आत्मा ओर परमात्मा

आत्मा ओर परमात्मा आज जब मैं भरी पूरी जवान होकर आई हूँ सजधज प्रिये तुम्हारे सामने तुमने नजरें झुकाली क्यों ? क्या अब वह टकटक... Read more

गरीब बुढिया

गरीब बुढिया फटे हाल कपडे हाथ में टूटी-सी छडी वह गरीब बुढिया जब भीख मांगने को चली तब ललचाई आंखों ने उसे देखकर भीख देना तो ... Read more

मैं

मैं मानता हूँ मैं कि सांवला जरूर हूँ। मगर मन का मैं बिल्कुल शीशा हूँ । बेदाग ओर स्वच्छ तुरत का बना हुआ साफ पानी से धुला ... Read more

तुम्हारा शौंदर्य

तुम्हारा शौंदर्य तेरी आँखें तेरा चेहरा उतर गया सीने अंदर तोड कर सारा पहरा चेहरे पर मद भरी नशीली आँखें नुकीली नाक ला... Read more

मांग

मांग कॉलेज के पिछे वाले ग्राऊंड में बहुत सारे पेड़ों के बीच एक लंबे-चौड़े छाया वाले पेड़ के नीचे सुमन किसी का इंतजार करते हुए बार... Read more

बदलाव

बदलाव वह औरत जिसका नाम कमला था । आज तो मुझे किसी भी किमत पर नही छोड़ने वाली थी । क्योंकि सुबह से ही हर किसी इंसान से या गली से गु... Read more

लाचार औरत

लाचार औरत फटे हुए कपड़ों हालत उसकी खस्ता शायद वह औरत जो थी भाग्य की मारी शायद वह औरत बेचारी बहुत ही गरीब थी पति तो उसका शा... Read more

तुम्हारा शौंदर्य

तुम्हारा शौंदर्य तेरी आँखें तेरा चेहरा उतर गया सीने अंदर तोड कर सारा पहरा चेहरे पर मद भरी नशीली आँखें नुकीली नाक ला... Read more