मुझे छंदमुक्त कविता लिखने में रुचि है । जीवन के हर पहलू पर लिखना पसंद है ।

Copy link to share

-:मेरे जज़्बात:-

मत बांधो मुझे शब्दों में बिखर जाने दो मेरे अरमानों के तरुण पत्तियों को कोमल टहनियों से ! मत रोको कभी मेरी बहती धारा को... Read more

-:मिलन की आहट:-

मेघा आज सफ़ेद लिबास में चाँद को लपेटकर अभी अभी शाम को अनंत अंबर में लेकर आई है कितनी प्यारी लगती है चारों तरफ से घिरे क... Read more