Copy link to share

मेरा फ़ोन तो उठा लो ।

पता नही, कब क्या हो जाये अब तो गुस्सा मिटा दो चलो, मैंने माफी मांग ली मुझ पर ही सब इल्ज़ाम लगा दो मिलेंगे तो , दो थप्पड़ भी लगा ... Read more

वह नारी है - वह नारी है - वह नारी है

वह पुष्प की तरह कोमल है जो सुख की नींद दे, वह मलमल है वह मौजो की रवानी है वह सपनों की रानी है वह हर किसी की चाहत है वह हर दर्द... Read more

मुक्तक

ऐ मेरे ईश्वर ! न शोहरत,न दौलत न सारे जहाँ का प्यार माँगता हूँ न गाड़ी न बंगला , न चाहत किसी का बेशुमार मांगता हूं बस इतनी सी द... Read more

कुछ तो बात होगी उसमे

मैं रोउ उससे पहले उसके आखों में आसूँ आ जाते हैं, मैं हसुँ उससे पहले ही ओ मुस्कुरा देता हैं , मेरे चेहरे की ... Read more

दिल कह रहा कि ताउम्र ऐसे तुझे देखता रहूँ।

दिल कह रहा कि ताउम्र ऐसे तुझे देखता रहूँ। तेरे बारे में दिन -रात मैं सोचता रहूँ। मासूम से ये चेहरा और उस... Read more

शैर-ए-धीरेन्द्र

मैं तो बेख़बर हूँ अपने आप से ,आजकल तुम्हे क्या हो गया है। क्यों हो उदास बताओ जरा , मैं ढूढ दू जो भी खो गया है। यह मेरी इश्क़ का खुम... Read more

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्ता हमारा।

सारे जहां से अच्छा हिंदुस्ता हमारा हम सब इसके पुजारी , यह है खुदा हमारा। और कुछ ना चाहूं ,बस यही है मेरी ने... Read more

माँ - एक उपहार

जगपालक ने जगपालन को जननी का उपहार दिया। उस दिनबंधु ने दिनों को माँ का एक आधार दिया ।। माँ के रहते कोई भी कभी भी भूखा सोया न , माँ... Read more

नयन कटीली कमिनी।

नयन कटीली कामिनी ,बड़े रसीले होंठ। जो देखे बेसुध होय, मन मा जागे खोट।। नयन कटीली कामिनी , कटि को कारो रंग। प्रेम सबन से करत है , ब... Read more

बचपन बीत गया------।

प्रेम भरा जीवन बीत गया धीरेन्द्र का नटखटपन बीत गया बचपन बीत गया--------। माँ के आँचल में नहीं आता न जाने कहाँ चला जाता अब अपने ... Read more

आओ योग दिवस मनाये

आओ योग दिवस मनाये स्वस्थ जीवन का लघु-सूत्र अपनाये, स्वच्छ बुद्धि निर्मल काया ,धीरेन्द्र ने है पाया करके योग स्वस्थ हो जाएं --... Read more

जय हिंद बोलिए

मातृभूमि के सम्मान के लिए सीमा पर डटे हर जवान के लिए खेत में लड़े उस किसान के लिए जय हिंद बोलिए... Read more

जुनून जगाइए

यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल, एक जुनून जगाना पड़ता है | पूछा चिड़िया से कैसे बना आशियाना बोली धीरेंद्र बनके तिनका तिनका उठाना प... Read more

जय हिंद

ना हारने का डर है ना जीतने का ख्वाब है वतन फरोशी की खातिर यह दिल बददिमाग है Read more

सफर आधुनिक भारत का

सफर में मैने भारत देखा , सफर में मैने भारत देखा | किसी घर में नही रही सीता, हर जगह मिलेंगी कट्रीना करीना और रेखा | सफर में मैने... Read more