पुकार- एक बेटी की

माँ...माँ...माँ .. कौन...? माँ...मैं हूँ तुम्हारे अंदर पल रहा... तुम्हारा ही अंकुर... जिसे तुमने....हाँ तुमने... कितनी ही रातें... Read more

बिना तुम्हारे रह न सकूँगा

मेरी पलकों के साये में, ख़्वाब सजाकर तुम पलते हो । बिना तुम्हारे रह न सकूँगा, यदि कहते हो, सच कहते हो ।। इन साँसों का साज अगर है... Read more

समंदर में हुआ कुछ हादसा है

1222 1222 122 १२२२ १२२२ १२२ समन्दर में हुआ कुछ हादसा है । तभी अंदाज लहरों का जुदा है ।। दिखावे की ज़रूरत किस लिये हो हुनर ... Read more

कोई बिछड़ा याद न आये

इस तन्हाई के कानन से, क्या है कोई मुक्ति बता । कोई बिछड़ा याद न आये, ऐसी कोई युक्ति बता ।। अलसाई है धूप और हम, किसी धुंध में खोय... Read more

जिन आँखों में बंजर दुनिया

जिन आँखों में बंजर दुनिया । उनकी खातिर पत्थर दुनिया ।। बैठे सौ संवाद अकेले, घूर रहे सागर के जल को । तूफानों के शब्द हृदय में, द... Read more

मैं कवि होकर केवल कवि का फर्ज निभाता हूँ

अत्याचारी कुटिलों को मैं, आँख दिखाता हूँ । दुखियारी आँखों के काजल, को बहलाता हूँ । मैं कवि होकर, केवल कवि का, फर्ज निभाता हूँ....।... Read more

एक सूरज उगा रहा हूँ मैं

मुश्किलें हैं, मिटा रहा हूँ मैं । एक सूरज उगा रहा हूँ मैं ।। गर्म आहें घुटन सिसकते पल । इन फिजाओं से दूर कुछ बेकल । लौट कर जल्... Read more

जन्मदिन

शब्द शून्य हैं, भाव शून्य हैं कैसे तुम्हे बधाई दूँ ; शीतल प्राणवायु मैं तुमको क्या स्नेहिल पुरवाई दूँ । महके चन्दन सा मन पावन... Read more