Rajendra sao

Kasdol ,Tamnar,chhatisgarh

Joined January 2017

Copy link to share

मातमी पैगाम आया सरहदों से आज फिर

मातमी पैगाम आया सरहदों से आज फिर भर गयी आखें हमारी आसुओं से आज फिर टुटकर बिखरे हुए अरमान सारे देख लो माँ की लाठी खो गयी सा... Read more

धन ही चारो धाम है..

धन हुआ सब कुछ यहाँ ..धन ही चारो धाम हैं प्यार धन से यार धन से..और धन घनश्याम हैं सब मशीनी हो गया.... अब नाम का इंसान है जीतते र... Read more

मेरा कैसा ये भारत है

अमन कायम रहे कैसे यहाँ जब तक सियासत है कि दौलत पास है जिसके उसी की ये अदालत है ये जनता है बहुत भारी हाथी की तरह फिर भी जो बैठा ... Read more

कभी माँ बनके मुझे प्यार दिया

कभी माँ बन के मुझे प्यार दिया कभी बेटी बन सत्कार किया नन्ही .. मुन्ही ..गुड़ीया ..बनकर कभी खुशीयाँ हमें अपार दिया कभी बहन... Read more