज़िंदगी भर उनकी निगाहों में रहा जैसे बहती हुई फ़िज़ाओं में रहा तलाशता रहा आशियाना दरख्तों में सुखी हुई टहनी की शाखाओं में रहा ब... Read more

लोग हमेशा सताते रहे

लोग हमेशा सताते रहे अश्क़ आँखों में आते रहे तड़पते रहे गए हम उनकी यादों में वो भी सदा अपनी यादों में तड़पाते रहे भटक गए थे चंद ... Read more

प्रकति से मत करो खिलवाड़

प्रकति से मत करो खिलवाड़ प्रक्रति है हमारे जीवन का आधार आधार ही नही होगा तो कैसे रहे पाओगे आधार बिन अपनी क्या पहचान बताओगे प... Read more

वो मुलाकात भी मुलाकात क्या थी

वो मुलाकात भी मुलाकात क्या थी दिल में जब उसके जगह ही ना थी वफ़ा की बात भी क्या करते थे अब वो गमज़दा भी ना थी गिरियां हो कर पु... Read more

आज फिर यादों का जन्म हो गया

सारी यादों का था कत्ल हो गया आज फिर उससे मिलन हो गया गुज़रा हुआ कल था समक्ष फिर आज फिर दिल में जख्म हो गया दर्द में तड़पते रहे... Read more

ख़्वाबों को ही अब हम अपना बताते है

ख़्वाबों को ही अब हम अपना बताते है हकीकत में वो हमसे दूर ही नजर आते है मोती अब आँखों के खुद ही सूख जाते है जख्म में अब वो नमक ... Read more

अभी चेहरे पर हिजाब रहने दो

अभी चेहरे पर हिजाब रहने दो उसे बंद किताब रहने दो सवाल है ढेरों किताब में सवाल अभी राज़ रहने दो चांद तारों से भरी रात बाकी ह... Read more