I am an engineering student, I lives in gwalior, poetry is my hobby and i love both reading and writing the poem

Copy link to share

प्रेम पत्र

प्रिय लिख रहा पाती तुमको, इत्रों से महकाया इस को, अक्षर अक्षर प्रेम निहित है, पाती में भावना विहित है, सब अश्रु अब मसी हुये है... Read more

पीड़ा

नारी नारी नारी बेचारी बेचारी तू अबला संग में विपदा गहे अब तेरी पीड़ा कौन कहे ये बात नहीं आज कल की है, ये हर सदी हर पल की है, ... Read more

माँ और पत्थर

आज मिली थी मुझे निराला की वही पवित्रा हां वही जो अभी भी तोड़ती है पत्थर इलाहाबाद के पथ पर उसे देख मैं ठिठका और फिर ठहर गया मे... Read more

रात बीती

कल रात बड़ी खुशनुमा थी पूनम का चांद चमक रहा था नीले आकाश में तारे मद्धिम संगीत बजा रहे थे रोशनी मीठे शहद सी टपक रही थी पेड़ों ... Read more

बिटिया रानी

एक अनलिखी अनपढ़ी कहानी हूं, मैं जूही, चंपा व रातरानी हूं, हंसता बचपन और गुड्डे गुङिया, मैं तो बाबा की बिटिया रानी हूं, बङी ह... Read more

तुम भूल गईं जबसे

कांटो से है अब यारी, गुलजार चुभे मुझको, तुम भूल गईं जबसे, महताब तपे मुझको, बिखरे हुये कुछ मोती, मैने फिर संजोये है, सांसों ... Read more

हुक्म था अलगाव का सो तामील तक गये

हुक्म था अलगाव का सो तामील तक गये, आंसू जो मिले प्यार में वो लील तक गये, रिश्तों की पतंग थी बेकाबू सी मेरी, उसको सम्हालने हम डो... Read more

चाँद को देखकर चाँद कहने लगा,

तरही गजल- चाँद को देखकर चाँद कहने लगा, ईद की ही तरह अब तु मिलने लगा, ------------------------------------------------ बेरुखी ... Read more

चंद अशआर लाया तुम्हारे लिये,

तरही गजल- चंद अशआर लाया तुम्हारे लिये, तुम गजल बनके आओ हमारे लिये, --------------_--------------_-------------- सुर्ख रातें ब... Read more

कुंवारी मां

इक लड़की थी भोली भाली सी, सलोनी, सांवली छवि वाली सी, इक मधुप पुष्प पर बैठ गया, और दंश प्रेम का भेद गया, इक ओर प्रेम निश्छल पावन,... Read more

शिकायत

तुम्हें मुझसे हरदम थी शिकायत, कि मैं तुम्हें कभी नहीं लिखता, मैं लिखना चाहता हूं पर पूरे हक से, मैं लिखूंगा तुम्हारे नर्म, नाजुक,... Read more

फाल्गुन मास

तन मन में है उल्लास सखी, आयो है फाल्गुन मास सखी, रंग बिरंगी रंगत जाकी, धरती करती है रास सखी, रंगन को मौसम अलबेलो, टेसू की र... Read more

मोहब्बत के गवाह

वो नदिया, वो दरिया, वो फूलों की बगिया, वो सरसों के खेत, और उनकी मेङ, वो अमराई की छांव, वो नदिया की नाव, वो चाय की प्याली, वो ... Read more

साकी सुरा पिला दे

साकी सुरा पिला दे, सब गम मे'रे मिटा दे, कर इस नशे से' पागल, खुद से मुझे मिला दे, हैं आंख में बसा जो, वो अक्स तू मिटा दे, ... Read more

इश्क का किस्सा

इश्क का एक किस्सा सुनाएं तुम्हें, अश्क से रूबरू फिर कराएं तुम्हें, बात है दिल्लगी की सुनो गौर से, हार कर जीतना हम सिखाएं तुम्हे... Read more

बेवजह गीतिका छल रही है मुझे

आज फिर से हवा छल रही है मुझे, महक उसकी अभी मिल रही है मुझे, दूर मेरा पिया है न जाने कहां, याद फिर क्यों यहां डस रही है मुझे, ... Read more

प्यारा वतन

हर घङी बस चमन में अमन चाहिए, हंसता मुस्कुराता वतन चाहिए। खुश रहें सब यहां हो नहीं गम कहीं, हर बुराई का' बस अब पतन चाहिए। प... Read more

बिटिया रानी

एक अनलिखी अनपढ़ी कहानी हूं, मैं जूही, चंपा व रातरानी हूं, हंसता बचपन और गुड्डे गुङिया, मैं तो बाबा की बिटिया रानी हूं, बङी ह... Read more

नटखटिया दोस्ती

यार दोस्ती भी क्या अजीब रिस्ता है, साथ-साथ खेलते हैं, हंसते हैं और फिर जम कर लङते हैं कौन यह झूठ कहता है कि दोस्त कभी लङते नहीं... Read more

मां मेरा जहां

एक दिन मन ने सोचा कि चारों वेद, अठारह पुराण और सभी शास्त्र अगर एक शब्द में लिखूं तो कैसे लिखूं पर यह उलझन क्षण मात्र में सुलझ ... Read more

इश्क

एक गजल और- कब लगा है बेवफा का दाग ये दिलदार पर, संगदिल है ये जमाना दाग देता प्यार पर॥ डूबती नौका नहीं कोशे समंदर को कभी, दो... Read more