पंकज भूषण पाठक प्रियम

गिरिडीह,झारखंड

Joined March 2018

विगत 20 वर्षों से लेखन और पत्रकारिता से जुड़े हैं।प्रारम्भिक स्कूली शिक्षा के समय से ही कविता,गज़ल,नाटक कहानी,लेख और निबन्ध लिखते रहे हैं।बचपन में रंगमंच पर भी अभिनय के लिए कई बार पुरस्कृत।विभिन्न विधाओं में सैकड़ों रचनाएं देशभर की पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशित। वर्ष 2001 से सक्रिय पत्रकारिता:-रांची एक्सप्रेस,दैनिक जागरण,हिन्दुस्तान,तरंग भर्ती,प्राइमरिपोर्ट,आकाशवाणी,ईटीवी,साधना,महुआ जैसे राष्ट्रीय व  क्षेत्रीय न्यूज चैनलों में कार्य का अनुभव। ‘बिगुल आजकल’ पत्रिका के प्रधान-संपादक। सम्प्रति झारखण्ड सरकार में संचार सलाहकार के रूप में कार्यरत और विभागीय पत्रिका “स्वच्छता प्रहरी” का संपादक । इसके अलावा कई पत्र-पत्रिकाओं का संपादन। कई डॉक्यूमेंट्री और लघु फ़िल्मों का निर्माण। स्थानीय फीचर फिल्मों के लिए भी लेखन और जनसम्पर्क कार्य। आकाशवाणी, रांची के समाचार एकांश में आ.संपादक,दूरदर्शन और रेडियो पर शोध-पत्र जारी। काव्य पाठ और मंच संचालन में भी सक्रिय भागीदारी। 

सम्मान 

* 11 वें अखिल भारतीय हिन्दी साहित्य सम्मेलन,ग़ाज़ियाबाद 2003 में  “साहित्य सेवी सम्मान” से अलंकृत। 
* हिन्द गौरव सम्मान,2018 (साहित्य संगम)
* साहित्य भूषण ,2018 (काव्य रंगोली)
* अंतरंग सम्मान,2018,(अंतरंग,प्रयागराज)
* काव्य सागर ,2018 ( साहित्य सागर)
* कविता बहार सम्मान, 2019 ( कविता बहार)
* अटल काव्य सम्मान, अप्रैल 2019,(आ.का.सा. मंच,सतना )
* अटल काव्य रत्न, मई 2019, (आ.का.सा. मंच,मध्यप्रदेश)
* साहित्य समिधा, जून 2019( रांची),झारखंड)

* स्वास्थ्य,स्वच्छता,शिक्षा एवं ग्रामीण विकास के क्षेत्र में सामाजिक सेवा। 

*पुस्तकें

1.प्रेमांजली(काव्य संग्रह,बुक बजुका)
2.अंतर्नाद(काव्य संग्रह,बुक बजुका)
3.लफ्ज़ समंदर(काव्य संग्रह, बुक बजुका)
4.मेरी रचना(साझा संग्रह,रवीना प्रकाशन)
5.नारी-एक आवाज़(साझा काव्य संग्रह,सत्यम प्रकाशन)
6.मुझे छूना है आसमां(साझा काव्य संग्रह,सत्यम प्रकाशन)
7.पीरियड्स:द रेड ब्लड स्टोरी(कहानी संग्रह,)
8. सफ़र ज़िंदगी(गज़ल संग्रह,अमेजॉन)
9.माँ (साझा संग्रह, साहित्य पीडिया)
10. बड़ी ख़बर(लघुकथा संग्रह,अमेजॉन)
11. इश्क़ समंदर( प्रेम काव्य संग्रह,अमेजॉन)
12. साहित्य समिधा(साझा संग्रह, दीया प्रकाशन)

Copy link to share

धारा 497

दोहे-कोर्ट का फैसला। निर्णय कैसा कर दिया,लेकर के संज्ञान। इक झटके में हर लिया,तूने सबके प्राण।। रिश्ते नाते बह गए,यौन तृप्ति... Read more