Ranjeet Ghosi

Joined October 2017

PT I.
B. A. B.P.Ed.
H. S. School imaliya Gotegoan MP.

Copy link to share

इश्क..

प्यार किया है उसने लेकिन समझा बहुत कम मिले दुबारा वो मुझे कहते बिगड़ गये थे हम चला दी दिल पर आरियां बरसाया ये सितम आया शंद... Read more

नया वर्ष...

नया बर्ष ऊर्जा के नये आयाम ले आये! बुरा लगे जो गीत पुराना नये गीत ले आये!! मंजिल अधूरी हो तुम्हारी नयी राह ले आये! बुरा लगा ... Read more

क्या खूब होता है...

अंधेरी निशा में चांदनी का साथ क्या खूब होता है ! डूबते दरिया में तिनके का सहारा क्या खूब होता है! जुदाई में हम तड़पते हैं जर... Read more

कोई नही,कोई नहीं..

उदास उदास सी है जिदंगी, मुक्तयार कोई नहीं! लवों से हसी गायब सी, हसाने को कोई नहीं!! नैना भी सूखे से, सावन सा एहसास कोई नहीं! द... Read more

दिल की मंजिल..

दिल का सुकुं तलास करूं कैंसे दिल की मंजिल को में पांऊ कैंसे!! मंजिल पाने के तो लोग रास्ते निकाला करते हैं दिल की मंजिल पाने का ... Read more

ताज भी झोपड़ी लगने...

जो सदा दिल के करीब थी,बो आज दूर सी लगने लगी! जो दिल की बड़ी अजीज थी, आज बड़ी क्रूर सी लगने लगी!! सजाया करते थे स्वप्न भी जिसक... Read more

कल्पतरु वाणी...

कल्पतरु की जीवन गाथा कल्पतरु रत्नों का भ्राता! कल्पतरु निकला मंथन से कल्पतरु जुड़ा जीवन से!! कल्पतरु है एक वरदान देता जो ... Read more

इतना खुश कभी ना देखा...

तुझ पर ही मरता हूं तुझसे ही जी उठता हूं अब ये बोझ सहा नहीं जाता काश तु अब मुझे मिल जाता दिल खोल अपनी बात सुनाता दिल के स... Read more

दिल क्यूं तुझ पर मरता है..

भरे हैं आंख में आंसू फिर भी मुस्कुरा लेते हैं इनमे कुछ राज है जो अक्सर छुपा लेते हैं जुंबा खामोश रहती है बातें रोज भी तु... Read more

लिखूं क्या मैं कलम से...2

लिखूँ क्या मैं,कलम से लिखूं,या तेरे दम से लिखूँ! आसमान और धरा का, दूर दिखता मिलन लिखूँ! या दूर मन के, मिलन के वो भाव लिखूँ!! ... Read more

लिखूं क्या मैं कलम से...1

लिखूँ क्या मैं, कलम से लिखूँ या तेरे दम से लिखूँ!! सूरज का रोशन जहां लिखूं! या चांद से सुंदर तेरा रूप लिखूँ!! तारों से सजा आस... Read more

इंतजार का सफर..

इंतजार का ऐ सफर में, कैंसे तय कर पाऊं ! टूट न जाए सांस की डोरी, मुर्दा ना बन जाऊं!! बन गया हूं मैं सिसकियां, खुशी कहां से ला... Read more

मोहब्बत निर्मल गंगा जल ....

मोहब्बत एक गंगा जल, सी निर्मल कहानी है! जो पी गया कबीरा, मीरा भी दीवानी है ! नदिया लाख मिला ले समंदर अपने में, प्यास किसी एक ... Read more

मोहब्बत निर्मल गंगा जल ....

मोहब्बत एक गंगा जल, सी निर्मल कहानी है! जो पी गया कबीरा, मीरा भी दीवानी है ! नदिया लाख मिला ले समंदर अपने में, प्यास किसी एक ... Read more

निकल न जाए दम...

दुनिया के भरे बाजार में, कहीं पीछे छूट न जाएें हम ! चलने का कोई हुनर नहीं है, कहीं लुट ना जाए हम!! बेगेरत सी लगती दुनिया,कहीं... Read more

अपनी किस्मत....

आज मैं अपनी किस्मत को, फिर आजमाने चल पड़ा हूं !! देखना है क्या मिलता है, नसीब को मेरे ! आज पुरानी राहों पर, फिर मैं अकेला सा ... Read more

दिल जब रोता है...

दिल जब रोता है, तो खुद ही गुनगुना लिया करते हैं ! आंखों से निकलते हैं,जब अश्क के मोती, तो उन्हे खुद ही पुरो लिया करते हैं ! सोच... Read more

मैंने अपनी मंजिल ना पाई...

जीवन के गुमनाम सफर में मिला न कोई सच्चा हमदम एक राह पर चलने, न हुआ तैयार प्रीतम डूब रहा हूं मैं लेहरो में नजर न आया कोई माझी,को... Read more

तुम सब कुछ कह देना...

मिलने से जो खुशी मिली है बिछड़ने का गम कांटों चुभता है खुशी बांट ली तुझ संग यारा गम कैसे मैं बांटूगा जिसका दामन भरा फूलों से क... Read more

ईश्वर तेरा कैंसा जीवन.

जीवन के है रंग निराले थोडे भूरे थोडे कारे कही रंगनियत मिलती नहीं कही रंगिनियत दिखती नहीं कहीं पे मिलती धन और दौलत कदम चूमती उनक... Read more

मोहबत एेसी पूजा है ...

मोहबत एेसी पूजा है, मोहबत सा नहीं दूजा एे तो एेसी दौलत है, एे तो एेसी सोहरत है मिल जाये जिंनहे, खुदा की इबादत है मोहबत दरद मे भ... Read more

मोहबत एेसी पूजा है ...

मोहबत एेसी पूजा है, मोहबत सा नहीं दूजा एे तो एेसी दौलत है, एे तो एेसी सोहरत है मिल जाये जिंनहे, खुदा की इबादत है मोहबत दरद मे भ... Read more

आंसू पूछें ...

आंसुओं का हिसाब, कुछ मैं लगा नहीं सकता खुशी के है या गम के, कुछ कह नहीं सकता आसूंआे के समंदर में,कहीं चिराग ए रोशन बुझ ना जाए जिन... Read more

कहीं मैं खुद को भूल न जाऊं..

कहीं मैं खुद को भूल न जाऊं खुद से ही अनजान हो जाऊंगा किया ना था जो काम कभी काम वो अब ना कर जाऊं शर्मिंदा तुझे कर नहीं सकता ... Read more

तोड़ दूं कैसे पैमाने

तोड़ दूं कैसे पैमाने, उसमें तू बसती है मैं जब चाहूं तू मिल जाए मेरे जख्मों पर,फिर मरहम लगाए सुकून थोड़ा सा मुझे मिलता है तेरे न... Read more

तुमने कैसे जुदा कर देना..

उनको चुके कुछ एहसास हमे जुदा मिला थी वहीं जालिम पर अंदाज नया मिला था उसकी आंखों में कुछ और शायद पर जुवा पे ताला लगा मिला कहना ... Read more

अकेला एहसास..

चलना अकेला ही मुझे बस यादों का साथ है तेरा कोई रास्ता दिखाई देता नही बस एक विश्वास है तेरा मंजिल भी धुंधली दिखाई पड़ती बस आंख... Read more

दिल के अऱमा

मेरे दिल के सारे अरमां,कविता और गजलो मे डाले कविताऔर गजलें लिख -लिख,दिल पर पड गय थोड़े जाले कविता और गजलों में, ना लिखा तेरा नाम क... Read more

दिल पंछी

आज दिल पंछी बन,फिर उड़ चला हवा के समंदर में डूबकियां लगा बसानी थी मंजिल उसे भी कही ना था मगर अपने घर का पता सरहद परिदों की होत... Read more