मैं रागिनी गर्ग न कोई कवि हूँ न कोई लेखिका एक हाउस वाइफ हूँ| लिखने में मेरी रुचि है| मेरी कोई रचना किसी भी साहित्य में प्रकाशित नहीं है| फेसबुक की पोस्ट पर कमेंट करती रहती थी| लोगों को पसंद आते थे| दोस्तों ने कहा तुम्हें लिखना चाहिए, कोशिश कर रही हूँ|

Copy link to share

माँ

व्यापी माँ सम्पूर्ण जगत में (सोलह मात्रिक संस्कारी जाति छन्द) करलो, करलो माँ की पूजा। माँ जैसा है और न दूजा। माँ तो है दीपक... Read more

परिवार सुख का संसार

सब साथ हों तो बनता है परिवार .... सुख ,दुख में साथ दे परिवार .... परिवार जीवन का आधार मुझसे जादा परिवार की अहियत शायद कोई नहीं बत... Read more

क्या आप करते हो भारत से प्यार ?

क्या आप करते हो भारत से प्यार? कितनी भी कर लो पूजा कितनी भी कर लो पुकार लक्ष्मी माता जाएगी चली,वार्डर के उस पार। । इस बार ... Read more

अहंकार और क्रोध

क्रोध के वशीभूत हो जाने पर मनुष्य का खुद पर से नियन्त्रण खत्म हो जाता है .. क्रोध व्यक्ति की सोचने समझने की शक्तिको नष्ट कर देता है... Read more

.....दोस्ती .......

.............दोस्ती ......... मैं तुम्हे चाहता तो बहुत था मगर तुम प्रेम नहीं करती थीं मुझसे आज आखिरकार पता चल ही गया कि तुम अनूप से... Read more

काला साया

.................काला साया ............ बचपन से ही काले साये से डर लगता था ना माँ मुझको ..कभी कभी अपनी परछाईं से भी डर जाता था .... Read more

भक्ति गीत

भक्ति गीत दिल मेरा तूने चुरा लिया . मोहन मुरली वाले दिल मेरा तूने चुरा लिया मोहन मुरली वाले बड़े नैन मद भरे कटीले . मो... Read more

मुक्तक

.............शब्द चूड़ियाँ............ पैरों में पायल ,हाथों में चूडियाँ... युवतियों को लगने लगीं अब बेड़ियाँ... खो जायेगी यह ख... Read more

................भागीरथ की मैं गंगा ...............

भागीरथ की मैं गंगा कहूँ किससे अपनी पीर? पाप, मनुज तेरे धो -धो हुआ गंदा मेरा नीर।। होकर मैली अब गंगा नैनन से नीर बहाये हे मानव... Read more

..........भोली की सीख............

.........भोली की सीख....... शुचि ने फ्रिज खोला |फ्रिज में ? चॉकलेट न पाकर शुचि जोर जोर से चीखने -चिल्लाने लगी "मम्मी-मम्मी करण ... Read more

गज़ल

मत बहाओ आँसू बेदर्द जमाना है| .. यहाँ बेवजह आप का आँसू बहाना है पत्थर बन गये हैं दिल सबका यही फसाना है | भावनायें हो गयीं ... Read more

••बस एक बार खुद से तू कर ले प्यार••

हौंसलों के पंख लिए उड़ने को बेकरार..... पंख हैं बिंधे हुये परिवार के प्यार की सुई है आर -पार..... बढ़ना चाहती है.. मंजिल को पाने क... Read more

मैं इन्सान हूँ

मैं इन्सान हूँ... मुझे आजाद रहने दो.. मुझे न धर्म की बेड़ियों में बाँधो ...न मुझ पर रूढ़ीवादिता का कम्बल डालो........साँसे लेकर आया ... Read more

~•दिन तय है•~

बच्चों से प्यार करने का दिन तय है .. फिर रोज सितम ढाओ...... बच्चों के काम न करने का बाल श्रमिक दिन तय है.. फिर नन्हें हाथों से रोज... Read more

••नक्शे कदम हमारे••

नक्शे कदम हमारे वैसे तो चाँद पर हैं हैरत है इस जमीं पर चलना हमें न आया.. हे मूर्ख मानव अब क्यूँ तू घबराया तब नहीं सोचा जब प्रकॄति प... Read more

धरती माँ का खत संतानों के नाम

मैं ? धरती माता देना मेरी फ़ितरत है और लेना तेरी नियति है .|रोटी ;पानी ;कपडा़ तेरी आवश्यकतायें हैं जिनको पूरी करने के लिए तू मेरी वन... Read more

•••जो शहीद हुये हैं उनकी, जरा याद करो कुर्बानी•••

फिर आज आई 26 जनवरी तुम को याद दिलाने को .... जो शहीद हुये हैं उनकी जरा याद करो कुर्बानी को.. क्यूँ याद दिलाना पड़ता... Read more

गुम होतीं बेटियाँ खोता भविष्य

अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट आयी बिटिया कोख से चिल्लाई | जन्म दे मुझे भी माँ मैं भी जीना चाहती हूँ || भगवान की बनाई इस सृष्ट... Read more

••कली फूल बनकर खिलेगी ••

••कली फूल बनकर खिलेगी नयी फुलवारी बनायेगी| कली बनने से पहले तोड़ दोगे तो बगिया कैसे महकायेगी•• ••यूँ मत तोङो इन अधखिले मासूम... Read more

••कृष्ण लीला••

पहली सखी दूसरी सखी से- आज पनघट पे नहीं चलेगी का? दूसरी सखी-न सखी मैं आज नायें जाउँगी। पहली सखी-चौं का है गयो आज तू पानी भरवे चौ... Read more

••जी लो ज़िंदगी••

ज़िंदगी का क्या भरोसा, कब मौत के आगोश में चली जाये। उससे पहले क्यों न, ज़िंदगी जी ली जाये। जियो ज़िंदगी खुल के जियो , खुशियों... Read more

इनको भी हक दो (बाल श्रमिक)

जिन काँधों पर बस्ता सजाना था उन पर सजती जिम्मेदारी है छोटी छोटी उम्र में हर खुशी इन्होंने वारी है नाजुक से हाथों में फावड़... Read more

यह जीवन रंगमंच है

मौत ने ज़िन्दगी से कुछ यूँ कहा ऐ ज़िंदगी एक बात बता तू सूरज का उजाला है खिलता हुआ प्रसून है मैं काली अंधियारी र... Read more

बदले हुए रिश्तों की कुछ ऐसी कहानी है

बदले हुए रिश्तों की कुछ ऐसी कहानी है , एक आँख तो सूखी है, दूजी आँख में पानी है| यूँ बदला नजरिया है अपना बेगाना ह... Read more

?? गुरु ग्यान का भंडार है

प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाने वाला होता है गुरु, तब से साथ देता है, जब से होती है ज़िंदगी शुरू | मोमबत्ती की तरह जलकर, प्रकाशित ... Read more

मोदी जी ने किया वार भ्रष्टाचार हो गया लाचार।

ज्योंही तुमने जन्म लिया, मैं आया साथ तेरे, तुमने ही मुझको जन्म दिया, मानव तुम हो नाथ मेरे। मैं फैल रहा हूँ भारत में, महामार... Read more

आँखों का तारा (ए.पी.जे. अबदुल कलाम)

ना वो सिक्ख था ना ईसाई था ना हिन्दू था ना मुसलमान था ना वो बच्चा था, ना वो जवान था वो तो बस एक सच्चा इनसान था भारत को दे गय... Read more

बस दुलहन को अपनाना होगा

कुछ ही दिनों पहले उठी थी उसकी डोली दहेज के लोभियों ने आज जला दी उसकी होली। उसको भी हक था साँसें लेने का अप... Read more

आखिर कब तक

सैनिक होते रहें शहीद ये नेताओं की नीति है सियासत की कुर्सी से इनकी सच्ची प्रीती है मासूमों का खून देखकर भी य... Read more

नोट पर चोट

जूझ रहा है देश हमारा आज पैसों की तंगी से नहीं किसी को है राहत आपकी नोटबंदी से जो बेईमान हैं बैंकों में पीछे से जाकर पाप को ध... Read more

सैनिक का फर्ज शहीद होना और आपका?

वो तो कुर्बान होकर अपना नाम शहीदों में लिखा गया। फर्ज वो भारत माता के प्रति अपना चुका गया। बुझ गया इस घर का चिराग और परिवार में ... Read more