उपहार

' मैं तुम्हारे प्यार में पलता रहूँ ' -- तो ठीक होगा । ज़िन्दगी अभिशप्त थी, खामोशी थी प्यासी-जवानी, अश्रु-कण जब लिख रहे थे, वेदनाओं ... Read more

कहानी - 'अहसास'

इस बार नव वर्ष पर वो उमंग कहाँ, उसमे भी बुखार । इसीलिए जब चंदुआ ने चिल्लाता ''दीदी जलेबी, गर्म है '' तो मीनू मैंडम खिड़की बंद कर ली ।... Read more

आज किस बेटी की बारी है

हर माँ-बाप का मन भारी है, आज किस बेटी की बारी है I घर से निकली प्यारी अपने सपनों के साथ, पता नहीं कब क्या होगा उसके साथ I ... Read more

अंतिम यात्रा

पति के मौत के तीन दिन बाद ही पत्नी की भी मौत हो जाती है । उसकी मौत मानो एक संदेश है । उड चुका था वह पंक्षी, जो वर्षो से था साथ र... Read more

मिलन की आस

" कैनवास की उकेरी रेखाऐं, बड़ी नादान हो तुम, मुस्कुराती भी हो, मचलती भी हो, इंद्रधनुष के सतरंगी बुँदो की तरह । तुम... Read more