लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण रेडिओ विविध भरती जालन्धर से कहानी- अनन्त आकाश का प्रसारण | ब्लाग- www.veerbahuti.blogspot.in

Copy link to share

खुशी से जिसे था गले से लगाया। गजल ।

खुशी से जिसे था गले से लगाया उसी ने मुझे दर्द दे कर रुलाया बहे अश्क तो भी सभी से छुपाए धुंएं का तो उनसे बहाना बनाया भले आजमा... Read more

गज़ल

खुशी से जिसे था गले से लगाया उसी ने मुझे दर्द दे कर रुलाया बहे अश्क तो भी सभी से छुपाए धुंएं का तो उनसे बहाना बनाया भले आजमा... Read more

खुद को चोट लगाये कौन ------ गज़ल

खुद को चोट लगाये कौन पत्थर से टकराये कौन दिल ये नित नित मांगे और इस दिल को समझाये कौन सब अपनी दुनिया मे मस्त इक दूजे के... Read more

कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं------- गज़ल

कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं बहुत टूटी मगर बिखरी नहीं मैं बड़े दुख दर्द झेले जिंदगी में मैं थकती हूँ मगर रुकती नहीं मैं ... Read more

सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल--- दोहे

सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस घोल रिश्ते नातों को छोड कर चलता बना विदेश डालर देख ललक बढी ... Read more

जीवन में कुछ खोया भी ----- गज़ल

जीवन में कुछ खोया भी लेकिन ज्यादा पाया भी नफरत की चिंगारी फेंक लोगों ने भड़काया भी उसके शिकवे सुन कर कुछ अपना दर्द सुनाया भी... Read more

दोहरे मापदंड --कहानी--- निर्मला कपिला

दोहरे मापदंड --कहानी *देख कैसी बेशर्म है? टुकर टुकर जवाब दिये जा रही है।भगवान का शुक्र नहीं करती कि किसी शरीफ आदमी ने इसे ब्याह ल... Read more

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया --- गज़ल

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया अब लौट कर न आएगा कहकर चला गया कैसे पकड़ सके जिसे रब ने बचा लिया पैकान से परिंदा जो उड कर... Read more

अगरचे मैला साधू संत का किरदार हो जाये---- गज़ल

अगरचे मैला साधू संत का किरदार हो जाये तो मजहब धर्म सब उसके लिये व्यापार हो जाए लडाई हक की जो लडता रहा ताउम्र दुनिया मे वो आ... Read more

कवच ------कहानी --निर्मला कपिला

कवच ------कहानी पडोस के घर के बाहर कोई ऊँचे ऊँचे गालियाँ बक रहा था।मैं बाहर निकली तो देखा उनका दामाद दीपक था जो नशे मे था और उनके... Read more

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है उजड जाये अगर गुलशन हमेशा दिल सिसकता है जमाने भर की बातें हैं कई शिकवे गिले दिल के सुन... Read more

रदीफों की वफा हो हासिलों से---- गज़ल

रदीफों की वफा हो हासिलों से गज़ल का नूर होता काफिओं से वही जाते सलामत मंजिलों तक जो करते प्यार हैं अपने परों से न बच्चों को ज... Read more

हाइकु

हाईकु साथ जो छूटा आसमान से जैसे तारा हो टूटा खून पसीना बहाता है किसान फिर दे जान? आँगन मे मेरे आया है... Read more

रुबाइ गज़ल गुनगुनाने की रातें ----- गज़ल

---- रुबाइ गज़ल गुनगुनाने की रातें उसे हाल दिल का सुनाने की रातें वो छूना छुआना नज़र को बचा कर शरारत अदायें दिखाने की रातें ... Read more

जीवन में कुछ खोया भी ----- गज़ल

जीवन में कुछ खोया भी लेकिन ज्यादा पाया भी नफरत की चिंगारी फेंक लोगों ने भड़काया भी उसके शिकवे सुन कर कुछ अपना दर्द सुनाया भी... Read more

वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है -- गज़ल

यशोद्धा खाने को मक्खन का प्याला छोड़ देती है न रूठे शाम, हाथों की वो माला छोड़ देती है छठा सावन की लाती है बहारें,झूमता गुलशन ... Read more

वक्त के पाँव-------------------- (कहानी )

वक्त के पाँव (कहानी ) गाँव की मिट्टी की सोंधी खुश्बू मे जाने कैसी कशिश थी कि इस बार खुद को अपने गाँव भारत आने से रोक नहीं पाई... Read more

मिड -डे मील ------ कविता

मिड -डे मील पुराने फटे से टाट पर स्कूल के पेड के नीचे बैठे हैं कुछ गरीब बस्ती के बच्चे कपडों के नाम पर पहने हैं बनि... Read more

हवा का झोँका - (कहानी )

एक सत्य कथा पर आधारित जो आज भी जीवित हैं लेकिन आज के समय मे ऎसे व्यक्तित्व दुर्लभ मिलेंगे 1 हवा का झोँका - (कहानी ) सोचती हूँ ... Read more

आस्तित्व ------ कहानी --- निर्मला कपिला

आस्तित्व कागज़ का एक टुकडा क्या इतना स़क्षम हो सकता है कि एक पल में किसी के जीवन भर की आस्था को खत्म कर दे1मेरे सामने पडे कागज... Read more

गज़ल गुलकन्द सी मीठी लगे अन्दाज प्यारा है ---- गज़ल

गज़ल गुलकन्द सी मीठी लगे अन्दाज प्यारा है अदावत है लियाकत है मुहब्बत से सँवारा है हमारी प्यास ढूंढे रोज सागर प्यार के गहरे म... Read more

भूख ---- लघु कथा

भूख लघु कथा मनूर जैसा काला, तमतमाया चेहरा,धूँयाँ सी मटमैली आँखें,पीडे हुये गन्ने जैसा सूखा शरीर ,साथ मे पतले से बीमार बच्चे का... Read more

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया --- गज़ल

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया अब लौट कर न आएगा कहकर चला गया कैसे पकड़ सके जिसे रब ने बचा लिया पैकान से परिंदा जो उड कर... Read more

ज़िन्दगी को मनाओ खुशी की तरह--- गज़ल

ज़िन्दगी को मनाओ खुशी की तरह झेलो' गम को जरा दिल्लगी की तरह कुछ इनायते' मिली कुछ जलालत सही वक्त आया गया रोशनी की तरह रोज चलता... Read more

मैं नेता बनूंगा -- कविता--- हास्य व्यंग

मैं नेता बनूंगा एक दिन बेटे से पूछा ;बेटा क्या बनोगे?: कौन सा प्रोफेश्न अपनाओगे,किस राह पर जाओगे वह थोडा हिचकिचाया,फिर मुस्... Read more

निकल कर कहां से ये आई खबर---- गज़ल

निकल कर कहां से ये आई खबर मै ज़िन्दा हूँ किस ने उडाई खबर हवा मे हैं सरगोशियां चार सू न दे पर किसी को दिखाई खबर किसी के यहां ज... Read more

माँ की संदूकची -----कविता

माँ की संदूकची माँ तेरी सीख की संदूकची, कितना कुछ होता था इस मे तेरे आँचल की छाँव की कुछ कतलियाँ ममता से भरी कुछ किरणे ... Read more

दोहे

सब धर्मों से ही बडा देश प्रेम को मान सोने की चिडिया बने भारत देश महान । शाम तुझे पुकार रही सखियाँ करें विलाप पूछ रही रो ... Read more

व्यंग -- बुढापे की चिन्ता समाप्त ये व्यंग 3 /10/10 का है लेकिन इस बार फिर उम्मीद जगी है[ कल सपना जो आया!

व्यंग -- बुढापे की चिन्ता समाप्त आज कल मुझे अपने भविष्य की चिन्ता फिर से सताने लगी है। पहले 20 के बाद माँ बाप ने कहा अब जाओ ससुरा... Read more

दिल से एक पन्ना------------- संस्मरण

दिल से एक पन्ना------------- संस्मरण एक दिन अपनी एमरजेन्सी ड्यूटी पर् थी सुबह से कोई केस नहीं आया था ऐसे मे मैं किताबें पढती रह... Read more

प्रेम सेतु (कहानी ) -----मेरी पुस्तक प्रेम सेतु से

प्रेम सेतु (कहानी ) -----मेरी पुस्तक प्रेम सेतु से जीना तो कोइ पटेल परिवार से सीखे1 जीवन रूपी पतँग को प्यार की डोर से गूँथ कर ऐ... Read more

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या ---- गज़ल -निर्मला कपिला

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या मिली तकदीर से हम्को सजा क्या बेटियां मां बाप से जब दूर जातीं बिना उनके जिगर मे टूटता क्या ... Read more

गज़ल----- निर्मला कपिला उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं

गज़ल----- निर्मला कपिला उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं वक्त की सौगात ले कर छल रहे हैं ढूंढते हैं नित नया सूरज जहां मे ख्वाबो... Read more

नई सुबह - कहानी -- निर्मला कपिला1

नई सुबह - कहानी -- निर्मला कपिला1 आज मन बहुत खिन्न था।सुबह भाग दौड करते हुये काम निपटाने मे 9 बज गये। तैयार हुयी पर्स उठाया, आफिस... Read more

अखिर क्यों---- कविता ये 2010 मे लिखी गयी कविता आज भी उतनी ही प्रासंगिक है

अखिर क्यों---- ये 2010 मे लिखी गयी कविता आज भी उतनी ही प्रासंगिक है विस्फोटों की भरमार क्यों है दुविधा में सरकार क्यों है आत... Read more

सुखदा------ कहानी

कहानी इस कहानी मे घटनायें सत्य हैं मगर पात्र आदि बदल दिये गये है। ओझा वाली घटना एक पढे लिखे और मेडिकल प्रोफेशन मे काम करने वाले आ... Read more

कहानी--- गुरू मन्त्र---- निर्मला कपिला

कहानी--- गुरू मन्त्र---- निर्मला कपिला मदन लाल ध्यान ने संध्या को टेलिवीजन के सामने बैठी देख रहें हैं । कितनी दुबली हो गई है । स... Read more

दोहे

सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस घोल रिश्ते नातों को छोड कर चलता बना विदेश डालर देख ललक बढी ... Read more

नाराज़ वो क्यों बैठे हैं एक गिला ले कर ---- गज़ल

गज़ल नाराज़ वो क्यों बैठे हैं एक गिला ले कर कह दें तो चले जायें गे उसकी सजा लेकर दौलत शोहरत दोनो मंज़िल ही नही मेरी जीना हैखु... Read more

बेखुदी मे अश्क आँखों से बहाता ही रहा मै - गज़ल

गज़ल बेखुदी मे अश्क आँखों से बहाता ही रहा मै सह लिया खुद दर्द लोगों को हसाता ही रहा मै देख अन्जामे मुहब्बत आज भी हैरान स... Read more

पूर्व पर पश्चिम का लिबास कैसा विरोधाभास ?

कविता पूर्व पर पश्चिम का लिबास कैसा विरोधाभास ? श्रद्धा हो गयी लुप्त रह गया केवल् श्राद्ध आभार पर हो गया अधिकार का हक सम्... Read more

क्या होता है बचपन ऐसा

कविता मम्मी से सुनी उसके बचपन की कहानी सुन कर हुई बडी हैरानी क्या होता है बचपन ऐसा उड्ती फिरती तितली जैसा मेरे कागज की तितली... Read more

ऎ वरदा ऎ सौभाग्य वती,--- कविता

आजादी ऎ वरदा ऎ सौभाग्य वती, तेरे अपने घर मे तेरा व्यपार् तेरा तिरस्कार् तेरी पीडा बड्ती जा रही है. मैं अपनी असमर्थता ... Read more

मृ्ग अभिलाशा ---हम विकास की ओर !--कविता [सुबह से पहले काव्य संग्र्ह से

( कविता ) मृ्ग अभिलाशा हम विकास की ओर ! किस मापदंड मे? वास्तविक्ता या पाखन्ड मे ! तृ्ष्णाओं के सम्मोहन मे या प्रकृ्ति के द... Read more

बदल जायेगी तकदीर----- कविता

बदल जायेगी तकदीर श्रम और आत्म विश्वास हैं ऐसे संकल्प मंजिल पाने के लिये नहीं कोई और विकल्प पौ फटने से पहले का घना अँधेर... Read more

भगत सिंह का क्षोभ---- सुनो मेरी आत्मा की आवाज

भगत सिंह का क्षोभ आँखोंसे बहती अश्रुधारा को केसे रोकूं आत्मा से उठती़क्षोभ की ज्वाला को केसे रोकू खून के बदले मिली आजादी की ... Read more

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं गज़ल

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं कभी बेचैन लगते हैं कभी नादान लगते है जहानत ही नहीं काफी ज़माना जीतना हो तो झुके सर तो म... Read more

कहानी------ कर्जदार

कर्ज़दार--कहानी "माँ मैने तुम्हारे साम्राज्य पर किसी का भी अधिकार नही होने दिया इस तरह से शायद मैने दूध का कर्ज़ चुका दिया है"---- ... Read more

चाहतों की लाश सडती मुफ्लिसी के सामने -- गज़ल

चाहतों की लाश सड़ती मुफलिसी के सामने ज़िंदगी सहमी रही उस बेबसी के सामने ताब अश्कों की नदी की सह न पायेगा कभी इक समन्दर कम पडेग... Read more

*इन्विट्रो फर्टेलाईजेशन* के साईड एफेक्ट पर एक कहानी

*इन्विट्रो फर्टेलाईजेशन* जैसे अविष्कार ने आज कल जिस तरह एक व्यापार का रूप ले लिया है,जैसे कि कुछ लोग तो सही मे औलाद चाहते हैं इस लिय... Read more