पुलिंदा झूठ का केवल नहीं लिखता मैं गजलों में। rnहजारों रंग ख्वाहिश के नहीं भरता मैं गजलों में।।

Copy link to share

तब और महाभारत होगा।

सुप्रभात मित्रों। सिंहासन के बगुले जब जब हंसों को ललकारेंगे। जब जब रावण सिया हरण को भेष जोगिया धारेंगे। जब जब भरी सभा में पं... Read more

जवानियाँ प्रणम्य हैं।

हमको दिलातीं याद शहीदों की बार बार देश में बनी हैं जो निशानियाँ प्रणम्य हैं। प्रेरणा बनी हैं आज बलिदान देने हेतु बलिदानियों की वो... Read more

चंद्रशेखर आजाद।

अमर शहीद महान क्रांतिकारी पं० चंद्रशेखर आजाद जी के जन्मदिवस पर कोटि कोटि नमन करते हुये कुछ पंक्तियाँ। जिसने बल पौरुष साहस को एक ... Read more

लाहौर तिरंगा देखोगे।

कश्मीर के ताजा हालातों से व्यथित होकर दिल से निकलीं कुछ पंक्तियाँ। शोर सुनाई देता है अब आदमखोर सियारों का। फिर वर्चस्व फैल रहा ... Read more