रामबाबू ज्योति

दौसा (राजस्थान) 303303

Joined January 2018

वरिष्ठ उप जिला शिक्षा अधिकारी कम ब्लाॅक प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी जहाजपुर, भीलवाड़ा

Books:
हिंदी काव्य सिद्धांत (प्रकाशक-राजस्थान प्रकाशन, त्रिपोलिया बाजार-जयपुर), सामाजिक क्रांति के अग्रदूत महात्मा ज्योतिबा फुले (प्रकाशक-साहित्यागार, गली धामानी, चौड़ा रास्ता,जयपुर) राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान नई दिल्ली के बेसिक शिक्षा पाठ्यक्रम की पुस्तकों के लेखक। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा प्रकाशन की पुस्तकों में लेखन। कई पुस्तकों का सम्पादन/सहसम्पादक। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं व दैनिक समाचार पत्रों में समय-2 पर रचनाओं का प्रकाशन।

Awards:
महामहिम राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय शिक्षक सम्मान(विज्ञान भवन, नई दिल्ली) राजस्थान सरकार द्वारा राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान (बिड़ला सभागार, जयपुर) पूर्वोत्तर हिंदी अकादमी सम्मान (शिलांग) पर्यावरण रत्न अवार्ड , डॉ राधाकृष्णन अवार्ड, श्री चतरसिंह यादव स्मृति सम्मान , श्री शिवनारायण रावत स्मृति सम्मान, अनुराग साहित्य सम्मान। सराहनीय जनसेवा व राजकीय उत्तरदायित्व निर्वहन एवज जिले व ब्लाॅक स्तर पर राजकीय सम्मान। कई सामाजिक साहित्यिक संस्थाओं की ओर से सम्मानित, पुरस्कृत।

Copy link to share

इंसान जाने कहाँ खो गए हैं

जाने क्यूँ, अब शर्म से, चेहरे गुलाब नहीं होते। जाने क्यूँ, अब मस्त मौला मिजाज नहीं होते। पहले बता दिया करते थे, दिल की बाते... Read more

वो भी क्या दिन थे

दादी माँ बनाती थी रोटी पहली गाय की , आखरी कुत्ते की एक बामणी दादी की एक मेथरानी बाई हर सुबह सांड आ जाता था दरवाज़े पर गुड़ क... Read more

पति पत्नी

*पति-पत्नी* एक बनाया गया *रिश्ता*... पहले कभी एक दूसरे को ... Read more

जीवन ज्योति रे लियां (राजस्थानी)

बहुत गंवायो जाग नर। धरती बणी उजाड़।। रूखां बिण कैंयां सरै । खुद आपणो उपाड।। ***************** मायड रा सिणगार सर... Read more

पर्यावरण संरक्षण

जल जीवन का सार है। जल बिन नहीं जहान।। जल दूषित होवे नहीं। इसका रखना ध्यान।। *************** जंगल अब... Read more

चमके सबका भाग्य सितारा

शुचिता समता सौम्यभाव का, सभी ओर हो दिव्य नजारा । खुशियां बांटें आपस में हम बढा रहे शुभ भाईचारा ।। स्वर्ग उतर आए धरती प... Read more

श्रद्धा सुमन (महात्मा ज्योतिबा फुले के लिए)

जीवन जिसका ज्योति पुंज है। मन गंगा जल धारा है।। ऐसे प्यारे महापुरुष को। शत शत नमन हमारा ह... Read more

बहे ज्योति की निर्मल धारा

शुचिता समता सौम्यभाव का । ... Read more

परीक्षा का भय

नाम परीक्षा का सुनते ही, डर मुझको लगने लगता। ... Read more