Copy link to share

गजल

कैसे कैसे दौर चले है न्याय मांगने चोर चले है हंसो की झीले हथियाने कुछ कौअे कुछ मोर चले है चीर हरण तक चुप बैठे थे अब ... Read more