Copy link to share

गुरु

गुरु ज्ञान है,प्रकाश है,ज्योति है, गुरु नैतिकता के धागो में पिरोया हुआ मोती है, गुरु वायु है, अम्बर है, अवनी है, शेष है,. गुरु ब्... Read more

वीर अभिमन्यु

जब कुरुक्षेत्र की समरभूमि में सर शैय्या पर भीष्म हुए , तब कुरु कलंक के नैनो में क्रोधाग्नि लगी और ग्रीष्म हुए , गुरुदेव बनेगे स... Read more

हरा हो गया ।

मन की निर्मल तरंगों से तर्पण करें जब भी अर्पण करें दिल का दर्पण करें वाटिका से चुने कुछ सुमन शब्द के आइए उनको सादर समर्पण कर... Read more

बनो तो सही

तुम जरा दीप माला बनो तो सही इक क्षुधा का निवाला बनो तो सही कंठ में ले लिया जिसने सारा गरल शिव नही पर शिवाला बनो तो सही माँ... Read more

मुस्करना ज़िन्दगी है

इस तरह की जिन्दगी को क्यों भला मैं जी रहा हु जानते हो क्या मिलेगा इस तरह की सादगी में क्या कभी गुलशन खिलेगें इन विरानी वादगी म... Read more

फौजी का पत्र 

एक वतन के रखवाले ने सबको आज सलाम लिखा है. सरहद पे आने से पहले पत्र वतन के नाम लिखा है. प्रथम चरण वंदन कर पितु का जाने का आदेश ल... Read more

कुत्तों की सभा

कुत्तों की सभा थी,सभी कुत्ते मौन थे,क्या आप जानते है ? ये कुत्ते कौन थे ? ये कुछ पढ़े लिखे कुत्ते थे । सब के सब बी.ए. पास थे ... Read more

हनुमान वंदना

यदि जीवन का पथ बाधित हो , ताम घोष दिखाई देता हो यदि सब विभाज्य हो गए, नहीं कुछ शेष दिखाई देता हो यदि अंतर्मन से चिर निद... Read more