पवन कुमार मिश्र 'अभिकर्ष '

गिरिडीह,झारखण्ड

Joined August 2018

पता-ग्राम-बिशुनपूर, थाना- पीरटाँड़
जिला-गिरिडीह,राज्य-झारखण्ड
शिक्षा-बीएससी प्रतिष्टा रसायनशास्त्र
(गिरिडीह कॉलेज गिरिडीह)
पेशा-झारखण्ड सरकार कृषि विभाग में ‘ जनसेवक ‘ पद पर |
रूची-संगीत सुनना,साहित्य लेखन
आदर्श व्यक्तित्व-ए.पी.जे अब्दुल कलाम |

Books:
NA

Awards:
NA

Copy link to share

माँं शारदे

माँ भारती,माँ शारदे ! इतनी कृपा तु करदे, मेरी मानसपटल को, देदीप्यमान तु करदे ! सकल जग समृद्ध कर, नव-ज्ञान का अमृत भर, तन-मन ... Read more

शीतलहर

धूप में भी कहर देखो, पूस का शीतलहर देखो | माघ अभी बाकी है, घाघ अभी बाकी है | शीतलहरों का , बाघ अभी बाकी है | सुबह होती अंगड़... Read more

माँ

माँ तो माँ होती है | माँ की ममता अनमोल होती है | जब हमारा अस्तित्व भी नहीं होती धरा में, तब से वो हमें पहचानती है | गर्भस्थ से ह... Read more

'फेसबुक-मित्र'

आज मैं बताता हूँ 'फेसबुक' में मित्र के प्रकार, पहला नम्बर में ऐसे मित्र हैं,जो पोस्ट को, देखते बार-बार पर, न लाइक करते,न कमेंट एक... Read more

'विरोध '

विरोध लाजिमी है | समाज का हो,या सत्ता का हो, वेतन का हो, या महंगाईभत्ता का हो, पुराना पेंशन का हो,या नयापेंशन का हो, हर जगह परेश... Read more

'रक्षा-बंधन'

भाई-बहन की परिष्कृत प्रेम की गाथा ले आता है, जब-जब रक्षा-बंधन का त्यौहार आ जाता है | वो आंगन में खेलना साथ-साथ, कभी तु-तु,मै-मै, ... Read more

'व्यंग्य नेताओं पर '

बहुत हुआ अब व्यंग्य नेताओं पर, अब व्यंग्य नीज पर होनी चाहिए | जिस लोकतंत्र में, मालिक जनता हैं, उसमें भ्रष्ट कैसे? नेता हैं | ... Read more