मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी तीन पुस्तकें “चल हंसा वाही देस ” अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद और “अगनित मोती” शिवांक प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली तथा अभी प्रकाशित काव्य संग्रह “मौन नहीं रह पाउँगा” अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद से प्रकाशित हो चुकी हैं. नई पुस्तक “मौन नहीं रह पाउँगा” को आप (amazon.in) पर भी देख और खरीद सकते हैं. हिंदी और अवधी में रचनाएँ करता हूँ. उप संपादक -अवध ज्योति. वर्तमान में एयर कस्टम्स ऑफिसर के पद पर लखनऊ एअरपोर्ट पर तैनात हूँ.
संपर्क -9415381880

Copy link to share

आत्मबल

जहाँ अनुशासनों से युक्त, व्यक्तित्व होता है वहां ही कर्म पूजा में निहित, नेतृत्व होता है असंभव लक्ष्य भी संभव बने, हर कार्य पू... Read more

नोटबंदी - वरदान या अभिशाप

आम जन हूँ नोटबंदी ने सताया मोदी जी तारीख दस है पर पगार न पाया मोदी जी, मन की बातों को बिछाता,ओढ़ता,खाता रहा हूँ, पेट में ... Read more

हर एक शख्स समय का गुलाम होता है

हर एक शख्स समय का गुलाम होता है कभी तिनका भी उड़ता आसमान होता है . हमने देखा है उन्हें फुटपाथ पर सोते हुए जिनका शहर में बड़ा सा... Read more

जबान से लगी चोट कभी ठीक नहीं होती

आओ मेरी आवारगी में तुम भी शामिल हो जाओ, पाप, पुण्य, सुख, दुःख की यहाँ सीख नहीं होती . लड़ लो, झगड़ लो खूब, पीट लो अपनों को, क... Read more

आखिरी दम तलक नहीं बुझती

आखिरी दम तलक नहीं बुझती हवस मेरी सुलह नहीं करती जब से जन्मा हूँ बटोरता ही रहा संग्रह की प्रवृति नहीं मिटती अगली पी... Read more