Suresh Bhardwaj Nirash

Dharamsala Himachal Pradrsh

Joined May 2020

A poet writer

Copy link to share

ग़ज़ल

1212 1122. 1212 112/22 ग़ज़ल बुरा है वक्त ये आओ दुआ की बात करें ख़ुदा तो सबका है उसकी रज़ा की बात करें है दूर दर ख़ुदा का जायें ह... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल 2122. 2122. 2122. 2122 जीने को साँसे भी देगा पैदा यूँ जिसने किया है आगे उसके सिर झुका जीवन तुझे उसने दिया है वक्त की... Read more

ग़ज़ल

1212. 1122. 1212. 22 ग़ज़ल नज़र कभी हमीं से तुम चुरा के मत रखना यों दूर आँखों से अपनी बसा के मत रखना जो बस्ती यों जली थी वो हमार... Read more