Raj Swami

Jaipur

Joined April 2018

राज स्वामी (हिन्दी युवा लेखक )
गज़ल,कविता,कहानी लेखक ओर आलोचक

सम्पर्क सत्र ओर पता –
राज स्वामी,
वीपीओ परलीका, नोहर
हनुमानगढ़ [राजस्थान]
335504
दूरभाष – 9929745387,9924745387

Copy link to share

नाम रोशन करेगी बेटी

रेखा ने जैसे ही खबर सुनाई,मानो आसमान फट गया । और घर में सुनामी कहर बरपाने आ रही हो । सब मौन खड़े ये जानने को उत्सुक है कि पता नहीं ... Read more

सीने में रख

मर जाएगा कोई तुम्हें याद करके क्या मिलेगा जिंदगी बर्बाद करके कोई जन्नत की चाह नहीं है मौला लौट आया हूँ खाली फरियाद करके जले... Read more

मैने कब कहा

मैने कब कहा प्यार कर मेरा सपना साकार कर सुकून है मेरी तन्हाई में मिलना है तो इंतजार कर कड़वी बातें अच्छी नहीं कुछ मिट्ठा... Read more

लड़की

घर में लड़की ने जन्म क्या लिया मातम होने लगा। मां कह रही थी अपशकुन होने वाला है । बाबूजी पैसेवर नेता थे वो भी देहलीज पर अपना माथा... Read more

एक गाथा मां के प्यार की

बड़े गीत प्यार के लिखे गए हैं मेरे प्यार की गीतों वाली पुस्तक में ये एक और प्यार का गीत है जो मैने उसके लिए लिखा है जिसका दिल... Read more

तेरी मांग में सिंदूर सजा दूँ क्या

तेरे पैरों में पायल पहना दूँ क्या हाथों में कंगना खनका दूँ क्या सोलह बरस की हो चली अब तेरी माँग में सिंदूर सजा दूँ क्या ... Read more

मजदूर

लड़ता है मजदूर अपने हालात से दो जून की रोटी के लिए रोता है छुप-छुप कर सुला देता है अपने बच्चों को ये कहकर सो जाओ जल्दी से ... Read more

दिल से दिल मिलाया जाए

चलिए एक मुद्दा उठाया जाए बात को बात से मिलाया जाए मुद्दत से बंद पड़ा है जो मय्खाना उसमे फिर जाम टकराया जाए अपनों को भ... Read more

मेरा ख्याल

तेरा ख्याल भी अजीब है तू मेरा नसीब है ये चाहत और तन्हाई मेरी वफ़ा कहूँ या कहूँ तेरी रुसवाई हश्र क्या होगा मेरे ख्याल क... Read more

तेरे आने से पहले

सहमा-सहमा सा दिल है तेरे आने की उम्मीद है जला कर रखता हुँ चराग मेरी आँखों के कहीं खत्म ना हो जाए इंतजार जल ना साँसों की ... Read more

सीधी बात करता हुँ

देख घुमा फिरा कर बात करनी नहीं आती मुझे सीधी बात करता हुँ जब से तुमको देखा है मेरा सारा हिसाब-किताब बिगड़ गया दिल की हार्ड ड... Read more

गुलाब

हाँ मैं गुलाब हूँ वही गुलाब जो सौंप देता है अपने आप को हर किसी के हाथ में खुद टूटकर करवाता है इश्क मुकम्मल राज स्वामी Read more

तेरे घर की इज्जत

इज्जत को उछाला जा रहा है जिस्म पर कपड़ा डाला जा रहा है हम ही है इज्जत तेरे घर की और हम पर ही कीचड़ डाला जा रहा है ना ... Read more

इंतजार

हर पल मैं तेरा इंतजार करता हुँ कभी तो आओ बारिश की तरह अब तो मेरी आँखों की बारिश भी थम चुकी है भिगो जाओ मेरा मन,खिल जाए मेरा चम... Read more

पहला प्यार

जैसे ही मैं बईक पर सवार होकर घर से निकला गली के नुक्कड़ पर एक जानी पहचानी आवाज आयी रुको राज ,कहाँ जा रहे हो•••? आवाज सुनते ही मै... Read more