pratik jangid

Indore

Joined September 2016

Copy link to share

पापा जैसी जिम्मेदारी

बचपन में कितनी ज़िद्दी किया करते थे , कुछ को पूरा करते ओर कुछ को मजबूरियों के तंग जेबो में दबा लिया करते थे । हसना खेलना सब उनसे ह... Read more

चुपके से

माना तुम आज भी उसे चुपके से देखते हो , फिर जरूर तुम अपने आप को उस गलती के लिए कोसते हो ।। वक्त रहते तुमने नहीं संजोया रिश्ते नातो ... Read more

बीती यांदे

बीते दिनों को भलो कोन भुला पाएगा । जब जब याद करेगा , अंखियों में पानी भर आएगा । जवानी के गीत बुढ़ापे में गुन गुनाएगा । एक अरसा पह... Read more

लेख

-कभी जो मिलो , तो जाने की जल्दी ना करना । फ़ुरसत में तो हम भी नहीं होंगे , पर आंखो से ओझल हो जाएं तो फिर अफसोस मत करना ।। -फिर मिल... Read more

कभी हमारे शहर आओ तो मिल लिया करो

कभी हमारे शहर आओ तो मिल लिया करना । यूं कब तक पुरानी बातों कि तकरार दिल में दबा कर रखोंगे । माना लड़कपन की थी वो गलतियां । क्या उ... Read more

एक मुलाकात

अनजान रास्ते और एक मुलाकात । दो पल की बाते और जन्मों का साथ ।। बने होंगे ऐसे भी रिश्ते जो इस क़दर मिले होंगे । किसी डगर पर दोनों ... Read more

एक वक्त

आज फिर से तुम याद आये हो, बे वजह इतना क्यों मुस्कुराते हो , हाँ, तुमसे मिले अरसा हो गया है , पर सामने आने पर इतना क्यू घबराते हो ... Read more

रूठ जाता हूं

में खुद से खुद ही रुठ जाता हूं । जब खुद से ही खुद हार जाता हूं ।। निराशाएं मुझे घेर लेती है । जब में तन्हा रह जाता हूं ।। सुकून ... Read more

कैसे कहु

कैसे में कहु तुझसे । कुछ बाते मुझमे ही दब सी रह गयी ।। जिक्र ना कर सका जिन बातों का । अब चहरे की रंगत बया कर रही ।। पर बयां नही... Read more

शब्दो की माला

में अक्सर कहानियो व कविताओं की माला में शब्दों को पिरो लिया करता । कही ये टूट कर बिखर ना जाये इस ख़्याल से भी बहुत डरता हूँ । शब्... Read more

ये प्यार

तुम समझती नही हो , या में समझा नही पता । ये किसी कशमकश है । में चाहकर भी तुझसे बहुत कुछ कह नही पता । शुक्र है तुम कही न कही मुझ... Read more

ये सच है ।

कुछ बाते सच्ची है । कुछ अफवाएं है बदनामी की । ये तो कुछ लोगो की फितरत है । आग में घी डालने की । ना सच को सुनना पसंद है ना जानने क... Read more

ये भुख हैं साहब

तकलीफ पेट की चेहरे से बयां करनी पड़ती हैं। ये भूख है साहब हम जैसे को हर रोज़ ऐसे ही सहनी पड़ती हैं ।।हर दिन एक उमंग के साथ जाग जाती ह... Read more

अब वो बात कहा रही....!

अब रिश्तों में वो बात कहा रही । हर शाम सरहाने आकर कहानी सुनाकर सुलाए.. वो दादी कहा गयी। पापा की डाट पर माँ का आँचल अब कहा नसीब हो... Read more

अधूरी कहानी

मैंने उस दिन अपनी कहानी पूरी लिख दी होती ।अगर तुम इस कदर रूठ कर नहीं गयी होती ।तुम्हरा इस तरह रूठ कर चला जाना ही मेरी अधूरी कहानी का... Read more

एक मुलाकात

बहुत टाइम से ना मिला उससे में । ओर ना कभी कोशिश की।उसे पाने की । कुछ उम्मीदे थी उसके आने की । ओर कुछ रुकावटे थी मेरे न मिल पाने की ... Read more

अन कहा सच

(काल्पनिक) हा मेने ही कहा था कि मुझे तुमसे कभी बात नही करनी ।हा मेने ही कहा था कि में तुमको कभी याद नही करूँगा । शायद में ही गलत र... Read more

ये मेरा मन कहता है

Tum achi ho ..ye me nahi khta mere undr se awaj aati he .....tum kbhi kbhi pgal lgti ho .....shayd ye pglpnti hi tumhri achayi ka re... Read more

लफ्जो को समेटकर कुछ लिखूंगा ।

लफ्जो को समेटकर कुछ लिखूंगा । कभी गीत कविता एक नज़्म भी लिखूंगा । ऐसे ही नहीं पिरो लिए जाते गीत कविताओं नज्मों के धागों में शब्दों... Read more

कुछ ख्वाहिशें कुछ सपने

चल तुझे कुछ छोटी छोटी ख्वाहिशें बताता हू। तेरे साथ की ताकि तू भी उन्हें लाइफ में याद रखती । 1 तेरे साथ एक long ड्राइव करनी थी तुझ... Read more

न जाने कहा जाना हैं

ट्रैन का सफर कितना अजीब होता है। ना । सब बेफ्रिक लोग अपबे ही सफर का मज़ा लेते हुए सफर करते है। किसी को ट्रैन में बाते करना पसंद है कि... Read more

ऐ....ज़िन्दगी

ज़िन्दगी में कुछ ना कुछ तो बेहतरीन जरूर कर लूंगा । ऐ…ज़िन्दगी देख मे तेरा कहा तक पीछा करता हु।। Read more

माँ झूट बोलती है ।

माँ झूट बोलती है । सुबह उठाने के लिए 7 बजे के time को 8 बताती है। शाम खाना खाते समय रोटी कम रहने पर मेरा पेट भर गया ये रोटी तू... Read more

चलो आज कही चलते है

चलो आज कही चलते है । कुछ मेरी कुछ तुम्हरी सुनते है सुनाते है । इन डगर पर हाथो में हाथ पकड़कर कुछ गनगुनाते है । चलो आज कही घूम क... Read more

ये अनोखे रिश्ते

ये हीचकिया भी ना न जाने किसकी यादो की दस्तक आज सुबह सुबह ही दे रही है. माँ कब से कह रही है की पानी पिले ।।मगर मे हु की कब से चाय ... Read more

डिअर डेयरी से मेरी बात

dear diary में तुमको यह बताना चाहता की तुमको मेने बनाया ताकि में तुमसे बात कर सकु ! जो जी चाहे लिख सकता हु ! तुम म... Read more

एक कहानी

आज बरसो बाद अपने शहर अपने गाँव जाने की खुशी ओर माँ से मिलने की उत्सुकता मे पता ही नही मेने अपनी माँ ओर छोटे भाई ओर चुटकी के लिए क्... Read more

वो एक सीधी सी लड़की.....

वो चुप थी । तालाब की तरह। फिर लहरों की तरह बहने लगी ।। वो खुश थी । फूलो की तरह । फिर काटो की तरह सबको चुभने लगी।। वो खुद नहीं बद... Read more

उलझन

मेरी बातो को इस कदर ना समझना की मे तुमको उलझा रहा हु । बस इतना समझ लेना खुद उलझा हुआ हु। तो खुद को सुलझा रहा हु ......।। Read more

इम्तेहान

जिंदगी की जंग में हर कदम हर मोड़ पर इम्तेहान होता हैं ! तब जाकर किसी शख्स का सपना साकार होता हैं !! यु ही नहीं बदल जाती वक्त के म... Read more

"लाडली बिटिया "

हर कदम पर माँ बाप का सहारा बन जाती हे ! हर घर आगन को रोशन का जाती हे जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ........!! बेटी होने के... Read more

WELCOME 2017

अरसा हो गया मुझे बदले , अब तो मुझे बदलने दो ! कभी पन्ना बदला करता था , अब तो मुझे पूरा बदलने दो ! फिर आऊंगा इसी तरह , कुछ वक्त तो ... Read more

एक अजनबी हमसफर बनने वाला हे !

कुछ पल का साथ अब हर पल का होने वाला हे ! देखते ही देखते एक अजनबी हमसफर बनने वाला हे ! छोडूगा न कभी साथ तेरा यह भी खुद से किया उसन... Read more

मुझे याद हे

मुझे याद हे जब तुम मेरा हाथ मांगने आये थे I थोडा घबराये और कितना शरमाये थे I बाते करने में भी तुम कितना हिचकाये थे जब में च... Read more

में भी कुछ करना चाहता हु

में भी कुछ करना चाहता हु , इक हुनर में भी सीखना चाहता हु, कुछ बंदिशे मुझे रोके रखती हे बस इन बंदिशों से निकलना चाहता हु, में भी इन र... Read more

ये आंखे

अन कहे शब्दों को बयां कर जाती हें I एक अजनबी से ये आंखे न जाने क्या कह जाती हैं I इक रिश्ता सा बन जाता हें उस अजनबी से I उस ... Read more

बेताब कलम

कलम भी चलने को बेताब हे . और लब्ज होटो से फिसलने को , अब तो कागज़ का पन्ना भी थम सा गया हे कलम की नोक को चूमने को अल्फाज़ मेरे चार... Read more

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम ये ख़ामोशी कुछ कहना चाह रही हो, जेसे फिर से गुम होना चाहती हो तुम ! आज ये बदल जो ब... Read more