Omi sen

Uttar pradesh

Joined June 2019

Iam fun loving, Love to read, love nature, like to adventures things.

Copy link to share

मुक्तक

दिल वाले दिल तोड़कर कहीं चले गए, बड़ी सरलता से लाचारी बता गए, जो देते थे कभी, दर्दे दिल की दवा, वही दवाखाना बन्द करके चले गए। Read more

मुक्तक

शहर में सब है, पर सुकून नहीं है, दिल कहीं है, और अरमान कहीं है, दिन गुजरते नहीं, हम काट रहे हैं, दूर रहकर जाना, कि गाँव सही है। Read more

गीत (तुमने क्या समझा था मुझको....

Omi sen गीत May 26, 2020
तुमने क्या समझा था मुझको अपनी यादों से भुला दोगी, आसां नहीं होगा इतना भी इश्क़ की खुद को सज़ा दोगी, इतने डरते थे इश्क से तो, यूँ ... Read more

हाइकु

* आग सी गर्मी साथ तुम्हारा ऐसा छांव हो तुम। * साख के पत्ते की तरह मैं नहीं जड़ जैसा हूँ। * तुम्हें नहीं है इश... Read more

घनाक्षरी

वीर तुम महान हो, प्रजा की ही पुकार हो, आगे आगे बढ़ चलो, दुश्मनों को मारने। तुमसे ही तो देश की, भविष्य और साख है, ये जमीं औ... Read more

दोहे

Omi sen दोहे May 26, 2020
जो मानस कोशिश करत, वह सफल होय जाय। जो तकते बस भाग को, जूठन पात व खाय।। * वचन ना बोलो मुह से, जो घात कर... Read more

हिंदी मेरी जान....

14 सिंतबर जन्मदिवस है, हजार वर्ष है उम्र तुम्हारी, समझने में जितनी सरल हो, उतनी सुंदर छवि तुम्हारी। सँस्कृत की तुम पीढ़ी हो, सँस्कृ... Read more

खाली पीरियड

दसवीं में, मैं(अतुल) और मेरे दो दोस्त 'दीपक' और 'संदीप' का ग्रुप होता था, संदीप को हम टोटो बुलाते थे, टोटो नाम उसका नोवीं की इंग्लिश... Read more

छंद

Omi sen दोहे Apr 17, 2020
चाँद, ख़्वाब, किताबें, यादें और तुम, एक से लगते हो, जितना देखूँ,पढूँ,महसूस करूँ,उतना सुकून मिलता है। Read more

छंद

Omi sen दोहे Apr 16, 2020
समुद्र सी यादें हैं तुम्हारी, लहरों सी ज़िद्दी हो तुम, फिर भी एक ही पल में पी जाने को जी चाहता है। Read more

कुदरत की मांग....

मौसम बिल्कुल साफ है, फिर भी हालात खिलाफ है , पहली बार कुदरदत का, खुद से खुद का मिलाप है। दोबारा जैसे कुदरत ने, अपने अस्तित्व को जन... Read more

छंद

Omi sen दोहे Apr 13, 2020
चेहरा तो मिल गया, मुझसे भी हसीन, चाहत भी मिल जाये, तब बात करना। Read more

यादों के सहारे....

हकीकत से दूर होकर, सपने में आने वाले, अब मुझे हर दिन, रात का इंतेज़ार रहता है। गुज़र जाती है शाम, तेरे ख्यालों में लेकिन, सपने में ... Read more

सेल्समैन

वैसे तो ज्यादातर खरीदारी मैं छोटी दुकानों या छोटे बाजार से ही करता हूँ, लेकिन जब भी मैं कभी किसी मॉल्स या बड़े बिग बाज़ार जैसे स्टोर स... Read more

जिम्मेदारी

थक गया हूं, जिम्मेदारियों का बोझ उठाते-उठाते,आखिर मेरी भी तो कुछ इक्छायें हैं। संतोष ने झल्लाकर अपनी माँ से कहा... पिताजी के गुजर ... Read more

हिचकी

हम थे इस गुमान में, कि याद वो अभी भी करते होंगे, लेकिन एक ख़त तो छोड़ो, कम्बख़्त हिचकी भी ना आई। Read more

पहला नम्बर....

ग़ैर दूसरे ऐसे लोग हैं, जिनसे भरोसा टूटता है, अपने, अभी भी पहले नम्बर पर है। ख़्वाहिश दूसरी ऐसी चीज़ है, जिससे दिल टूटता है, इश्क़, अ... Read more

छंद

Omi sen दोहे Mar 30, 2020
मैंने तुम्हें चाहा, मगर बदले में मुझे ना चाहने का, तुम्हारा हक था, लेकिन दिल टूटने के डर से, दिल लगाना तो नहीं छोड़ सकता। Read more

झंद

Omi sen दोहे Mar 30, 2020
तुम्हारे बदलने का अंदाज़ भी निराला था, मौसम भी हैरान रह गया, ये अदा देखकर। Read more

शायरी

Omi sen दोहे Mar 28, 2020
यादों के धागे में पिरोये थे, तेरे साथ बिताये हुए हर पल, अचानक आंखें खुली, और सारे मोती बिखर से गये। Read more

तुम बदल गयी हो.....

तुमने तो कहा था, हर धड़कन पे तुम्हें याद करूँगी, तुम बदल गयी हो या, दिल ने धड़कना छोड़ दिया। तुमने कहा था कि आईने में खुद से पहले तु... Read more

तेरा मिलना

तुम्हारा हर बार ना मिलने का बहाना बनाना, और कभी मिले भी तो, अहसान सा जताना, इस बार मिलने की सिर्फ एक ही शर्त रखेंगे, अपने-अपने मो... Read more

तेरा इंतज़ार

आपके आने की यूँ ख़बर तो हमें ना थी, मग़र दिल में इन्तेजार, मुद्दतों का भरा रहा। सोचा तुझे देखकर, बेपरवाह सा हुआ जाए, मगर देखकर अनद... Read more

मेरे सपनें

Omi sen लेख Jun 5, 2019
काश सपनें सच हो पाते, तो इस संसार में कोई भी निराश व हताश नहीं रहता। जो हमें चाहिए और जो हम हासिल नहीं कर पाते, उनके बीच के द्वंद को... Read more