Pammy Rajan

Joined November 2018

Copy link to share

धनिया की चटनी

धनिया की पत्तियों को तोड़ रही हूँ शब्दो को अपने बटोर रही हूँ लहसुन के छिलके हटाते हुए शब्दावलि से शब्द छाँटते हुए नमक मिला... Read more

डायरी क्या है

डायरी एक वजूद है, जब हम बिलकुल तन्हा होते है। डायरी एक दिलासा है, जब हम सभी ओर से हताश हो जाते है। डायरी एक सन्देश है, ... Read more

हसरत और जिंदगी

'हसरत' ने 'जिंदगी 'से आँचल से झांक कर पूछा- मै कब पूरी होऊंगी? जिंदगी ने कठोर लहजे में जबाब दिया- कभी नही। हसरत ने कहा - क्यों? ज... Read more

सन्नाटे का शोर

सूरज की रौशनी मंद हुई साझ फैली हर ओर रात का अँधेरा फैलेगा हर तरफ होगा ,सन्नाटे का शोर।। हर पथिक के बढ़ने लगे तेजी से कद... Read more

एक ख्वाब है

जिंदगी एक उठती हुई चक्रवात है दिन भी जैसे लगे अमावस की रात है देखा नही कभी अपने लिए प्यार को बरसते ये बसंत भी तो बस एक ख्व... Read more

माँ कैसी होती है?

माँ गमो का अंत होती है माँ खुशियो का सागर है माँ हँसी का सैलाब है माँ मुस्कुराहट की दीवानी है माँ दुखो का नाशक होती है माँ खुशि... Read more