निरंजन वार्ड मेन रोड नरसिंहपुर परमहंस पेट्रोल पंप के पास

Copy link to share

महाकुंभ

आया महाकुंभ रे महाकुंभ जहाँ लगी पताका गगनचुंभ। वहां अमृत की बूंदें बरसे जहाँ देव सभी आने तरसे।। भूमंडल में डंका बजता है विश्व... Read more

"चुप्पी"

चुप्पी आपकी कुछ राज कह रही है। बंद कमरों सा कुछ काज कह रही है बोलना पड़ेगा तुम्हें आखिर एक दिन। उस वक्त के सफर का साज कह रही है... Read more

प्रकृति और मानव

नित शीतल चाँदनी धरा पर अब सर्वत्र चमक रही है। फिर भी राहो में क्यों मानो अग्नि दहक रही है। बागों में फूल कलियां वे और चिड़िय... Read more

"*कृष्ण महारास*"

किया सोलह श्रृंगार मिले पूनम का प्यार। कान्हा तुमको आज आना ही पड़ेगा। ना चलेगा अब बहाना बांसुरी लेकर तुमको आना। चांद को भी अमृत... Read more

*हिन्दी भाषा*

विश्व की सारी भाषा जानो सब की बाप तुम हिंदी मानो। स्वामी जी ने भी रंग जमाया अमेरिका में हिंदी को जगाया। आत्मीय भाषा यह कहलाए ... Read more

*रक्षाबंधन*

*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान है। भाई बहन के प्रेम का बंधन रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है। श... Read more

*रक्षाबंधन*

*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान है। भाई बहन के प्रेम का बंधन रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है। श... Read more

"चेहरे गाँवो के"

चेहरे गाँवों के हैं बदले जन-मन में स्वारथ का पहरा, हुई नदारद शर्म-हया अब अलग दिखे गाँवों का चेहरा। प्रकृति वादियों में था विचर... Read more

"मजदूर"

मंजिल तुम्हारी रहा श्रम हमारा। करता रहा क्यों जमाना किनारा। मैं भी तेरी दुनिया से दूर नहीं हूं मैं मजदूर हूं मजबूर नहीं हूं । ... Read more

"शब्द आराधना"

शब्द -आराधना करके बनता है महान मानव इससे ही सुनता है भाव भगवान ये कमाल है शब्दों की शक्ति का जिससे बढ़ती है न सिर्फ़ भक्ति अप... Read more

"सच बेगाना"

मौसम की बहार में अब दगन हो गयी। दिलो में जेठ सी जलन हो गयी। पर वक्त का अपना पैमाना होता है। अरे मानव सच बेगाना होता है । आज अप... Read more

"दीपक"

जिनके हो विचार ऊंचे ,कदम तो खुद बा खुद बढ़ जाते हैं। जग रोशन करने के लिए, वह खुद दीपक बन जाते है। जलने की पर्वाह कहां ,वह तो जल ... Read more

"मां"

माता सिंह पर सवार उनके नव अवतार। सुबह शाम उनको नमन हम करते हैं। देती सबको उपरहार भरती जीवन में संचार। पाकर कृपा पापी कामी भव पा... Read more

"हिंद की जय"

एक चिड़िया आसमां में,पंख फैला उड़ रही। हिंद की जय, हिंद की जय,गीत मधुकर गा रही। है नमन तुमको शहीदो,खुल के हमने सांस ली। उस अमिट... Read more

गधे का दर्द

एक गधे ने ब्रह्याजी को अपना अपना दर्द सुनाया। ब्रम्हण मुझ पर ही क्यों मूर्खता का उदाहरण फरमाया। इतना कहकर गधे को रोना आय। सुनकर ... Read more

"होली"

होली खेलो यार मीत ,यह बात मैं दिल से करता हूं। रंग में भर के प्यार आज,दुनिया को रंग मैं रंगता हूं। प्रेम का आधार है होली। मिलन ... Read more

प्रकृति

बादलों की गरजती ध्वनि में,बरसा की छमछम सुहानी लगती है । अमावस्या की काली रात में,जो जुगनू दीवानी लगती है। माना पलक झपकते बदलते,म... Read more

"बाबुल का आंगन"

बाबुल का आंगन लगे ,प्यारा जहां बीता बचपन सारा। याद आती मेरे मन में ,वह बात दिन रात है। अंगना दौड़े आंखें मीचे ,माता आती मेरे पीछे... Read more

"मानव"

मानव सृष्टि की सुंदर रचना कदम-कदम पर हमें है बचना। कर्म सदा करते ही रहना फल की इच्छा कभी न करना। मानव सृष्टि......... Read more

बेटी

बेटा होता घर का लाडला तो बेटी लाडली होती है। बेटा मानो फूल है घर का तो खुशबू बेटी होती है। उछल कूद गर बेटा करता वह चिड़िया सी... Read more

बेटी

बेटा होता घर का लाडला तो बेटी लाडली होती है। बेटा मानो फूल है घर का तो खुशबू बेटी होती है। उछल कूद गर बेटा करता वह चिड़िया सी... Read more