एक हिन्दी कवि एवं लेखक जो कविता, गीत, गजल, मुक्तक, दोहा, छंद रचनाकार श्रंगार रस एवं युगधर्म प्रधान कवि | हिन्दी साहित्य विद्यार्थी|

Copy link to share

गीत संग्रह से : तलाश एक दास्तां

मैंनें ढूंढा तुम्हें, सारी उम्र भर,इस पार से उस पार तक,इक अथक तलाश जारी है,घर के आंगन से स्वर्ग के द्वार तक,सारी जिन्दगी आशाओं की मी... Read more

शायरी -

ये मेरी बेबसी है या मेरी गुरूरदारी है ; चंद लम्हों की जिन्दगी में ख्वावजारी है | ख्वाहिशों के दिये जो भी जले बुझते ही गये; उन आंधिया... Read more

राज दोहावली से - ( गुस्ताखी माफी सहित )

पांच तारा होटल में, नाचे नग्न दिखाय| कहे दुशासन द्रोपदी, तुझे लाज न आय || Read more

राज दोहावली से:-

तुकबंदी से तुकबनी, कविता लई बनाय | भाषा के दुश्मन यहां, कविराज कहलाये || Read more

राज दोहावली से -

जब अंधियारा था रमां, राम रमाया नाय| विकट अंधेरा पायके , रमा रमा चिल्लाय || Read more

मोहब्बत के सफर...

मोहब्बत के सफर में हमसफर , यूं छूट जाते है | हमारे साथ जो रहते हैं, हमसे रूठ जाते हैं | बनाये थे कभी जो साथ , उनके प्रीत के रिश्ते ;... Read more

तीन शेर***

ठुकरा दिये उसके दिये सारे तख्तो ताज हमने ; मुझको मालूम था तब फकीरी में जीने का मजा | मेरी हस्ती की फिकर करने वाले जरा तू भी; भं... Read more

न जाने कब तेरे...

न जाने कब तेरे जलवों में रवानी आयी, न जाने कब तेरी सैलाब पर जवानी आयी, हमें तो होश ही कब था तेरे होंठों से पीने का बाद, न जाने ... Read more

मिल जाये तो अच्छा है |

सफर में हमसफर का साथ, मिल जाये तो अच्छा है | अगर इक हाथ में इक हाथ, मिल जाये तो अच्छा है | जिसे जीते थे उनके इश्क में, काश वो फिर से... Read more