डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'

महमूरगंज, वाराणसी (उ. प्र.)

Joined January 2017

 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका।

उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर “ज्ञान भास्कार” सम्मान, “काव्य -रत्न” सम्मान”, “काव्य मार्तंड” सम्मान, “पंच रत्न” सम्मान, “कोहिनूर “सम्मान, “मणि” सम्मान  “काव्य- कमल” सम्मान, “रसिक”सम्मान, “ज्ञान- चंद्रिका” सम्मान ,

Copy link to share

दोहे

हास्य-व्यंग्य दोहे हास्य व्यंग्य दोहे रचे, कर लेना स्वीकार। हँसे बिना जो पढ़ लिए, लिखना है बेकार।। ऐसी वाणी बोलिए, अपनापन जग ... Read more

धनतेरस पर दोहे

धनतेरस पर दोहे ************ धनतेरस का पर्व ये, लक्ष्मी का त्योहार। घर -घर में सबने लिए,नए-नए उपहार।। देव ,तिजोरी पूज कर,सिक्... Read more

माँ दुर्गा के दोहे

माँ दुर्गा के दोहे *********** रक्तिम साड़ी तन सजे,गुड़हल हार सुहाय। मस्तक मुकुट बिराजता, शोभा भक्त लुभाय।। सवा रुपैया नारियल,... Read more

"अहंकार"दोहे

"अहंकार" दोहे *********** अहंकार को त्याग दो, सर्प भाँति विषधार। अवसर पा डँस लेत है,नहीं बचा उपचार। अहंकार है शूल सम, देता घ... Read more

"अहंकार" दोहे

"अहंकार" दोहे *********** अहंकार को त्याग दो, सर्प भाँति विषधार। अवसर पा डँस लेत है,नहीं बचा उपचार। अहंकार है शूल सम, देता घात... Read more

*आतंकवादी* दोहे

"आतंकवादी" दोहे ********** (१) आतंकी सैलाब में,दैत्य चलाते नाव। बंदूकी गोली लिए,देते तन मन घाव।। (२)आतंकी मजहब नहीं,शतरंजी... Read more

"वाणी का महत्त्व" दोहे

"वाणी का महत्त्व" दोहे *************** मुख चंदा तन चाँदनी,रूप सजा इठलाय। कटु वाणी से वार कर,नारी गई लजाय।। धन दौलत का तोल नह... Read more

"गुरु की महिमा" दोहे

"गुरु की महिमा" दोहे गुरु महिमा गुणगान कर,गुरु को दो सम्मान। ज्ञान ज्योति का दीप बन,करते भव कल्याण।। गुरु की गरिमा ईश बढ़,गुर... Read more

"भोर'

"भोर" (१)दिश प्राची सोहे गगन,सूरज तिलक लगाय। तज निद्रा जागे सकल,आलस दूर भगाय।। (२)दिनकर स्वर्णिम आभ ले, सरस नेह छितराय। ... Read more

"प्रकृति और मानव"

"प्रकृति और मानव" (१)वन उपवन खंडित लखे, तरुवर सरिता खोय। निर्झर नयना नीर भर, बेसुध धरती रोय।। (२)फल लकड़ी छाया सहित,पुष्प दि... Read more

होली के दोहे

होली पर दोहे ... Read more

"नारी की महत्ता"दोहे

"*नारी की महत्ता पर दोहे* ... Read more

शिव दोहे

द्वादश लिंग बिराजते, पावन तीरथ धाम। आग नयन विष कंठधर, त्रिपुरारी प्रभु नाम।। फागुन चौदस रात को,बिल्वपत्र जल हाथ। पूजा -अर्चन ... Read more