Pradyumna

Joined March 2018

Copy link to share

क्यूँ?

मिलना नही तो ख्वाब मे आना क्यूँ? बेदाग चेहरे को इतना छुपाना क्यूँ ? जल रहा है पूरा शहर उस आग से, अपना भी ना बचा तो पछताना क्... Read more

रात

दूर देखो सांझ के पीछे घनेरी रात है, ये कुहासे छा रहे है कही कुछ तो बात है। चाहता है आसमाँ भी ... Read more

अधूरा इश्क

इश्क अधूरा, ख्वाब अधूरा जीने का अंदाज अधूरा इस एकाकी जीवन में मेरा पूरा नाम अधूरा। रात अंधेरी, तारे भी हैं , अम्बर में अ... Read more

क्यूं बैठे हो?

ये सन्नाटा क्यों पसरा है? क्यूं मौन शिला से बैठे हो? आंखों में बादल छाए हैं क्यूं शून्य गगन में तकते हो? रेशम जैसे बालों ... Read more

कुछ हाइकु

हाइकु(5-7-5) ------------ (1)तुम थे यहां स्वर्ग था घर मेरा अब सूना है । ---------------------- (2)चुलबुली सी ... Read more

रुके रहेंगे , कहोगे जब तक

रुके रहेंगे , कहोगे जब तक, तेरी मधुमयी यादों के संग। तेरी याद मे खोया रहता, लाख जतन कर ले मेरा मन । वक्त हमारे साथ नही है, ... Read more

क्यूं

कभी कभी तुम खो क्यूं जाते हो? बीज दर्द के यहा बो क्यूं जाते हो? समझते नही मेरे दिल का हाल चुपके से मुझमे रो क्यूं जाते हो? ... Read more

ख्वाबो मे पाता था

उन खिड़कियों को देख कर तड़प उठता हूं, जिनसे तुम्हारे झाकने की झलक पाता था। तुम राग थी अब रोग हो इस सूने आंगन की, तेरी जुल्फों... Read more

अक्षर-अक्षर टूट चुका है

अक्षर-अक्षर टूट चुका है शब्दों की इस डोरी से। प्रेम के बंधन ढीले पड़ गए आंसू बहते, चोरी से । टूट टूट कर बिखरे मन में चुभने लगे... Read more

शहर उसका, पता उसका

तेरे इतना ही पता है मुझे उसके शहर का सुना है दूर कहीं है , आशियाना उसका। बहुत सर्द थी हवाएं जब मिले थे उस बार अब तो याद है बस... Read more

दरख्तो के दिल

दरख्तो के दिल -------------------------------- सोचता हूँ कि क्या ? दिल और दिमाग होगा ? इन दरख्तो के पास , जब देखता हूँ, ... Read more