डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'

महमूरगंज, वाराणसी (उ. प्र.)

Joined January 2017

 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका।

उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर “ज्ञान भास्कार” सम्मान, “काव्य -रत्न” सम्मान”, “काव्य मार्तंड” सम्मान, “पंच रत्न” सम्मान, “कोहिनूर “सम्मान, “मणि” सम्मान  “काव्य- कमल” सम्मान, “रसिक”सम्मान, “ज्ञान- चंद्रिका” सम्मान ,

Copy link to share

घनाक्षरी

"बेटी" -------- पिता की है शान बेटी, माँ का स्वाभिमान बेटी, घर की है आन बेटी, गर्भ न गिराइए। मनोहारी कामना सी, उपकारी भा... Read more

घनाक्षरी

मनहरण घनाक्षरी छंद विधान- कुल 31 मात्राएँ। 16, 15 पर यति। अंत में लघु गुरु। ******************************* "जननी जन्मभूमिश्च... Read more

हाइकु

"नरेंद्र मोदी" ********** (1)प्रधानमंत्री जन सेवक सत्ता देश हित में। (2)कूटनीतिज्ञ जन भाग्य विधाता कर्मठ ज्ञाता। (3)दृढ़... Read more

हाइकु

" कृषक " ******* (1)गर्म तपन उगलता सूरज कृषि सुखाई। (2)बिन पानी के आग लगी खेतों में कृषक रोए। (3)कृषक छाले सुलग राख ह... Read more

हाइकु

"दोस्ती"(हाइकु) ******* (1)दोस्ती का पता "सुख-दु:ख"निवास मैत्री नगर। (2)नेह की डोर विश्वास संग बाँधी दोस्ती चरखी। (3)हाथ... Read more

सहमा सा कश्मीर है

मनहरण घनाक्षरी छंद विधान- कुल 31 मात्राएँ। 16, 15 पर यति। अंत में लघु गुरु। ******************************* "जननी जन्मभूमिश्च... Read more

घनाक्षरी छंद

मनहरण घनाक्षरी छंद विधान- कुल 31 मात्राएँ। 16, 15 पर यति। अंत में लघु गुरु। ******************************* "जननी जन्मभूमिश्च... Read more