मेरी माँ

♥ज़िन्दगी की तपती धूप में एक तनहा साया पाया है मैंने। जब खोली आँखें तो अपनी माँ को मुस्कुराता हुआ पाया मैंने। जब भी माँ का नाम लिया। ... Read more

मेरा साथ निभाना तुम

?मैं बसंत हूँ,मेरी बहार बन जाना तुम। मैं सूरज बनूँ तुम्हारा,मेरी किरण बन जाना तुम। बन के मेरे जीवनसाथी मेरा साथ निभाना तुम। जब लड... Read more