Pooja Singh

Varanasi

Joined February 2017

Copy link to share

झांसी की रानी

"गर्व है हमको इस धरती पे जिसने जन्मा रानी को , शब्दकोश भी छोटे रह गए उसकी गाथा गाने को ! क्या अदभुत शौर्य था उनका अदभुत ... Read more

मेरी माँ

"माँ केवल शब्द नहीं ,जीवन की परिभाषा है ! ममता जिसकी है निराली ,और अपने जीवन की आशा है ! धरती पे आने से भी पहले ,जिसने हमको पा... Read more

बचपन की यादें

"बचपन के वो दिन कितने मस्त थे , बस स्कूल और दोस्तों के साथ व्यस्त थे ! न कोई टेंशन और न कोई जिम्मेदारी थी , होम वर्क ... Read more

बापू का सत्य के साथ प्रयोग

"बापू तुमने ऐसा क्यों किया ? जिन्ना नेहरू के चक्कर में , पूरे देश को बाट दिया ! यदि अहिंसा परम धर्म है तो , क्यों बटवारे ... Read more

अटल एक युग पुरुष

"जगमगाता एक ध्रुवतारा , अपना अटल विश्वाश फैलाता भारत माँ की सेवा करके , शून्य में जा विलीन हो रहा ! बांध सका न जिसे मोह ... Read more

कुलभूषण भारत का सम्मान

"भीख मांगकर जीने वाले ओ विद्रोही पाकिस्तान , आतंकवाद का जहर फ़ैलाने वाले पाकिस्तान ! ये मत सोच की तेरी करतूतों , का हमे... Read more

कुलभूषण भारत का सम्मान

"भीख मांगकर जीने वाले ओ विद्रोही पाकिस्तान , आतंकवाद का जहर फ़ैलाने वाले पाकिस्तान ! ये मत सोच की तेरी करतूतों , का हमे... Read more

भारत माता की जय

"किसी धर्म से मेरा बैर नहीं पर कुछ बात जरूरी है कहना , सच्चाई का जिनको ज्ञान नहीं जरूरी है उन्हें आइना दिखाना ! ... Read more

"गुजरात का चुनावी संग्राम "

"गुजरात चुनाव ने भी क्या धमाल मचाया है , हिन्दू बनने के लिए पूरा हुजूम उतर आया है ! कहते तो खुद को ये निरपेक्ष हैं , पर रामसेतु... Read more

जिंदगी अब और इम्तिहाँ न ले

"बस कर ऐ जिंदगी अब और इम्तिहाँ न ले , इस पार हूँ या उस पार अब बता ही दे . कहते हैं तू हर मोड़ पे सबक सिखाती है , पर उस मोड़ का मुक... Read more

माँ

"थक के टूट चुकी हूँ माँ अब लड़ के हार चुकी हूँ माँ अब , बहुत रुलाया मुझे अपनों ने और ज़माने ने पर अब बस तेरी गोदी में आना है माँ... Read more

ओछी राजनीती

"अफ़सोस है की हम इतने बेशर्म हो गए भारतीय होने से पहले हिन्दू मुस्लमान हो गए ! जिधर देखो बस विरोध की ही आग है , चारों ओर ... Read more

माँ अम्बे

"मदद करो हे माँ आंबे ,ध्यान धरु तेरा आंबे शेरावाली माँ आंबे ,मेरी भी सुन तू आंबे संघर्षरत रही हूँ मै , गिरकर उठना सीखी म... Read more

सेना पे राजनीती

"देश है महान अपना ,शौर्यता की खान है , इस धरा पे चमकते सूर्य के सामान है ! हिमालय जिसका मुकुट और हिन्द जिसका नाम है , विश्व के प... Read more

पत्थरबाजों की सेना

"पत्थरबाजों की सेना तुम , कान खोलकर सुन लो आज ! काश्मीर तो है भारत का , बात मान लो ये तुम आज ! भारत के ... Read more

पाकिस्तान को ललकार

"बर्बरता की हदें पार करने वाले ओ पाकिस्तान , कायरता में अव्वल रहने वाले ओ पाकिस्तान ! हर बार तू मुँह की खाता , ... Read more

बिखरता देश

"क्रुद्ध हूँ मै आज देख के देश को , धर्म के नाम पे बांटते स्वदेश को ! गिरा नहीं ,मिटा नहीं जो ... Read more

नारी अबला नहीं

"बचपन से सुनते आये हैं , भारत में नारी की पूजा होती है ! हर घर और हर एक मंदिर में दुर्गा की मूरत होती है ! जहाँ कन... Read more

मोदी एक क्रांति

"देश का नेता कैसा हो ? नरेंद्र मोदी जैसा हो ! जोशीले भाषण जो देता , वादा करके पूरा करता ! भारत माता की सेवा में , ... Read more

"देश का अपमान अब और नहीं "

"राजनीती की लालच में तुमने , शर्म गवां दी इस हद तक ! की आये दिन तुम सब मिलकर , सरेआम उछलते हो सैनिक की इज्जत ! ... Read more

भूल न जाना देश उन्हें

"भूल न जाना देश उन्हें , जो मर कर भी हैं अमर हुए सरहद की हिफाजत में जो , दिन रात चौकसी करते हैं ! बर्फीले चट्टानों में जो , सी... Read more

उजड़ते चमन को कोई रोके ले

उजड़ते चमन को कोई रोके ले , बिखरते वतन को कोई थाम ले ! शहीदों की शहादत को यू गाली न दो , तुम यू लड़के भारत के टुकड़े न करो सरहद पर... Read more

बच्चे थे तो अच्छे थे

"बच्चे थे तो अच्छे थे , जब दिल खोल के जी तो लेते थे रो रो कर भी हस लेते थे , हर रिश्ते में खुश हो लेते थे . हर आंसू के गिरने स... Read more

एक विचार आया था मन में

"एक विचार आया था मन में , हमने क्या किया जीवन में, भूल गए वीरों का बलिदान , शायद हम भी थे कभी गुलाम ! किसी पिंजड़े में बंद पंछी स... Read more

देश के जवान तुम वीर हो महान हो

"देश के जवान तुम वीर हो महान हो , स्वतंत्रता के लाज तुम शौर्य का प्रमाण हो , बिना रुके बिना थके बिना डरे बिना गिरे , तुम करते शत्... Read more

गजब का देश

"गजब का देश और , गजब के लोग हैं पूजते क्रिकेट को हैं और , ओलंपिक से उम्मीदे हैं बचपन से आजतक बस , क्रिकेट में देश को एक साथ द... Read more

मत देश सुनो तुम आज उनकी

"मत देश सुनो तुम आज उनकी जमीर बची न जिनमे जरा सी भी , सत्ता के अभिमान में होकरके चूर देश को बेच आये हैं दूर ! जिनमे ना स्वाभिम... Read more

एक नसीहत चंद लोगों के नाम

"जो लोग समझते हैं देश मेरा , रहने के लायक नहीं रहा उनके लिए मेरे पास , छोटी मोटी दो चार सलाह ! कहते तो तुम बिलकुल ठीक ही हो , ... Read more