Neeraj Ojha

Indore.

Joined August 2018

पेशे से एक इंजीनियर हूं । पढाई इंग्लिश में की है । पर सोच हिंदी में है, लिखना हिंदी में अच्छा लगता है, अपने भाव हिंदी में व्यक्त करता हूं, दिल से हिंदी हूं । में कोई कवि नहीं, ग़ज़लकार नहीं, कोई शायर भी नहीं हूँ । लेकिन फिर भी अपने शब्दों को एक कागज पर उतारना अच्छा लगता है।

Copy link to share

तुम्हारी याद ।

शांत पानी में पत्थर फेक तुमने उसमे हलचल मचा दिल, शांत था हमारा दिल कुछ इस तरह तुम यु दगा दी, कल आज, आज कल करते करते यहाँ सालो बीत ... Read more

क्या वो भी मुझे चाहती है ?

इश्क़ की इस गली में कही खो सा गया हूं, खुली आँखों से जैसे सो सा गया हूं, ना चैन है, न सुकून, न दिन रात दिखते है, पता नहीं क्यों लो... Read more